Koshi Live-कोशी लाइव BIHAR:रिंटू सिंह की हत्या में मंत्री लेसी पर लगे आरोप:पूर्णिया में परिजनों ने किया हंगामा; तेजस्वी बोले- पुलिस निभा रही कार्यकर्ता का फर्ज - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

Translate

Saturday, November 13, 2021

BIHAR:रिंटू सिंह की हत्या में मंत्री लेसी पर लगे आरोप:पूर्णिया में परिजनों ने किया हंगामा; तेजस्वी बोले- पुलिस निभा रही कार्यकर्ता का फर्ज


पूर्णिया के चंबल कहे जाने वाले सरसी में शुक्रवार शाम हुई विश्वजीत सिंह की हत्या के बाद पटना तक राजनीति गरमा गई है। हत्या का आरोप बिहार सरकार में मंत्री और धमदाहा विधायक लेसी सिंह पर लग रहा है। लेसी का नाम आते ही नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी सत्ताधारी पार्टी JDU पर हमलावर हो गए हैं।

इधर, विश्वजीत सिंह उर्फ रिंटू सिंह के परिजनों ने शनिवार को सरसी थाना के पास शव रखकर प्रदर्शन किया। उनका कहना है कि जब तक हत्यारों की गिरफ्तारी नहीं होती है, तब तक न शव का पोस्टमॉर्टम होने देंगे और न अंतिम संस्कार करेंगे। उनका कहना है कि पहले मंत्री लेसी सिंह यहां आएं और परिवार को देखें। इसके बाद ही शव का अंतिम संस्कार सरसी थाना में ही होगा।

विश्वजीत सिंह जिला परिषद् सदस्य अनुलिका सिंह के पति थे और खुद भी जिला परिषद् सदस्य रह चुके थे। आगे वह विधानसभा चुनाव लड़ने की भी तैयारी कर रहे थे। आक्रोशित लोगों को समझाने पहुंचे SP दयाशंकर को भी लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा। उन्होंने तत्काल सरसी थानाध्यक्ष नरेश कुमार को सस्पेंड कर दिया है।

पूर्णिया में थाने के पास जिला पार्षद पति विश्वजीत सिंह की हत्या, 10 दिन पहले बचे थे

आगजनी और हंगामा करते लोग।
आगजनी और हंगामा करते लोग।
शव के साथ परिजन।
शव के साथ परिजन।

तेजस्वी ने कहा - पुलिस निभा रही कार्यकर्ता का फर्ज

मंत्री लेसी सिंह का नाम आते ही नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने विश्वजीत सिंह द्वारा 3 नवंबर को थाना में दिए गए आवेदन के साथ सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि पूर्णिया के नवनिर्वाचित जिला परिषद ने बिहार पुलिस अर्थात् JDU पुलिस सह कार्यकर्ता को लिखित शिकायत की थी कि JDU की बिहार सरकार में मंत्री लेसी सिंह का भतीजा उनकी हत्या करवा सकता है, लेकिन JDU पुलिस अपना कार्यकर्ता वाला फर्ज निभाने में तत्पर रही और उसकी हत्या हो गई।

‪बिहार से अच्छा कानून का राज कहीं होगा क्या, जहां पुलिस ही नागरिकों और निर्वाचित विपक्षी जनप्रतिनिधियों की हत्या करवाती हो, जहां पुलिस ही शराब की तस्करी करती हो, जहां पुलिस ही थानों से शराब बेचती हो, जहां पुलिस सत्ताधारी दल के कार्यकर्ता के रूप मेन कार्य करती हो?‬

3 नवंबर को थाना में दिया गया आवेदन।
3 नवंबर को थाना में दिया गया आवेदन।

आरोपों पर स्थानीय JDU नेता की सफाई

इस संबंध में दैनिक भास्कर ने मंत्री लेसी सिंह का पक्ष जानने की कोशिश की, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका। इसके बाद JDU के प्रदेश महासचिव आशीष कुमार बब्बू ने बताया कि लेसी सिंह पर लगाया गया आरोप बेबुनियाद और झूठा है। पंचायत चुनाव में मृतक की पत्नी अनुलिका सिंह सात हजार वोट से जीती है। उनके विरोधियों से ही प्रतिस्पर्धा थी। जबकि लेसी सिंह को इस जीत हार से कोई लेना-देना नहीं है। विपक्ष के लोग बदनाम करने के नीयत से झूठा आरोप लगाया गया है।

इन आरोपों पर SP दया शंकर ने बताया कि मामले की जांच चल रही है। परिजनों के बयान के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

एसपी दया शंकर।
एसपी दया शंकर।

हंगामे-प्रदर्शन के बाद पोस्टमॉर्टम को भेजा गया शव

रिंटू सिंह के परिजनों व समर्थकों ने सुबह से ही सरसी थाना के पास सड़क जाम कर दी। आगजनी की और पुलिस-प्रशासन के खिलाफ नारे लगाए। परिजनों का कहना था कि हत्या थाना के पास हुई है। अंतिम संस्कार भी थाना कैंपस में ही होगा। हालांकि, बाद में वहां पहुंचे पूर्णिया SP दया शंकर ने किसी तरह लोगों को समझाकर जाम हटवाया। साथ ही शव को भी पोस्टमॉर्टम के लिए सदर अस्पताल भेजा गया।

परिजनों ने लगाया मंत्री पर आरोप

मृतक के पिता मनोज सिंह, पत्नी अनुलिका सिंह और मां ने बताया कि साजिश के तहत रिंटू की हत्या हुई है। पुलिस ने यदि मामले को गंभीरता से लिया होता तो आज रिंटू की हत्या नहीं होती। अनुलिका सिंह ने बताया कि उनके पति रिंटू सिंह साल 2015 में भारी बहुमत से जिप सदस्य पद पर जीते थे। इस बार मुझे जिप सदस्य पद पर उतारा गया और मैंने सात हजार से भी अधिक मतों से जीत हासिल की है।

कहा कि पति रिंटू सिंह खुद धमदाहा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने की तैयारी में जुटे थे। क्षेत्र में स्थिति मजबूत होने के कारण यह बात विरोधियों को नहीं पची और साजिश के तहत हत्या करा दिया गया। इसमें मंत्री लेसी सिंह व उनके लोग शामिल हैं।

सरसी थाना क्षेत्र में 16 साल के अंदर 150 लोगों की हत्या

रिंटू सिंह के पिता मनोज सिंह ने भावविभोर होकर बताया कि सरसी थाना क्षेत्र में पिछले 15 वर्षों के अंदर 150 लोगों की हत्या हुई है। हत्या सिर्फ राजनीतिक रंजिश के वजह से हुई है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में जो भी विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी करते हैं, उसकी हत्या करवा दी जाती है। इसके पीछे सत्ताधारी पार्टी के लोगों की साजिश है।

Followers

MGID

Shivesh Mishra

Koshi Live News