Koshi Live-कोशी लाइव ..तो क्या अब नहीं चलेगी WhatsApp की दादागीरी, Signal के पीछे 'भाग रहे' लोग - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Sunday, January 10, 2021

..तो क्या अब नहीं चलेगी WhatsApp की दादागीरी, Signal के पीछे 'भाग रहे' लोग


नई दिल्ली। दुनिया में सबसे ज्यादा यूज किए जाने वाले इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप व्हाट्सऐप (WhatsApp) ने अपनी प्राइवेसी पॉलिसी को अपडेट किया है। ये प्राइवेसी पॉलिसी 8 फरवरी से लागू हो जाएगी। वॉट्सऐप की नई पॉलिसी से बहुत से यूजर्स नाखुश हैं, जिसकी वजह से यूजर्स व्हाट्सऐप के विकल्प को खोजने लगे हैं। अब लोग प्राइवेसी फोकस्ड इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप सिग्नल (Signal) में स्विच कर रहे हैं। अब ये ऐप भारत समेत कई देशों में टॉप फ्री ऐप बन गया है।

व्हाट्सऐप विश्व में सर्वाधिक लोकप्रिय मैसेजिंग ऐप में से एक है। लेकिन, पिछले दिनों जिस तरह से व्हाट्सऐप ने अपने डेटा प्राइवेसी पॉलिसी में बदलाव किया है, उसकी वजह से यूजर्स अब डेटा सुरक्षा को ध्यान में रखकर किसी दूसरे मैसेजिंग ऐप की तालाश कर रहे हैं।

ऐसे में भारत समेत दुनिया भर के कई देशों के लोग व्हाट्सऐप के विकल्प के तौर प्राइवेसी फोकस्ड इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप सिग्नल को अपने मोबाइल में डाउनलोड करने लगे हैं। इंडिया डॉट कॉम के अनुसार, इसका परिणाम यह हुआ है कि अब गूगल प्ले स्टोर पर सिग्नल ऐप भारत समेत कई देशों में टॉप फ्री ऐप बन गया है।

सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर कई देशों के लोगों में व्हाट्सऐप के इस नए डेटा प्राइवेसी को लेकर गुस्सा है। यही वजह है कि अब तक लोकप्रिय मैसेजिंग ऐप के तौर पर जाने जा रहे इस ऐप को यूजर्स अपने मोबाइल से हटाने लगे हैं। सिग्नल ने भारत, जर्मनी, फ्रांस, आस्ट्रिया, फिनलैंड, हांगकांग और स्विट्जरलैंड में नंबर 1 की पोजिशन के लिए वॉट्सऐप को पीछे छोड़ दिया है। इसके अलावा, जर्मनी और हंगरी में सिग्नल गूगल प्ले स्टोर में भी टॉप फ्री ऐप्स बन गया है।

व्हाट्सऐप की नई पॉलिसी बनाए जाने के बाद इस मामले में टेस्ला के सीईओ और दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलन मस्क ने ट्वीट करके अपने फॉलोअर्स को सिग्नल ऐप यूज करने की सलाह दी। मस्क के इस ट्वीट ने सोशल मीडिया पर सनसनी मचा दी है। इसके बाद से करीब 2.7 लाख से ज्यादा लोग इस ट्वीट को लाइक कर चुके हैं और 32 हजार से ज्यादा रीट्वीट हो चुके हैं।

जानें दोनों ऐप में मुख्यतौर पर क्या अंतर है?
सिग्नल ऐप एक ऐसी मैसेजिंग ऐप है जो यूजर का किसी भी तरह के डाटा को कलेक्ट नहीं करता है जबकि व्हाट्सऐप ने अब यूजर के डेटा को कलेक्ट करना शुरू कर दिया है। सिग्नल ऐप सिर्फ यूजर का मोबाइल नंबर लेती है, वहीं वॉट्सऐप फोन नंबर, कॉन्टैक्ट लिस्ट, लोकेशन, मैसेज सारे डाटा कलेक्ट करती है। व्हाट्सऐप अपने फायदे के लिए किसी अन्य प्लेटफॉर्म के साथ अपने डेटा को साझा कर सकती है, जबकि सिग्नल न तो यूजर्स के डेटा स्टोर करता है और न ही अपने फायदे के लिए डेटा को किसी के साथ साझा करता है।

Followers

MGID

Koshi Live News