Koshi Live-कोशी लाइव SAHARSA NEWS/सूबे में गोल्डन कार्ड निर्माण में दूसरे स्थान पर पहुंचा सहरसा,प्रथम स्थान पर है मधेपुरा। - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Saturday, March 6, 2021

SAHARSA NEWS/सूबे में गोल्डन कार्ड निर्माण में दूसरे स्थान पर पहुंचा सहरसा,प्रथम स्थान पर है मधेपुरा।


सहरसा। शनिवार को जिलाधिकारी कौशल कुमार ने आयुष्मान पखवारा के तहत गोल्डेन कार्ड सृजित किये जाने के संदर्भ में संबंधित अधिकारियों के साथ अपने कार्यालय वेश्म में समीक्षा बैठक की। बताया गया कि 17 फरवरी 2021 से 03 मार्च, 2021 तक आयोजित आयुष्मान पखवारा की अवधि में गोल्डेन कार्ड बनाये जाने के मामले में सहरसा जिला को राज्य में दूसरा स्थान मिला। आयुष्मान पखवारा की अवधि में कुल-101401 गोल्डेन कार्ड सृजित किये गए। इस मामले में मधेपुरा जिला मात्र 3000 गोल्डेन कार्ड अधिक सृजित किए जाने के कारण प्रथम स्थान पर रहा जबकि तृतीय स्थान पर रहे मधुबनी जिला में मात्र 73644 गोल्डेन कार्ड सृजित किए गए।


उल्लेखनीय है कि आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना अंतर्गत चलाए जा रहे आयुष्मान पखवारा अवधि को विस्तारित कर 31 मार्च 2021 तक कर दिया गया है। डीएम ने आयुष्मान पखवारा अवधि में एक लाख से अधिक गोल्डेन कार्ड बनाए जाने पर संतोष जताते हुए उसी उत्साह एवं उर्जा के साथ गोल्डेन कार्ड सृजन हेतु विस्तारित अवधि में शेष बचे सभी लाभार्थियों का सृजित किये जाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि उन पंचायतों को लक्षित करें, जहां अभी भी लाभार्थी बचे हुए हैं, जिनका गोल्डेन कार्ड नहीं बना है। जीविका के सभी 27 कलस्टर में आवश्यकता के अनुसार कार्यपालक सहायक की प्रतिनियुक्ति करते हुए लक्ष्य करने का निर्देश दिया गया। डीएम ने विस्तारित अवधि में प्रतिदिन 15 हजार गोल्डेन कार्ड सृजित किए जाने का लक्ष्य प्राप्त करने का निर्देश दिया।

आयुष्मान पखवारा में पंचायत स्तर पर 161 विशेष शिविर गोल्डेन कार्ड सृजित किये जाने हेतु आयोजित किए गए हैं, जहां चिह्नित लाभार्थी के द्वारा राशन कार्ड अथवा प्रधानमंत्रीजी का हितग्राही परिवार के नाम पत्र एवं आधार कार्ड या अन्य सरकारी पहचान पत्र लेकर आने पर उनका (गोल्डेन कार्ड) का सृजन किया जा रहा है। आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना अंतर्गत नि:शुल्क गोल्डेन कार्ड शिविरों के माध्यम से बनाए जा रहे हैं। इस योजना अंतर्गत राज्य अथवा राज्य के बाहर के सूचीबद्ध सभी सरकारी एवं निजी अस्पतालों तथा चिकित्सीय महाविद्यालयों में इलाज की सुविधा उपलब्ध है। जहां प्रति वर्ष प्रति परिवार पांच लाख रूपये तक की नि:शुल्क, कैशलेश एवं पेपरलेस चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध करायी जाएगी। समीक्षा बैठक में उप विकास आयुक्त, राजेश कुमार सिंह, आयुष्मान पखवारा हेतु नामित नोडल पदाधिकारी -सह- जिला अल्पसंख्यक कल्याण पदाधिकारी रश्मि, आई.टी. मैनेजर, लखिन्द्र महतों, डीपीएम आयुष्मान भारत, डीपीएम जीविका आदि मौजूद रहे।

Followers

MGID

Koshi Live News