Koshi Live-कोशी लाइव खगड़िया। फर्जी लोन मामले में फिर पीड़ितों के घर पहुंची नोटिस,नोटिस देख गरीबों के उड़े होश - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Saturday, February 6, 2021

खगड़िया। फर्जी लोन मामले में फिर पीड़ितों के घर पहुंची नोटिस,नोटिस देख गरीबों के उड़े होश


खगड़िया। फर्जी लोन मामले में फिर पीड़ितों के घर पहुंची नोटिस,नोटिस देख गरीबों के उड़े होश
खगड़िया। फर्जी लोन मामले में एक बार फिर पीड़ितों के घर नोटिस पहुंच गई है। नोटिस देख गरीबों के होश उड़ गए हैं। पूरा मामला खगड़िया स्थित एसबीआइ के एडीबी बैंक शाखा की है। मामला पांच वर्ष पूर्व की है। उस वक्त फर्जी तरीके से करोड़ों का लोन घोटाला सामने आया था। जिसके बाद पीड़ितों ने बवाल किया था। एनएच 107 को जयप्रभा नगर के समीप जाम किया गया था। पीड़ित चोढ़ली निवासी रंजन मिस्त्री के आवेदन पर बिचौलिया सहित बैंक कर्मियों पर चौथम थाना में केस भी दर्ज किया गया था। हालांकि अभी मामला न्यायालय में लंबित है। अब इधर एक बार फिर से बैंक द्वारा सभी लोनधारकों को नोटिस आने के बाद शुक्रवार को सभी पीड़ित मध्य बौरने पंचायत के मुखिया पप्पू मार्केंडेय के घर पहुंचकर पूरी जानकारी दी। चोढ़ली निवासी राधे मिस्त्री ने बताया कि वर्ष 2016 की बात है। उस वक्त उन्हें लोन की जरूरत थी। जयप्रभा नगर गांव की कविता देवी ने उसे बताया कि तीन-तीन हजार रुपए दीजिए। ग्रुपिग लोन के तहत एक-एक लाख रुपये दिया जाएगा जो बाद में माफ हो जाएगा। इसके बाद लोगों ने कविता देवी को आधार कार्ड, पहचान पत्र आदि दिया। इसके बाद मरांच निवासी चंदन सिंह की देखरेख में पिपरा में ही सभी का खाता खोलने वाला फॉर्म पर हस्ताक्षर करवा लिया गया। यही नहीं राशि निकासी फॉर्म पर भी हस्ताक्षर कराया गया था। इसके बाद केसीसी लोन के तहत लगभग 150 लोगों के नाम से दो-दो लाख रुपये लोन निर्गत कर दिए गए। राशि की फर्जी निकासी भी बैंक के तत्कालीन मैनेजर की मिलीभगत से कर ली गई। तबतक पीड़ितों को कुछ पता नहीं था। इसके बाद लोनधारकों को डाक के माध्यम से एटीएम कार्ड आया। तब जाकर लोगों को जानकारी मिली कि उसके नाम से फर्जी लोन निर्गत हुआ है। डेढ़ करोड़ घोटाले में पांच वर्ष में ना तो पीड़ितों का लोन माफ हुआ और ना ही संबंधित बैंक कर्मियों व बिचौलियों पर कोई कार्रवाई की गई। हालांकि पूरा मामला अभी भी न्यायालय में लंबित है। लेकिन इस मामले में हाईकोर्ट ने स्टे लगा दिया था। ऐसे में पीड़ित अब भी अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं। हालांकि इस बीच मध्य बौरने पंचायत के मुखिया पप्पू मार्केंडेय ने कहा कि पूरे मामले में उस वक्त अधिकारियों ने कहा था कि अगर लोन की राशि लोगों तक नहीं पहुंची है तो लोन माफ कर दिया जाएगा। लेकिन लोन माफी के बदले फिर से बैंक ने नोटिस थमा दी है। मुखिया ने कहा कि इस मामले में डीएम एवं एलडीएम से मिलकर संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई एवं लोन माफ की मांग करेंगे। जानिए कहां-कहां के है पीड़ित

जानकारी के मुताबिक इस घोटाले में कई गांवों के लगभग डेढ़ सौ लोगों के नाम से लोन निर्गत किया गया है। बताया जाता है कि चोढ़ली, जयप्रभा नगर, कैथी, पटेल नगर, रब्बीबाड़ी, तेगाछी, पौरा गांव के डेढ़ सौ लोगों के नाम से फर्जी लोन निर्गत किया गया था। जिसमें खाते से 90 से 95 हजार रुपये निकाल लिए गए।

इस संबंध में काफी प्रयास के बावजूद संबंधित बैंक के मैनेजर और एलडीएम से बात नहीं हो सकी।

Followers

MGID

Koshi Live News