Koshi Live-कोशी लाइव Earthquake in Bihar: बिहार में भूकंप के झटके, रिक्‍टर स्‍केल पर 5.4 मापी गई तीव्रता - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

Translate

Monday, April 5, 2021

Earthquake in Bihar: बिहार में भूकंप के झटके, रिक्‍टर स्‍केल पर 5.4 मापी गई तीव्रता

Earthquake in Bihar: बिहार में भूकंप के झटके, पटना में सड़कों पर आए लोग:

>कोशी लाइव-live अपडेट....
भूकंप का केंद्र सिक्किम की राजधानी गंगटोक से 25 किमी पूर्व और उत्तर पूर्व की तरफ जमीन में 10 किलोमीटर की गहराई पर था।


भूकंप का केंद्र सिक्किम की राजधानी गंगटोक से 25 किमी पूर्व और उत्तर पूर्व की तरफ जमीन में 10 किलोमीटर की गहराई पर था।
मौसम विभाग के अनुसार भूकंप का केंद्र सिक्किम-नेपाल बॉर्डर बताया जा रहा है। रात आठ बजकर 49 मिनट पर आए भूकंप की तीव्रता रिक्‍टर स्‍केल पर 5.4 मापी गई। 

बिहार के सीमांचल के इलाके में सोमवार की रात 8:53 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। प्रारंभिक जानकारी के अनुसार अररिया, मुंगेर, सुपौल, मधेपुरा और कटिहार के कुछ भागों में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। अभी तक कहीं से भी जान माल के नुकसान की खबर नहीं आ मिली है। 

भूकंप का केंद्र सिक्किम-नेपाल बॉर्डर पर बताया गया है। रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 5.4 मापी गई है। राजधानी पटना में भूकंप का आंशिक असर रहा है। 
मौसम विज्ञान केंद्र पटना के निदेशक विवेक सिन्हा ने बताया कि बिहार के सीमांचल के इलाके में इसकी तीव्रता थोड़ी ज्यादा महसूस हुई है।


जानकारी के अनुसार कोसी-सीमांचल और पूर्वी बिहार के कई जिलों में सोमवार रात 8.53 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। चंद सेकेंड के दरम्यान दो बार धरती डोली। कई इलाकों में लोग घरों से बाहर निकल गए।

भागलपुर से सटे झारखंड के साहिबगंज जिले में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए। सुपौल, कटिहार, मधेपुरा, पूर्णिया, मुंगेर, बांका, लखीसराय और भागलपुर में भूकंप के झटके आने की सूचना है। इसकी तीव्रता कितनी थी और केंद्र कहां था, इस विवरण का इंतजार किया जा रहा है।
बिहार ऑनलाइन डेस्क, पटना। बिहार में सोमवार की रात भूकंप के झटके महसूस किए गए। राज्य के कई शहरों में झटके महसूस किए गए हैं। राजधानी पटना के अलावा पूर्णिया,मधेपुरा, भागलपुर अररिया और किशनगंज में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं।
 


Earthquake : असम, बिहार और पश्चिम बंगाल में भूकंप के तगड़े झटके, रिक्‍टर स्‍केल पर 5.4 मापी गई तीव्रता



नई दिल्‍ली, एजेंसियां। असम, बिहार और पश्चिम बंगाल में भूकंप के तगड़े झटके महसूस किए गए हैं। भूकंप के तगड़ झटकों से लोग डरकर घरों से बाहर निकल आए। नेशनल सेंटर फॉर सिस्‍मोलॉजी के मुताबिक सिक्किम नेपाल सीमा पर भी भूकंप के तगड़े झटके महसूस किए गए। वहीं मौसम विभाग के अनुसार भूकंप का केंद्र सिक्किम-नेपाल बॉर्डर बताया जा रहा है। रात आठ बजकर 49 मिनट पर आए भूकंप की तीव्रता रिक्‍टर स्‍केल पर 5.4 मापी गई। 

प्राप्‍त जानकारी के मुताबिक बिहार में पटना, पूर्णिया, भागलपुर अररिया और किशनगंज समेत कई शहरों में ये झटके महसूस किए गए हैं। करीब 8.49 मिनट पर आए भूकंप के तगड़े झटकों के चलते लोग अपने-अपने घरों से बाहर आ गए।  

आज ही न्यूजीलैंड में भी भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। समाचार एजेंसी आइएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक ये झटके उत्तरी द्वीप के पूर्वी तट पर महसूस किए गए। न्यूजीलैंड में आए भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 6.1 मापी गई। बताया जाता है कि भूकंप के इन तेज झटकों के बाद लोगों में दहशत का माहौल देखा गया।  


क्यों आता है भूकंप


धरती मुख्य तौर पर चार परतों से बनी हुई है. इनर कोर, आउटर कोर, मैनटल और क्रस्ट. क्रस्ट और ऊपरी मैन्टल कोर को लिथोस्फेयर कहते हैं. ये 50 किलोमीटर की मोटी परत कई वर्गों में बंटी हुई है जिसे टैकटोनिक प्लेट्स कहा जाता है.


ये टैकटोनिक प्लेट्स अपनी जगह पर हिलती रहती हैं. जब ये प्लेट बहुत ज्यादा हिल जाती हैं, तो भूकंप महसूस होता है. ये प्लेट क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर दोनों ही तरह से अपनी जगह से हिल सकती हैं. इसके बाद वह स्थिर रहते हुए अपनी जगह तलाशती हैं इस दौरान एक प्लेट दूसरी प्लेट के नीचे आ जाता है.


भूकंप की तीव्रता का अंदाजा केंद्र (एपीसेंटर) से निकलने वाली ऊर्जा की तरंगों से लगाया जाता है. इन तरंगों से सैंकड़ो किलोमीटर तक कंपन होता है और धरती में दरारें तक पड़ जाती है. अगर भूकंप की गहराई उथली हो तो इससे बाहर निकलने वाली ऊर्जा सतह के काफी करीब होती है जिससे भयानक तबाही होती है. लेकिन जो भूकंप धरती की गहराई में आते हैं उनसे सतह पर ज्यादा नुकसान नहीं होता. समुद्र में भूकंप आने पर उंची और तेज लहरें उठती है जिसे सुनामी भी कहते हैं.


कैसे मापी जाती है भूकंप की तीव्रता


भूकंप की तीव्रता को मापने के लिए रिक्टर स्केल का पैमाना इस्तेमाल किया जाता है. इसे रिक्टर मैग्नीट्यूड टेस्ट स्केल कहा जाता है. रिक्टर स्केल पर भूकंप को 1 से 9 तक के आधार पर मापा जाता है. भूकंप को इसके केंद्र यानी एपीसेंटर से मापा जाता है



कोशी लाइव खबर को अपडेट किया जा रहा है......

Followers

MGID

Koshi Live News