Koshi Live-कोशी लाइव ब्रेकिंग न्यूज़/ बिहार के स्कूलों में बहाल होंगे लाइब्रेरियन, अतिथि शिक्षकों को अब मिलेगा पहले से ज्यादा वेतन - Koshi Live-कोशी लाइव बिहार का नं1 ऑनलाइन न्यूज पोर्टल कोशी लाइव! विज्ञापन के लिए संपर्क करें MOB:7739152002

BREAKING

ADS

Translate

Sunday, March 14, 2021

ब्रेकिंग न्यूज़/ बिहार के स्कूलों में बहाल होंगे लाइब्रेरियन, अतिथि शिक्षकों को अब मिलेगा पहले से ज्यादा वेतन


राज्य ब्यूरो, पटना: राज्य के जिन स्कूलों में भी 500 से अधिक किताबें हैं, वहां लाइब्रेरियन की नियुक्ति की जाएगी। इसके लिए पुस्तकालयाध्यक्ष पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य होगा। यह परीक्षा पास करने वाले ही लाइब्रेरियन के पदों के पात्र उम्मीदवार होंगे। अगले शैक्षणिक सत्र से पहले नियुक्ति प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। विधानपरिषद में शनिवार को शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने सदस्य संजीव श्याम सिंह के तारांकित प्रश्न का जवाब देते हुए यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि उच्च माध्यमिक स्कूलों में लाइब्रेरियन के 2789 स्वीकृत पदों के विरुद्ध 893 रिक्त पद हैं। इन पदों का सृजन वर्ष 2007 में हुआ।,

अगले साल 2008 में नियोजन की प्रक्रिया शुरू हुई जो 2019 में पूरी हुई। मंत्री ने बताया कि अभ्यर्थियों के कोर्ट में याचिका दाखिल करने के कारण इतने साल की देरी हुई। रिक्त पदों पर जल्द नियुक्ति होगी। सुबोध कुमार ने राघोपुर प्रखंड में डिग्री कॉलेज खोलने से जुड़ा सवाल किया जिसका जवाब देते हुए मंत्री ने कहा कि सरकार की पहली प्राथमिकता सभी अनुमंडलों में डिग्री कॉलेज खोलने की है। अभी 18 ऐसे अनुमंडल हैं, जहां डिग्री कॉलेज नहीं हैं। इसके बाद दूसरे चरण में इस मसले पर विचार किया जाएगा।

स्थायी नियुक्ति होते ही समाप्त हो जाएगी अतिथि शिक्षकों की सेवा

शिक्षा मंत्री ने सदन को बताया कि कॉलेजों में बहाल अतिथि शिक्षकों को अब प्रति व्याख्यान एक हजार की जगह डेढ़ हजार और एक माह में अधिकतम 25 हजार रुपये की जगह 50 हजार रुपये दिए जाएंगे। विधान पार्षद संजय कुमार सिंह, रामचंद्र पूर्वे और नवल किशोर यादव आदि के प्रश्नों का जवाब देते हुए मंत्री ने स्पष्ट किया कि कॉलेजों में स्थायी शिक्षकों की नियुक्ति होते ही अतिथि शिक्षकों की सेवा समाप्त हो जाएगी। उन्होंने कहा कि अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति ही इसी सेवा शर्त पर हुई थी। कुछ सदस्यों के द्वारा स्थायी नियुक्ति में अतिथि शिक्षकों को प्राथमिकता दिए जाने पर मंत्री ने कहा कि कई बार न्यायालय ऐसी नियुक्ति को बैकडोर इंट्री मानता है। स्थायी नियुक्ति में उनके लिए भी अवसर है, वह प्रक्रिया के तहत आएं।

1.20 लाख शिक्षकों के पद रिक्त, नियुक्ति प्रक्रिया जारी

विधान पार्षद रामचंद्र पूर्वे के सवाल का जवाब देते हुए शिक्षा मंत्री ने माना कि नीति आयोग, विश्व बैंक और मानव संसाधन मंत्रलाय की संयुक्त इंडेक्स रिपोर्ट में बिहार की 17वीं रैंक है। उन्होंने कहा कि सुधार के प्रयास लगातार जारी हैं। राज्य के माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक स्कूलों में शिक्षक के 30,020 जबकि प्राथमिक व मध्य स्कूलों में 90,762 शिक्षकों के रिक्त पदों के लिए नियोजन की कार्रवाई जारी है। वर्ग एक से 12वीं तक के सभी पुस्तकों का ई-कंटेंट बिहार टेक्सट बुक पब्लिशिंग कॉरपोरेशन के वेबसाइट और विद्यावाहिनी एप पर उपलब्ध है। सभी कक्षाओं में तीन माह का कैचअप कोर्स भी चलाने की तैयारी है।

Followers

MGID

Koshi Live News