Koshi Live-कोशी लाइव पूर्णियां/नाबालिग छात्रा की बहादुरी:10 दिन से लापता नाबालिग अपहर्ताओं से छूटकर भागी, कहा-मुझे पटना ले गए थे, पिलाई थी शराब - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Tuesday, January 5, 2021

पूर्णियां/नाबालिग छात्रा की बहादुरी:10 दिन से लापता नाबालिग अपहर्ताओं से छूटकर भागी, कहा-मुझे पटना ले गए थे, पिलाई थी शराब


पिछले दस दिनों से गायब रामबाग की नाबालिग छात्रा ने बहादुरी दिखाते हुए अपहर्ताओं के चंगुल से भागकर अपनी जान बचाई। पुलिस ने उसकी बरामदगी नहीं की है, बल्कि उसने खुद किसी तरह छिपकर अपने पिता को फोन किया और भागकर बस स्टैंड पहुंची। इस पूरे घटनाक्रम में पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े हुए हैं। लड़की के पिता ने पुलिस पर बड़ा आरोप लगाया है। उसने कहा कि 25 दिसम्बर को गायब उनकी लड़की की बरामदगी में सदर थाना पुलिस ने कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। पिछले सात दिन में सात आवेदन लिए गए। यहां तक कि उन लोगों ने जिस महिला व उनके पति पर अपहरण करने की शंका जताते हुए आवेदन सदर थाना में दिया था। सदर थाना पुलिस ने उस महिला व उनके पति का नाम भी प्राथमिकी में नहीं जोड़ा। उल्टे मुंशी ने थाने से यह कहकर भगा दिया कि जाओ अपनी बेटी को खोजो। पिता ने कहा कि रामबाग की महिला व उनके पति रैकेट चलाते हैं।

नाबालिग बोली-मुझसे गलत काम कराना चाहते थे
अपहर्ताओं के चंगुल से बच कर निकली लड़की ने जो खुलासे किए हैं, वह काफी चौकाने वाले हैं। उसने बताया कि जब वह कोचिंग पढ़ने रजनी चौक जा रही थी तो रामबाग के राकेश कुमार बहला-फुसलाकर अपने साथ ले गया। उसकी पत्नी शिवानी ने मुझे जबरन शराब पिलाई। मुझे रामबाग में ही दो दिनों तक बंद रखा। पूर्णिया से पटना एक होटल में ले गई। पटना से फिर मुझे पूर्णिया लाया गया। फिर नवगछिया के आसपास कहीं रखा। मैं सोमवार सुबह 5 बजे छिपकर निकली और बाइक सवार लोगों से मदद लेकर किसी तरह 2 बजे पूर्णिया बसस्टैंड पहुंची। यहां खड़े एक पुलिस कर्मी को कहकर पिता को फोन किया।

मुंशी ने भगाया, कहा-जाओ अपनी बेटी को खोजो

लड़की के पिता ने बताया कि 25 दिसम्बर को मेरी बेटी का अपहरण हुआ था। तब से मैं सदर थाना में आवेदन लेकर दौड़ता रहा, लेकिन मामला तक दर्ज नहीं किया। 3 जनवरी को फिर आवेदन मांगा गया। इस बीच सात आवेदन बदले गए। मैंने शक के आधार पर रामबाग की दो महिला व उसके पति का नाम दिया, लेकिन पुलिस ने उनलोगों का नाम हटाकर निर्दोष लोगों पर मामला दर्ज कर लिया। पिता ने बताया कि जब मैं मंगलवार की सुबह सदर थाना गया और एफआईआर की कॉपी मांगी तो मुंशी ने मुझे डांटते हुए कहा कि जाओ बेटी को खोजो और थाना से भगा दिया। पिता का आरोप है कि पुलिस दोनों आरोपित से मिली हुई है। सदर थाना के प्रभारी थानाध्यक्ष विपिन कुमार ने बताया कि मामला 5 दिन पहले ही दर्ज कर लिया गया था। लड़की के बयान के आधार पर आरोपियों की गिरफ्तारी की जाएगी।

किसी को बख्शा नहीं जाएगा, दोषियों पर होगी कार्रवाई

बरामद बच्ची का कोर्ट में 164 का बयान दर्ज करवाया जायेगा। बच्ची के बयान के आधार पर दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। इसमें एक भी दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।
-दया शंकर, पुलिस अधीक्षक, पूर्णिया

Followers

MGID

Koshi Live News