Koshi Live-कोशी लाइव सुपौल/एक्सपोज:जिस थाने में चौकीदार शंभू पासवान पर दुष्कर्म, अपहरण आर्म्स एक्ट सहित पांच केस दर्ज, उसी थाने में चौकीदारी - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Wednesday, January 13, 2021

सुपौल/एक्सपोज:जिस थाने में चौकीदार शंभू पासवान पर दुष्कर्म, अपहरण आर्म्स एक्ट सहित पांच केस दर्ज, उसी थाने में चौकीदारी

भाष्कर न्यूज़

जिले में बेहतर पुलिसिंग के दावे करने वाली पुलिस की कार्यशैली खुद सवालों के घेरे में है। ऐसा ही एक मामला जिले के त्रिवेणीगंज थाने में सामने आया है। मामला त्रिवेणीगंज थाने में पदस्थापित चौकीदार शंभू पासवान से जुड़ा हुआ है। इसी थाने में दुष्कर्म, अपहरण, आर्म्स एक्ट सहित पांच अगल-अलग कांडों का आरोपी चौकीदार पदस्थापित है। आश्चर्यजनक बात यह है कि जिस थाने में चौकीदार पर पांच संगीन अलग-अलग मामले दर्ज हैं, उसी थाने में आरोपी चौकीदार पदस्थापित है। ऐसा नहीं है कि पुलिस-प्रशासन को जानकारी नहीं है। जानकारी रहने के बाद भी दागी पुलिस चौकीदार को संरक्षण दे रही है। 1998 से अब तक त्रिवेणीगंज थाने में ही चौकीदार शंभू पासवान पर लगभग 5 मामले दर्ज हुए हैं। मामले में कई बार चौकीदार जेल भी जा चुका है। इतना ही नहीं तत्कालीन थानाध्यक्ष सर्वेश्वर सिंह के साथ अभद्र व्यवहार, अपशब्द का प्रयोग और उदंडता के आरोप में 2011 से 2015 तक चौकीदार निलंबित भी रह चुका है। चौकीदार पर अधिकारियों की इस तरह मेहरबानी रही कि जेल में रहने के बाद भी वेतन का भी लाभ लेते रहे। इधर, 12 दिसंबर 2020 को भी शंभू पासवान पर नाबालिग लड़की को देह व्यापार की नीयत से अपहरण करने का आरोप लगाकर त्रिवेणीगंज थाने में कांड संख्या 373/2020 दर्ज है, जिसमें पॉस्को एक्ट भी लगाया गया है। बावजूद चौकीदार शंभू पासवान को गिरफ्तार नहीं किया जा रहा है।

लोगों का आरोप : चौकीदार नेे किया अपने पद का दुरुपयोग
सिमरिया पंचायत स्थित कुमियाही व बैजनाथपुर के सैकड़ों लोगों ने डीएम व एसपी को आवेदन देकर चौकीदार के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। ग्रामीणों का कहना है कि अनुकम्पा के आधार पर नियुक्त शंभू चौकीदार ने पद का दुरुपयोग किया है। 29 नवम्बर 1998 को गांव की ही एक लड़की का अपहरण कर बुरी नियत से उठाकर अपने घर ले गया। त्रिवेणीगंज में कांड संख्या 164/98 दर्ज है। मामले में कई बार जेल भी जा चुका है। इसी तरह त्रिवेणीगंज थाना कांड संख्या 4/99, दिनांक 11 जनवरी 1999, आर्म्स एक्ट शामिल हैं। इसमें भी वह जेल जा चुका है।

2011 में की थी मारपीट, आर्म्स एक्ट का मामला हुआ था दर्ज
सिमरिया पंचायत के मुखिया पति के साथ भी घर जाने के दौरान 17 सितम्बर 2011 को रास्ते में घेरकर उनके साथ भी चौकीदार शंभू पासवान ने हथियार के बल पर मारपीट की थी। त्रिवेणीगंज थाना में आर्म्स एक्ट का मामला भी दर्ज कराया गया था। चौकीदार शुभू पासवान को मुख्य अभियुक्त बनाया गया। अनि मुकेश कुमार ने जांच में पाया कि मुखिया पति द्वारा लगाए गए आरोप सही हैं। उसने मारपीट की थी। यह मामला न्यायालय में चल रहा है।

आर्म्स एक्ट मामले में जेल से रिहा होने के बाद आपराधिक घटनाओं को देने लगा अंजाम
चौकीदार शंभू पासवान जब आर्म्स एक्ट मामले में जेल से निकला तो आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने लगा। ग्रामीणों का कहना है कि चौकीदार शंभू पासवान के भय से ग्रामीण डरे-सहमे रहते हैं। आर्म्स एक्ट में जेल से निकलने के बाद 08 मई 1999 को त्रिवेणीगंज में कांड संख्या 50/99 दर्ज किया गया। इसके बाद 18 सितम्बर 2011 को कांड संख्या 173/11 दर्ज किया गया। जिसका आरोप पत्र भी न्यायालय में समर्पित है। इधर, हाल में भी 09 दिसम्बर 2020 को बैजनाथपुर गांव से एक नाबालिग लड़की का हथियार के बल पर अपहरण कर लिया। इस मामले में भी त्रिवेणीगंज थाना में कांड संख्या 373/20 दर्ज है, इसमें पॉस्को एक्ट भी लगा हुआ है।

किस मामले में शंभू पासवान चार्जशीटेड है, नहीं पता
चाैकीदार शंभू पासवान पर पूर्व में कौन-कौन से कांड अंकित है, किस मामले में चार्जशीटेड है। इसकी जानकारी मुझे नहीं है। हाल में चौकीदार शंभू पासवान के विरूद्ध दर्ज कराया गया मामला जमीन विवाद से जुड़ा है। इस मामले के अनुसंधान पर्यवेक्षण के क्रम में चौकीदार शंभू पासवान निर्दोष पाया गया है।
गणपति ठाकुर, एसडीपीओ, त्रिवेणीगंज

Followers

MGID

Koshi Live News