Koshi Live-कोशी लाइव SAHARSA/सहरसा:एटीएम है ग्राहक के पास पर फ्रॉड उड़ा रहे खाते से राशि - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Friday, December 18, 2020

SAHARSA/सहरसा:एटीएम है ग्राहक के पास पर फ्रॉड उड़ा रहे खाते से राशि


सहरसा। साइबर फ्रॉड तरह-तरह के तकनीक से लोगों को चूना लगा रहे हैं। इन दिनों बैंक के ग्राहकों का एटीएम उनके पास ही रहता है। लेकिन बिना फोन पर जानकारी लिये, बिना ओटीपी या मैसेज भेजे खाते से रुपये उड़ाए जा रहे हैं। लगातार इस तरह की शिकायत पुलिस के पास पहुंच रही है। लेकिन पुलिस भी संसाधन की कमी के कारण ठोस कार्रवाई नहीं कर पाती है।

----

हर माह आते हैं एक दर्जन शिकायत

----

सिर्फ शहरी क्षेत्र की बात करें तो साइबर फ्रॉड से संबंधित शिकायत हर माह पुलिस के पास एक दर्जन से अधिक लोग लेकर पहुंचते हैं। जबकि कई लोग खाता को लॉक कराकर पुलिस से शिकायत भी नहीं करते हैं। ऐसे मामलों में शिकायत मिलने के बाद पुलिस तकनीकी सेल के माध्यम से जांच तो शुरू करती है। लेकिन अधिकांश मामलों में निष्कर्ष तक नहीं पहुंच पाती है।

----

केस एक

---

कहरा की सुप्रिया प्रियदर्शनी ने सदर थाना में साइबर ठगी की शिकायत कुछ दिन पहले की है। उसने बताया कि बैंक का एटीएम उसके पास है। लेकिन उनके खाते से ऑनलाइन शॉपिग कर ली गई। साइबर ठगों ने 29 हजार 700 रुपये उड़ा लिया। बताया कि वो करीब 10 दिन पहले एटीएम से राशि निकासी की थी। उसके बाद एटीएम उनके पास ही था। लेकिन इसी बीच दो दिनों में शॉपिग कर ली गई। बताया कि मोबाइल पर एक एसबीआइ का मैसेज आने के बाद जानकारी मिली। उसने कहा कि उनसे न तो मोबाइल पर किसी से बात हुई और न ही उसे कोई ओटीपी आई थी। बावजूद रुपये की निकासी कर ली गई।

----

केस दो

----

भवी साह चौक निवासी अभय कुमार ने भी बताया कि उनका एटीएम कार्ड उनके पास ही था। किसी प्रकार की सूचना उनके द्वारा किसी से शेयर नहीं की गई लेकिन उनके खाते से 13 हजार 140 रुपये की निकासी कर ली गई। दिए आवेदन में कहा कि खाते से रुपये दूसरे जगह ट्रांसफर किया गया है। बताया कि योनो एप पर ट्रांजेक्शन देखने के बाद उन्हें इसकी जानकारी मिली।

-----

क्या कहते हैं जानकार

----

इस मामले के जानकारी निकुम कुमार कहते हैं कि बिना क्लोन के या एटीएम कार्ड देखे इस तरह की घटना नहीं हो सकती है। कहा कि जब एटीएम से निकासी के लिए लोग जाते हैं तो पीछे खड़े व्यक्ति एटीएम के 16 डिजीट का नंबर और सीवीवी कोड देख लेते हैं और उसी आधार पर वो ऑनलाइन शॉपिग या नेट बैंकिग से राशि का ट्रांसफर करते हैं। ऐसे मामलों में सजग रहने की जरूरत है। अब बिना एटीएम कार्ड के ही योनो एप से लोग एसबीआइ के एटीएम से निकासी कर सकते हैं। जो सुरक्षित रहेगा।

----

शिकायत मिलने पर साइबर सेल के माध्यम से कार्रवाई की जाती है। कुछ मामले में आरोपित को पकड़ा भी गया है।

आरके सिंह, सदर थानाध्यक्ष, सहरसा।

Followers

MGID

Koshi Live News