Koshi Live-कोशी लाइव रुपेश का कातिल कौन:गोवा से दिल्ली घूम आई SIT, ठेकेदारी के प्वाइंट पर जांच के बाद अब नया कटिहार कनेक्शन, दर्जन भर शूटर्स को भी उठाया - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Monday, January 18, 2021

रुपेश का कातिल कौन:गोवा से दिल्ली घूम आई SIT, ठेकेदारी के प्वाइंट पर जांच के बाद अब नया कटिहार कनेक्शन, दर्जन भर शूटर्स को भी उठाया


इंडिगो के स्टेशन मैनेजर रुपेश सिंह के हत्यारों की तलाश में पटना पुलिस की SIT की जांच अभी जारी है। हत्या की वारदात के 5 दिन बीत चुके हैं। मगर, शूटर्स की तलाश अब भी जारी है। हत्यारों को पकड़ने के लिए पुलिस की अलग-अलग टीमों ने अब तक कई जगहों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की। पटना से लेकर उत्तर बिहार के कई जिलों को खंगाल डाला। सबूत की तलाश में स्पेशल टीम गोवा और दिल्ली से भी घूम आई, लेकिन पुलिस अब तक सही जगह पर नहीं पहुंच पाई। हत्या की साजिश और उसे अंजाम तक पहुंचाने वाले अपराधी पुलिस की टीम से एक कदम आगे ही चल रहे हैं। हालांकि पटना पुलिस की निगाह राजधानी और आसपास के इलाकों में एक्टिव शूटर्स पर है। खासकर ऐसे शूटर्स, जो सुपारी लेकर किसी की भी हत्या कर देते हैं। इस तरह के एक दर्जन से भी अधिक शूटर्स को पुलिस ने पूछताछ के लिए उठा लिया है। पटना के SSP उपेंद्र कुमार शर्मा के अनुसार उनकी टीम की प्राथमिकता सबसे पहले हत्या की वारदात को अंजाम देने वाले शूटर्स को पकड़ने की है। अब तक पूछताछ के लिए अलग-अलग जगहों से कई शूटर्स को पकड़ा गया। इनमें कुछ ऐसे शूटर्स भी पुलिस के हाथ लग गए, जो दूसरे आपराधिक मामलों में वांटेड थे।

ठेकेदारी के प्वाइंट पर ही जांच आगे
DGP SK सिंघल ने शनिवार को ही कहा था कि रुपेश हत्याकांड की जांच मल्टीपल प्वाइंट्स पर चल रही है। इस केस में कई प्वाइंट्स हैं तो सही, लेकिन पटना पुलिस की स्पेशल टीम की जांच ठेकेदारी के प्वाइंट पर ही आगे चल रही है। सोर्स के जरिये रविवार को भी एक बात सामने आई कि इस हाईप्रोफाइल मर्डर के पीछे बिहार सरकार के एक विभाग की ठेकेदारी वाला कनेक्शन ही है। ठेकेदारी दिलाने के नाम पर कमिशन और इससे जुड़े रुपयों का विवाद होने की आशंका है। इस प्वाइंट पर पुलिस टीम अपनी पड़ताल में कहां तक पहुंचती है, इसका पता तो आने वाले वक्त में ही चलेगा।

पटना से कटिहार गई पुलिस टीम
रुपेश सिंह की हत्या के मामले का कनेक्शन अब सीधे कटिहार से भी जुड़ गया है। आरोप लगा है कि रुपेश सिंह के माध्यम से 70 लोगों को आर्म्स का लाइसेंस दिलवाया गया है। इस मामले को सामने लाया पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने। पूर्व सांसद ने तो सीधे तौर पर कटिहार के DM को ही कटघरे में खड़ा कर दिया है। उनके ऊपर आरोपों की बौछार कर दी। अब यह मामला क्या है? इसका रुपेश सिंह की हत्या से कनेक्शन कितना है? इसकी जांच करने के लिए पटना से पुलिस की एक टीम कटिहार के लिए रवाना भी हो चुकी है। हालांकि वहां के DM साहब अचानक से छुट्‌टी पर चले गए हैं। संभावना है कि इस मामले में आगे चलकर DM साहब से भी पुलिस के अधिकारी पूछताछ कर सकते हैं।

Followers

MGID

Koshi Live News