Koshi Live-कोशी लाइव चीनी सैनिकों की घुसपैठ नाकाम, 20 चीनी व 4 भारतीय जवान जख्मी; 20 जनवरी की है घटना - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

Translate

Monday, January 25, 2021

चीनी सैनिकों की घुसपैठ नाकाम, 20 चीनी व 4 भारतीय जवान जख्मी; 20 जनवरी की है घटना

नई दिल्ली, एएनआइ भारत ने पिछले सप्ताह उत्तरी सिक्किम के नाकू ला (Naku La) एरिया में वास्तविक नियंत्रण रेखा ( Line of Actual control, LAC) के जरिए चीनी सैनिकों द्वारा घुसपैठ के प्रयास को नाकाम कर दिया। इसमें दोनों देशों के सैनिक जख्मी हो गए। इसे लेकर भारतीय सेना की ओर से बयान जारी कर बताया गया कि 20 जनवरी को दोनों सेनाओं के बीच मामूली झड़प हुई थी जिसे वहां लागू प्रोटोकॉल के तहत स्थानीय कमांडरों ने सुलझा लिया था। बता दें कि रविवार को दोनों देशों के बीच 9वें राउंड की सैन्य वार्ता  संपन्न होने के बाद यह मामला सोमवार को सामने आया है। 

उल्लेखनीय है कि पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में सीमा पर दोनों देशों के बीच जारी तनाव को कम करने के लिए भारत और चीन के बीच रविवार को नौवें दौर की सैन्य वार्ता संपन्न हुई। चुशूल (Chushul) इलाके के दूसरी ओर स्थित मोल्दो (Moldo) में आयोजित  यह  वार्ता 15 घंटे से भी अधिक चली। रविवार सुबह 11 बजे से शुरू हुई वार्ता सोमवार को 2:30 am बजे संपन्न हुई। सीमा पर तनाव को सुलझाने के क्रम में कई दौर की वार्ता हुई लेकिन अब तक कोई समाधान नहीं निकला है। इससे पहले 6 नवंबर 2020 को सैन्य वार्ता हुई थी। 

दरअसल चीन की  सेना भारतीय सीमा में घुसने का प्रयास कर रही थी जिसे रोकने के लिए वहां तैनात भारतीय सैनिकों ने हमला किया। जवाबी संघर्ष में 20 चीनी सैनिक व चार भारतीय जवान जख्मी हो गए। इससे पहले पिछले साल 15 जून को दोनों देशों की सेना के बीच पूर्वी लद्दाख स्थित गलवन घाटी के प्वाइंट 14 में हिंसक झड़प हुई थी। इसमें एक कर्नल समेत 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। दोनों देशों के बीच विवादों में  पिछले साल लद्दाख का नाकू ला एरिया भी शामिल हो गया। पिछले साल अप्रैल-मई से सीमा LAC पर दोनों देशों  के सैनिक तैनात हैं।  2017 में भारत और चीन के सेना डोकलाम (Doklam) में आमने-सामने थे। 

पूर्वी लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर तनाव के बीच सिक्किम में भारत और चीन की सेना के बीच झड़प हुई है. बताया जा रहा है कि तीन दिन पहले सिक्किम के ना कूला में चीनी सेना ने बॉर्डर की यथास्थिति को बदलने का प्रयास किया था और उसके कुछ सैनिक भारतीय क्षेत्र में बढ़ने की कोशिश कर रहे थे. इस दौरान भारतीय सैनिकों ने चीनी सैनिकों को रोक लिया.

तीन दिन पहले ना कूला में भारत और चीन के सैनिक आपस में भिड़ गए, जिसमें चार भारतीय और 20 चीनी जवान घायल हुए हैं. भारतीय जवानों ने चीनी सैनिकों को खदेड़ दिया. हालांकि, अभी स्थिति तनावपूर्ण है, लेकिन स्थिर है. भारतीय सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि भारतीय क्षेत्र के साथ सभी प्वॉइंट पर मौसम की स्थिति खराब होने के बावजूद कड़ी चौकसी बरती जा रही है.

दोनों देशों के बीच 15 घंटे तक चली बैठक

भारतीय क्षेत्र में घुसने की कोशिश कर रहे चीनी सैनिकों के इस कदम से एलएसी पर हालात तनावपूर्ण है. इस तनाव को कम करने के लिए पूर्वी लद्दाख के मोल्डो में भारत और चीन के सैन्य अधिकारियों के बीच कल 9वें दौर की बातचीत हुई. करीब 15 घंटे तक चली इस बैठक का निष्कर्ष अभी सामने नहीं आया है, लेकिन भारत ने एलएसी पर तनाव को कम करने की अपील की.

चीनी सेना ने कम की तैनाती, भारत अब भी सतर्क

सिक्किम के ना कूला में घुसपैठ की कोशिश उस वक्त हुई है, जब खबरें है कि चीनी सेना ने पूर्वी लद्दाख से अपने 10 हजार जवानों को हटाया है. भारत सरकार के सूत्रों के मुताबिक, पूर्वी लद्दाख के अलावा सिक्किम समेत कई इलाकों से चीनी सेना ने अपनी तैनाती को कम किया है, लेकिन जवान अभी भी डटे हैं. इस वजह से भारतीय सेना ने अपने जवानों की तैनाती बनाई रखी है.

15 जून को गलवान घाटी में हुई थी खूनी झड़प

आपको बता दें कि एलएसी पर पिछले कई महीनों से तनाव का माहौल है. 15 जून को पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सैनिक और भारतीय जवान भिड़ गए थे. इस दौरान 20 भारतीय जवान शहीद हुए थे, जबकि चीनी सेना के कई अफसर-जवान मारे गए थे, लेकिन चीनी सेना आज तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की है.


Followers

MGID

Koshi Live News