Koshi Live-कोशी लाइव पूर्णियां/बिहार:मोबाइल फोरेंसिक जांच केंद्र से आसान होगी आपराधिक घटनाओं की पड़ताल - Koshi Live-कोशी लाइव बिहार का नं1 ऑनलाइन न्यूज पोर्टल कोशी लाइव! विज्ञापन के लिए संपर्क करें MOB:7739152002

BREAKING

ADS

Translate

Sunday, March 7, 2021

पूर्णियां/बिहार:मोबाइल फोरेंसिक जांच केंद्र से आसान होगी आपराधिक घटनाओं की पड़ताल

कोशी लाइव डेस्क:
पूर्णिया। जिले में आपराधिक वारदात के बाद अब निष्पक्ष और स्पष्ट जांच पड़ताल होगी। संगीन अपराध के मामले में भागलपुर और पटना से फोरेंसिक टीम आने का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। इसके लिए जिले में चलंत विधि विज्ञान प्रयोगशाला (मोबाइल फोरेंसिक कलेक्शन प्वाइंट) बनाया गया है। 34 लाख से पुलिस लाइन में 1200 स्कवॉयर भूभाग पर तैयार भवन में अप्रैल से मोबाइल फोरेंसिक जांच कार्यालय शुरू हो जाएगा। तैयार भवन को कार्यालय के अनुसार व्यवस्थित करने के लिए फाइनल टच दिया जा रहा है।

जांच केंद्र में अधिकारी एवं कर्मी की एक टीम की नियुक्ति की जाएगी, जो किसी घटना बाद फोरेंसिक जांच की आवश्कता पड़ने पर तुरंत पहुंचकर सूक्ष्म अनुसंधान कर सबूत इकट्ठा करेंगे। इकट्ठा सबूत को जांच के लिए भागलपुर एवं पटना या अन्य जगहों पर स्थित प्रयोगशाला में भेजा जाएगा। वर्तमान में किसी वारदात के बाद भागलपुर एवं पटना स्थित विधि विज्ञान प्रयोगशाला से जांच के लिए टीम आती है। जांच टीम को पहुंचने में 24 घंटे से 48 घंटे लग जाते हैं। इस दौरान कई महत्वपूर्ण साक्ष्य नष्ट हो जाते हैं। यहां तक कि फोरेंसिक जांच की टीम आने से पूर्व घटनास्थल पर आवाजाही बढ़ने से साक्ष्य और जांच की दिशा भी बदल जाती है। जांच में परेशानी और आवश्यकता को देखते हुए जिले में मोबाइल फॉरेंसिक जांच केंद्र का कलेक्शन प्वाइंट बनाया जा रहा है।


--------------

12 अक्टूबर को सीएम ने रखी थी आधारशिला::

पुलिस केंद्र स्थित चलंत विधि विज्ञान प्रयोगशाला के भवन निर्माण के लिए 12 अक्टूबर 2018 को मुख्यमंत्री ने पटना से ऑनलाइन आधारशिला रखी थी। यह भवन एक मंजिला होगा। कार्यालय का भवन तीन कमरे का होगा। प्रथम तल पर प्रयोगशाला के अधिकारी का कक्ष अन्य अन्य आवश्यकता अनुसार निर्माण कार्य कराया गया है। हाल के दिनों कार्यालय को शुरू करने के लिए क्वालिटी जांच हेतु आइजी सुरेश प्रसाद चौधरी, एसपी दया शंकर, भागलपुर फॉरेंसिक जांच टीम के अधिकारी और पुलिस भवन निर्माण के अधिकारी गए थे। जहां फॉरेंसिक विभाग के अधिकारी के कुछ जरूरत के अनुसार कंस्ट्रक्शन का निर्देश दिया गया था। 25 मार्च को भवन का का पूरा कर पुलिस अधीक्षक को हस्तांतरित कर दिया जाएगा।

कोट के लिए:-

पूर्णिया में फोरेंसिक जांच केंद्र को अप्रैल माह से शुरू किया जाएगा। इसके लिए भवन निर्माण एवं कार्यालय को व्यवस्थित करने की तैयारी की जा रही है।

सुरेश प्रसाद चौधरी, आइजी

----------------------

Followers

MGID

Koshi Live News