Koshi Live-कोशी लाइव Bihar Politics: जदयू में विलय की खबरों के बीच रालोसपा में संग्राम, प्रदेश महासचिव समेत 40 ने दिया इस्‍तीफा - Koshi Live-कोशी लाइव बिहार का नं1 ऑनलाइन न्यूज पोर्टल कोशी लाइव! विज्ञापन के लिए संपर्क करें MOB:7739152002

BREAKING

ADS

Translate

Sunday, March 7, 2021

Bihar Politics: जदयू में विलय की खबरों के बीच रालोसपा में संग्राम, प्रदेश महासचिव समेत 40 ने दिया इस्‍तीफा

Koshi Live:
गया। साल 2013 में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) से अलग होकर उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने अपनी अलग राजनीतिक पार्टी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (Rashtriya Lok Samta Party) बनाई थी। इस पार्टी के नाम में समता शब्‍द था जो कभी जॉर्ज फर्नांडिस के नेतृत्व में मशाल छाप वाली समता पार्टी हुआ करती थी। तब नीतीश और कुशवाहा साथ हुआ करते थे। तब से करीब सात वर्षों तक कुशवाहा अपनी राजनीतिक पकड़ मजबूत करने की कोशिश करते रहे। लेकिन जो उम्‍मीद थी वैसा हुआ नहीं। हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में रालोसपा और उनके गठबंधन दलों के नतीजे भी कुछ यही बयां करते हैं।

अब रालोसपा और जदयू (JDU) की एक बार फिर से नज़दीकियां बनती दिख रही है। राजनीतिक गलियारों में माना जा रहा है कि बहुत जल्द ही रालोसपा का जदयू में विलय हो जाएगा। यदि ऐसा हुआ तो नए राजनीतिक समीकरण बनेंगे।

गया में पार्टी के अंदर शुरू हो गया विरोध

जदयू में रालोसपा के विलय की खबरों के बीच अनेक जगहों से पार्टी के अंदर विरोध भी शुरू हो गया है। गया जिले में रालोसपा का जदयू में संभावित विलय को लेकर बड़ा उलटफेर आने वाले दिनों में देखा जा सकता है। बीते शनिवार को इसकी शुरुआत भी दिखी। रालोसपा के प्रदेश महासचिव सह पार्टी के संस्थापक सदस्य रहे विनय कुशवाहा ने पार्टी के पद और प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने अपने साथ-साथ 40 अन्य नेताओं की जो इस्तीफा देने वाले की सूची जारी की कुछ यही संकेत देते हैं। इस्तीफा देने के साथ ही विनय कुशवाहा ने उपेंद्र कुशवाहा पर कई गंभीर आरोप भी लगाए। इसमें कुशवाहा जाति को बरगलाने से लेकर बिहार में पार्टी से जुड़े हजारों युवाओं के भविष्य को खराब करने का भी आरोप लगाया।

आने वाले समय में क्‍या होगा परिदृश्‍य

अब देखना दिलचस्प होगा की यदि रालोसपा का जदयू में विलय होता है तो पार्टी से असंतुष्ट चल रहे नेता अब अपना राजनीतिक भविष्य और ठिकाना कहां तलाशते हैं। इस बीच दूसरे पार्टी के बड़े नेता ऐसे लोगों को अपने यहां शामिल कराने पर विचार कर रहे हैं। संभव है आने वाले दिनों में रालोसपा में जो कशमकश अभी दिख रही है उसका परिणाम कई और बड़े नेताओं के छिटकने के रूप में दिखाई दे।

Followers

MGID

Koshi Live News