Koshi Live-कोशी लाइव BIHAR:गांव के लड़के को बंदूक चलाना सिखा रहे थे जदयू के पूर्व विधायक, वीडियाे वायरल होने पर दर्ज हुई एफआइआर - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Thursday, January 7, 2021

BIHAR:गांव के लड़के को बंदूक चलाना सिखा रहे थे जदयू के पूर्व विधायक, वीडियाे वायरल होने पर दर्ज हुई एफआइआर

कोशी लाइव:


आरा। बिहार के भोजपुर (Bhojpur District) जिले में जदयू नेता (JDU leader) व संदेश (Sandesh) के पूर्व विधायक विजेंद्र यादव (Ex MLA Vijendra Yadav) के खिलाफ पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है। पुलिस ने पूर्व विधायक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करते हुए उनकी लाइसेंसी बंदूक को जब्‍त कर लिया है। पुलिस ने यह कार्रवाई एक वीडियो वायरल होने के बाद की है। इस वीडियो में विधायक की लाइसेंसी बंदूक से एक लड़का फायरिंग करते दिख रहा है। वीडियो में विधायक भी लड़के के पीछे ही खड़े नजर आ रहे हैं। यह वीडियो किसी भीड़भाड़ वाले इलाके का लग रहा है। यह वीडियो किसी मकान की छत पर बालकोनी से बनाया गया है। वीडियो देखने से लड़का नाबालिग लग रहा है

विधायक की मर्जी से भीड़भाड़ में फायरिंग कर रहा था लड़का

इस वीडियो के आधार पर पूर्व विधायक के विरुद्ध भोजपुर जिले के गड़हनी (Garahani) थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई है। साथ ही उनकी लाइसेंसी बंदूक को भी जब्त कर लिया गया है। इधर, भोजपुर एसपी हर किशोर के अनुसार लाइसेंसीधारी पूर्व विधायक के कहने पर ही दूसरा लड़का घनी आबादी वाले क्षेत्र में गोली चला रहा था। इसलिए लाइसेंस की शर्तों का उल्लंघन करने के आरोप में उनकी बंदूक को जब्त कर लिया गया है। दूसरी ओर पूर्व विधायक ने एफआइआर दर्ज करने और लाइसेंसी बंदूक जब्त किए जाने की प्रक्रिया को गलत बताया है।




निर्वाचन आयोग का फैसला: बिहार सहित तीन राज्‍यों में विधान परिषद की 15 सीटों पर चुनाव 28 काेयह भी पढ़ें




विधायक के गांव का ही बताया जा रहा वायरल वीडियो

वायरल वीडियो गड़हनी थाना क्षेत्र के लसाढ़ी गांव का बताया जा रहा है। लसाढ़ी गांव पूर्व विधायक का ही गांव है। वायरल वीडियो में पूर्व विधायक अपने दो मंजिले मकान की छत की बालकोनी में लुंगी-गंजी पहने नजर आ रहे हैं। पूर्व विधायक के आगे एक बच्‍चा बंदूक लिए हवाई फायरिंग करते नजर आ रहा है। मोबाइल में कैद इस वीडियो को हाल में ही किसी ने इंटरनेट पर वायरल कर दिया गया था। यह वीडियो भोजपुर एसपी तक पहुंचा तो उन्‍होंने इस पर संज्ञान लेते हुए कानून कार्रवाई करने का आदेश डीएसपी व संबंधित थाने को दिया था। इसके बाद पुलिस की टीम पूर्व विधायक के घर भी गई थी। लेकिन, हथियार हाथ नहीं लग सका था। पूर्व विधायक ने नियमों का हवाला देकर जिलाधिकारी के आदेश पर शस्त्र जमा करने की बात कही थी।





पूर्व विधायक ने पुलिस की कार्रवाई को बताया गैरकानूनी

बताया जाता है कि शस्‍त्र लाइसेंस रखने की नई गाइडलाइन के तहत भोजपुर डीएम रोशन कुशवाहा ने संदेश के पूर्व विधायक विजेंद्र यादव को एक लाइसेंसी बंदूक जमा करने का आदेश दिया था। पूर्व विधायक के अनुसार जिलाधिकारी के आदेश पर उन्‍होंने चार जनवरी को ही आरा की एक लाइसेंसी दुकान पर शस्त्र जमा कर दिया था। बावजूद, दुकान से पुलिस ने शस्त्र जब्त कर अपराध किया है। नियमों का उल्लंघन किया है। शस्त्र के मालिक डीएम होते हैं। उनके ही आदेश पर दुकान में शस्त्र जमा किया गया।




