Koshi Live-कोशी लाइव चाणक्य नीति:इन महिलाओं के साथ रहना मतलब मौत के साथ रहने जैसा है - Koshi Live-कोशी लाइव बिहार का नं1 ऑनलाइन न्यूज पोर्टल कोशी लाइव! विज्ञापन के लिए संपर्क करें MOB:7739152002

BREAKING

ADS

Translate

Friday, February 26, 2021

चाणक्य नीति:इन महिलाओं के साथ रहना मतलब मौत के साथ रहने जैसा है

कोशी लाइव डेस्क:
चाणक्य चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे। वे 'कौटिल्य' नाम से भी विख्यात हैं। वे तक्षशिला विश्वविद्यालय के आचार्य थे , उन्होंने मुख्यत: भील और किरात राजकुमारों को प्रशिक्षण दिया ! उन्होंने नंदवंश का नाश करके चन्द्रगुप्त मौर्य को राजा बनाया।
दुनिया उन्हें आचार्य चाणक्य के नाम से जानती है आचार्य ने दुनिया भर को अपने ज्ञान से फायदा पहुंचाने की कोशिश की है उन्हेंने कई सारी ऐसी बाते बताए हैं जिसके अनुसरण मात्र ले मनुष्य अपने जीवन को बेहतर बना सकता है धर्मनीति, कूटनीति और राजनीति में पारंगत कौटिल्य ने अपने ज्ञान के दम पर चंद्रगुप्त मौर्य को राजा तक बना दिया।
आचार्य ने कहा है कि, नौकरों को बाहर भेजने पर, भाई-बंधुओं को संकट के समय तथा दोस्त को विपत्ति में और अपनी स्त्री को धन के नष्ट हो जाने पर परखना चाहिए, अर्थात उनकी परीक्षा ऐसी की विकट परिस्थितियों में करनी चाहिए बीमारी में, विपत्तिकाल में, अकाल के समय, दुश्मनो से दुःख पाने या आक्रमण होने पर, राजदरबार में और श्मशान-भूमि में जो साथ रहता है, वही सच्चा भाई या बंधु है, अन्य सब मोह माया है।
लम्बे नाख़ून वाले हिंसक पशुओं, नदियों, बड़े-बड़े सींग वाले पशुओं, शस्त्रधारियों, स्त्रियों और राज परिवारो का कभी भी विश्वास नहीं करना चाहिए ऐसे लोगों कभी भी आपके साथ कुछ भी कर सकते हैं अगर किसी दुष्ट स्त्री के साथ आपना नाता है तो ऐसा भी हो सकता है कि वह बिस्तर पर ही आपकों मौत की निंद सुला दे।
जो अपने निश्चित कर्मों अथवा वास्तु का त्याग करके, अनिश्चित की चिंता करता है, उसका अनिश्चित लक्ष्य तो नष्ट होता ही है, निश्चित भी नष्ट हो जाता है बुद्धिहीन व्यक्ति को अच्छे कुल में जन्म लेने वाली कुरूप कन्या से भी विवाह कर लेना चाहिए, परन्तु अच्छे रूप वाली नीच कुल की कन्या से विवाह नहीं करना चाहिए क्योंकि विवाह संबंध समान कुल में ही श्रेष्ठ यानी बेहतर होता है।

Followers

MGID

Koshi Live News