Koshi Live-कोशी लाइव मधेपुरा के पूर्व डीईओ, डीपीओ और बीईओ पर कार्रवाई तय, 27 लाख गबन मामले में आई जांच रिपोर्ट - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Monday, October 4, 2021

मधेपुरा के पूर्व डीईओ, डीपीओ और बीईओ पर कार्रवाई तय, 27 लाख गबन मामले में आई जांच रिपोर्ट


मधेपुरा। कुमारखंड के दो स्कूलों में अवैध रूप से कार्यरत दो शिक्षिका का वेतनादि मामले में निकाली गई राशि की जांच डीएसपी अजय कुमार यादव ने की है। इसमें पूर्व डीईओ उग्रेस नारायण मंडल, पूर्व डीपीओ केएन सादा, बीईओ यदुवंश यादव सहित स्थापना में कार्यरत रजनीकांत राय, डीईओ के वरीय लिपिक संजय सिंह व अन्य को दोषी पाया है।
अनुसंधान में डीएसपी ने बीईओ यदुवंश यादव व डीपीओ कार्यालय में कार्यरत रजनीकांत को किंगपीन माना है।

मामले को डीएम ने गंभीरता से लेते हुए सभी आरोपित पदाधिकारियों पर कार्रवाई का निर्देश दिया है। पूरे मामले में डीएम ने डीईओ को निर्देश देते हुए कहा कि शिक्षिका बीबी रहमत परवीन व कुमारी नूतन का गलत तरीके से वेतन भुगतान कराने में दोनों विद्यालय के तत्कालीन एचएम प्रशांत कुमार तथा बाबी को दोषी पाया है। पत्र में कहा कि दोनों के मिलीभगत से भुगतान किया गया है। डीएम ने डीईओ को निर्देश देते हुए कहा कि पूर्व जिला कार्यक्रम पदाधिकारी के हस्ताक्षर से की गई राशि के संबंध में स्पष्टीकरण पूछते हुए सभी आरोपियों पर अनुशासनिक व विभागीय कार्रवाई करते हुए भुगतान की राशि की वसूली के लिए वैधानिक कार्रवाई की जाए।

2010 से कार्यरत थी दोनों फर्जी शिक्षिका

दोनों शिक्षक 2010 से कागज पर कार्यरत थी। यह मामला संज्ञान में आने के बाद पहले अपीलिय प्राधिकार में मामला दर्ज किया गया। मामला सही पाए जाने पर इस बाबत दोनो के विरूद्ध केस दर्ज करने का आदेश दिया गया। इस मामले में इसके लिए बनाई गई जांच टीम के सर्वेक्षणकर्ता सदर डीएसपी अजय नारायण यादव ने अपना प्रतिवेदन समर्पित कर दिया है।

मालूम हो कि इस कांड के सूचक तत्कालीन बीईओ कुमार गुणानंद ङ्क्षसह ने 25 फरवरी 21 को मंगवारा कुमारखंड स्थित प्राथमिक विद्यालय रहटा के फर्जी शिक्षिका बीवी राहमत परवीन व उत्क्रमित मध्य विद्यालय गोपी पुर पंचायत मंगवारा के फर्जी शिक्षिका कुमारी नूतन द्वारा लगभग 27 लाख रुपया की अवैध निकासी को सही पाया था। इस मामले में बीईओ ने 14 अगस्त 2020 के जांच प्रतिवेदन के आधार पर बीवी रहमत परवीन व कुमारी नूतन के विरूद्ध केस दर्ज करवाया था।

सभी शिक्षक व पदाधिकारी का हुआ था बयान दर्ज

साक्ष्य में तत्कालीन प्रभारी प्रधानाध्यापिका बाबी ने अपने बयान में बताया कि कुमारी नूतन कभी भी उनके कार्यकाल में स्कूल नहीं आई। कुमारी नूतन का घर श्रीनगर में है। अभी वर्तमान में कहीं शिक्षिका नहीं है। अनुपस्थिति प्रत्येक महीना में एक बार प्रखंड जमा किया जाता है। वहां से वेतन शिक्षक के खाते में जाता है।

फर्जी शिक्षिका नूतन कुमारी द्वारा उनका फर्जी हस्ताक्षर बनाकर बीआरसी कुमारखंड को अब्सेंट बनाकर भेजा गया, जो गलत था। यह मेरे उत्क्रमित मध्य विद्यालय गोपीपुर से निर्गत नहीं था। स्कूल से वर्ष 2020 में निर्गत पत्रांक संख्या एक से 14 तक निर्गत है जबकि कुमारी नूतन द्वारा पत्रांक में 55 दिखलाया गया है। साक्ष्य में जांच पदाधिकारी को भी लिखित रूप से कुमारी नूतन द्वारा विद्यालय में योगदान नहीं होने की बात कही तथा वेतन आदि का भुगतान कैसे और किस परिस्थिति में की गई है, इसकी अनभिज्ञता प्रकट की गई।

स्थापना के कर्मी की भूमिका केंद्र में

डीएसपी को दिए गए गवाह में डीईओ कार्यालय में कार्यरत वरीय लिपिक संजय ङ्क्षसह ने बताया कि तत्कालीन डीईओ उग्रेश प्रसाद मंडल के द्वारा ही भुगतान का आदेश दिया गया। इसमें कार्यालय सहायक के रूप में डीपीओ स्थापना में कार्यरत रजनीकांत व भोला प्रसाद थे। इन दोनों का ही संचिका पर हस्ताक्षर है। 28 फरवरी 2020 को डीईओ के सेवानिवृत्त होने के बाद डीपीओ में पदस्थापित केएन सादा के निर्देश पर डीपीओ कार्यालय पदस्थापित लिपिक रजनीकांत के द्वारा एक माह के बाद 1,35,594 व 13 लाख 45 हजार 43 का भुगतान किया गया।

इस मामले में बताया कि तत्कालीन बीईओ के रूप में पदस्थापित यदुवंशी यादव मुख्य भूमिका में थे। सभी जगह गलत पेपर बनवाने में व पैसे का भुगतान में यदुवंशी यादव की भूमिका थी। बीईओ यदुवंश यादव ने राशि अपने बेटे के खाते में डलवाया लिया था। वहीं इस मामले के अहम गवाह में शामिल व मामले के आरोपित पूर्व डीपीओ केएन सादा ने बताया कि बीईओ कार्यालय से अनुपस्थिति के आधार पर एडवाइस आता, उसके पश्चात क्लर्क रजनीकांत के द्वारा नियोजन इकाई के माध्यम से भुगतान किया जाता था। इस मामले में रजनीकांत व यदुवंशी यादव मिलकर ही सारा षड्यंत्र रचा है।

पूरे मामले में डीएम के आदेश का गंभीरता से पालन करते हुए दोषी के विरूद्ध रिकवरी के लिए तैयारी की जा रही है। वीरेंद्र नारायण यादव, डीईओ, मधेपुरा

Followers

MGID

Koshi Live News