तीसरा लाइसेंस कैंसल करने का है प्रावधान

मालूम हो कि केद्रीय गृह मंत्रालय की नई गाइडलाइन के तहत अब प्रदेश में शस्त्र लाइसेंस के अधिनियम तहत महत्वपूर्ण संशोधन किए हैं। संशोधन के तहत अब शस्त्र लाइसेंस धारक केवल दो ही लाइसेंस रख सकता है। ऐसे लोग जिनके पास तीन लाइसेंस हैं, उन्हें अतिरिक्त लाइसेंस जमा या सरेंडर कर देना है। अन्यथा ऐसे शस्त्र लाइसेंस धारक के खिलाफ कठोर कार्रवाई के आदेश हैं।



बिहार में जब 'मुर्दा' पहुंचा बैंक तो मची अफरा-तफरी, मामला जान आप कह उठेंगे- अरे! ऐसा भी होता हैयह भी पढ़ें




पूर्व विधायक ने कहा, वीडियो पुराना, सिर्फ टेस्टिंग के लिए हुई थी फायरिंग

संदेश के पूर्व विधायक विजेंद्र यादव ने वायरल वीडियो को तीन महीने पहले का बताया है। उनके अनुसार यह कोई भी हर्ष फायरिंग का वीडियो नहीं है। वे दीपावली के समय हथियार टेस्टिंग के लिए घर पर ही फायरिंग कराए थे। बिना किसी जांच और सत्यापन के एफआइआर दर्ज की गई है। जिलाधिकारी सह शस्त्र दंडाधिकारी के आदेश पर उन्होंने लाइसेंसी हथियार शस्त्र दुकान में जमा कर दिया था। बावजूद, दुकान से शस्त्र को जब्त किया गया है, जो नियमसंगत नहीं है।






पिछले साल राजद में शामिल हुए थे पूर्व विधायक

केस में आरोपी बनाए गए पूर्व विधायक विजेंद्र यादव लंबे समय तक राजद में रहे थे। विधानसभा चुनाव के पहले जुलाई 2020 में राजद के प्रदेश उपाध्यक्ष रहे विजेंद्र कुमार यादव ने पार्टी छोड़कर जदयू की सदस्यता ले ली थी। प्रदेश जदयू कार्यालय, पटना में आयोजित मिलन समारोह में अपने समर्थकों संग उन्होंने पार्टी का दामन थामा था। सरकार के मंत्री ने उनको जदयू की सदस्यता दिलाई थी। जदयू के टिकट पर वह संदेश सीट से चुनाव भी लड़े थे। हालांकि, वे हार गए थे। राजद के टिकट पर चुनाव लड़ी उनकी ही भावज किरण देवी ने ही हराया था।



सेक्स रैकेट कांड में फरार चल रहे छोटे भाई पूर्व विधायक अरुण यादव

जदयू नेता व पूर्व विधायक विजेंद्र यादव के छोटे भाई अरुण यादव राजद से जुड़े हैं। वह भी संदेश के पूर्व विधायक रहे हैं। फिलहाल, देह व्‍यापार कांड में करीब डेढ़ साल से फरार हैं। पिछले साल 18 जुलाई 2019 को आरा शहर की एक रहने वाली किशोरी से पटना में जबरन देह व्यापार का धंधा कराने का मामला सामने आया था। उस मामले में संदेश के तत्कालीन विधायक अरुण यादव को भी नामजद किया गया था। सितंबर माह में कोर्ट की ओर से गिरफ्तारी वारंट जारी किये जाने के बाद से ही विधायक फरार चल रहे हैं। चल व अचल संपत्ति जब्त होने के बाद भी विधायक के सरेंडर नहीं किए हैं। कोर्ट की ओर से फरार घोषित कर दिया गया है।



जदयू के ही एक विधायक ने गाई बाहुबल की महिमा

भागलपुर जिले के जदयू विधायक गोपाल मंडल का एक वीडियो हाल में ही वायरल हुआ है, जिसमें वह कह रहे हैं कि चुनाव जीतने के लिए मसल पावर जरूरी है। इस वीडियो में उन्‍होंने और भी कई ऐसी बातें कहीं हैं, जिसके कारण भाजपा के नेता नाराज चल रहे हैं।

Followers

MGID

Koshi Live News