Koshi Live-कोशी लाइव BIHAR:पशु प्रेम:कुत्ते की शव यात्रा निकाली, याद में बनाएंगे स्मारक - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Monday, January 18, 2021

BIHAR:पशु प्रेम:कुत्ते की शव यात्रा निकाली, याद में बनाएंगे स्मारक


केनगर प्रखंड के कोहवारा पंचायत के रामनगर में एक परिवार ने अपने कुत्ते की मौत होने के बाद हिंदू रीति-रिवाज से उसकी अंतिम विदाई कर पशु-प्रेम की अनूठी मिशाल पेश की है। समर शैल नेचुरल फार्म के संस्थापक हिमकर मिश्रा ने फार्म व ड्योढ़ी के संरक्षण के लिए अनेक किस्म के कुत्ते पाल रखे हैं। इसमें से एक ब्राउनी नामक कुत्ता था, जो लगभग पिछले 15 सालों से उनके पास था। रामनगर स्थित समर शैल नेचुरल फार्म में एक कुत्ते ब्राउनी की मौत पर अंतिम यात्रा निकाली गई। उन्होंने बताया कि जिस जगह ब्राउनी को दफनाया गया है।

उस जगह उसकी याद में ब्राउनी स्मृति स्मारक भी बनवाया जाएगा। ब्राउनी की मौत के बाद निकली इस अंतिम यात्रा में न सिर्फ इस फॉर्म के संस्थापक हिमकर मिश्रा बल्कि फार्म के सभी कर्मी और उनके परिवार वाले भी शामिल हुए। फार्म के संस्थापक हिमकर मिश्रा बताते हैं कि ब्राउनी सिर्फ कुत्ता नहीं, बल्कि इस फार्म का रक्षक भी था। वह हम सभी के जिंदगी का एक हिस्सा था, जिसने पूरी वफादारी और ईमानदारी से फार्म की रक्षा की और कभी किसी से कोई शिकायत नहीं की। पार्क में आने वाले लोगों को सुनाएंगे ब्राउनी के किस्से ब्राउनी स्मारक स्थल को रंग-बिरंगे फूलों का पार्क बनाकर ब्राउनी पार्क का नाम दिया जाएगा, जिसकी कवायद महज 8 दिनों के अंदर ही कर दिया जाएगा। फार्म में जो भी लोग आएंगे उन्हें स्मारक को दिखाने के साथ-साथ ब्राउनी के किस्से को भी सुनाया जाएगा।

इंडियन शिप ब्रिड का डॉग था ब्राउनी : हिमकर मिश्रा
हिमकर बताते हैं कि ब्राउनी उनके घर के सदस्य जैसा था। मिश्रा ने बताया कि आज से 15 वर्ष पूर्व पुणे में कुत्ते का छोटा बच्चा खरीद कर भोपाल में रखा गया था। वह इंडियन शिप ब्रिड का डॉग था। ब्राउनी की मौत के बाद हम सबने मिलकर उसे ऐसी विदाई देने की सोची, जो लोगों के लिए प्रेरणा बन सके। जिस तरह से आदमी की मौत पर अंतिम यात्रा निकाली जाती है।उसी तरह ब्राउनी की मौत के बाद उसके लिए अर्थी बनवाई और उसकी अंतिम यात्रा निकाली गई। जिस जगह ब्राउनी को दफनाया गया है, वहां अलग-अलग प्रजाति के काफी सारे पौधे भी लगाए गए हैं।

Followers

MGID

Koshi Live News