Koshi Live-कोशी लाइव पिता की रिहाई के लिए Tej Pratap ने लिखा राष्‍ट्रपति को पत्र, लेकिन ठीक से Lalu Yadav का नाम भी नहीं लिख पाए - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

Translate

Tuesday, January 26, 2021

पिता की रिहाई के लिए Tej Pratap ने लिखा राष्‍ट्रपति को पत्र, लेकिन ठीक से Lalu Yadav का नाम भी नहीं लिख पाए


नई दिल्‍ली: राजद (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के बेटे तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने अपने पिता की रिहाई के लिए राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखी है. उन्होंने अपने पिता के स्‍वास्‍थ्‍य का हवाला देते हुए कहा है कि उन्‍हें जल्‍द रिहा किया जाए. तेज प्रताप यादव ने सजा माफी के लिए सरकार से गुहार लगाई है.

पिता का नाम भी लिखा गलत

हालांकि तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने राष्‍ट्रपति के नाम जो पत्र लिखा है, वह किसी और वजह से भी सुर्खियों में है.

दरअसल, चार लाइनों की इस चिट्ठी में ढेरों गलतियां हैं. यहां तक कि तेज प्रताप यादव अपने पिता का नाम भी ठीक से नहीं लिख पाए हैं.

इससे पहले जब राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद बिहार के राज्‍यपाल थे, तब शपथ ग्रहण के दौरान उन्‍होंने तेज प्रताप यादव को गलत उच्‍चारण के लिए टोक दिया था और अब तेज प्रताप यादव ने उन्‍हें ही ये अशुद्धियों वाली चिट्ठी लिखी है.

तेज प्रताप यादव ने राष्‍ट्रपति को ये पोस्‍टकार्ड आजादी पत्र के नाम से भेजा है. तेज प्रताप ने अपने पत्र में 'आदरणीय श्री लालू प्रसाद जी की जगह 'आपरणीय श्री लालु प्रसाद जी' लिख दिया है. इसके बाद उन्‍होंने 'मसीहा' को 'मसिहा', 'मूल्य' को 'मुल्य', 'गरीबों' को 'गरीवों', और 'वंचित' को 'बंचित' लिखा गया है.

समर्थकों से की ये अपील

रिपोर्ट के मुताबिक, तेज प्रताप यादव की बहन और लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) की बेटी रोहिणी आचार्य ने भी राष्‍ट्रपति को पत्र लिखा है और अपने पिता की रिहाई की मांग की है. इसके साथ उनके समर्थकों से भी अपील की गई है, वह राष्‍ट्रपति को चिट्ठी लिखें.

बता दें कि लालू प्रसाद यादव का दिल्‍ली के एम्‍स में इलाज चल रहा है. उनकी हालत चिंताजनक बताई जा रही है, जिसके बाद लालू यादव की रिहाई की मांग उठ रही है.

तेज प्रताप यादव की इस चिट्ठी के सामने आने के बाद उनका काफी मजाक बन रहा है. तेज प्रताप यादव ग्यारहवीं तक पढ़े हैं और 12वीं में फेल होने के बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी थी.

Followers

MGID

Koshi Live News