Koshi Live-कोशी लाइव OMG/CRIME:रांची से पौने पांच करोड़ कैश लेकर भागे गैंग का युवक मधेपुरा में गिरफ्तार, 48 लाख केश बरामद। - Koshi Live-कोशी लाइव बिहार का नं1 ऑनलाइन न्यूज पोर्टल कोशी लाइव! विज्ञापन के लिए संपर्क करें MOB:7739152002

BREAKING

ADS

Translate

Thursday, December 10, 2020

OMG/CRIME:रांची से पौने पांच करोड़ कैश लेकर भागे गैंग का युवक मधेपुरा में गिरफ्तार, 48 लाख केश बरामद।


झारखंड के रांची स्थित रुट नंबर 106 के 20 एटीएम में कैश भरने वाली एजेंसी को झांसा देकर चार करोड़ 75 लाख 3 हजार रुपये लेकर फरार चल रहे गैंग के एक आरोपी को झारखंड पुलिस ने घैलाढ़ से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी युवक को पुलिस अपने साथ रांची ले गयी।

रांची सदर थाना पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर मंगलवार की रात छापेमारी कर घैलाढ़ के 25 वर्षीय युवक सह मामले के अप्राथमिक अभियुक्त प्रभाष कुमार को 47 लाख 96 हजार 5 सौ रुपये के साथ उसके घर से गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी के बाद रांची पुलिस ने मधेपुरा सीजेएम कोर्ट में अर्जी दायर कर अभियुक्त को दो दिनों के रिमांड पर रांची सिविल कोर्ट के सीजेएम वैशाली श्रीवास्तव की कोर्ट में अभियोजन हेतु पेश करने की मांग की। कोर्ट द्वारा सभी कानूनी प्रक्रिया पूरी कर अभियुक्त को रांची पुलिस के हवाले कर दिया गया। मामला रांची सदर का है।

मामले के सूचक सह एसआईएस प्राइवेट लिमिटेड के अधिकारी कंचन ओझा ने सदर थाना रांची में एफ आईआर दर्ज कराते हुए अपने ही कस्टोडियन पर 4 करोड़ 75 लाख 3 हजार रुपये हेराफेरी का आरोप लगाया था। सूचक ने स्पस्ट किया कि रांची सदर के रूट न0 106 के अंतर्गत आने वाले 20 एटीम में कैश भरने की सारी जिम्मेवारी उनकी एजेंसी को है। एजेंसी द्वारा बतौर कस्टोडियन सुपौल थरबिटिया निवासी गणेश कुमार और समस्तीपुर मुसरी घरारी निवासी शिवकुमार को एटीएम में रुपये भरने के लिये नियुक्त किया गया था।

15 दिसंबर 2019 से दोनों कस्टोडियन का मोबाइल ऑफ रहने से एजेंसी ने शक के आधार पर जब ऑडिट कराया तो कुल कैश में करोड़ो की हेराफेरी उजागर हुई। पूछताछ के क्रम में रांची में गिरफ्तार हुए युवक ने प्रभाष कुमार का नाम बताया। जिसे रांची पुलिस ने मंगलवार को घैलाढ़ से गिरफ्तार किया। गिरफ्तार युवक ने पुलिस के समक्ष स्वीकारोक्ति बयान देते घर में छिपा कर रखे 47 लाख 96 हजार 5 सौ रुपये भी बरामद करवा दिया। युवक ने फर्द बयान में बताया कि उसका भतीजा विपिन कुमार ने उसे फोन कर रांची आने को कहा था। एजेंसी के दोनों कस्टोडियन की मिलीभगत से सबने करोड़ो रूपये की हेराफेरी की और फरार हो गए। प्रभाष ने कहा कि जब वह रांची जेल में बंद अपने भतीजे विपिन से मिला तो उसने छिपाए गए 50 लाख रुपये के बारे में प्रभाष को बताया और कहा रुपये लेकर घर चला जाय।

Followers

MGID

Koshi Live News