Koshi Live-कोशी लाइव BIHAR/पूर्णियां शहर में अब नहीं दिखेगी पैंथर मोबाइल पुलिस - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Saturday, December 12, 2020

BIHAR/पूर्णियां शहर में अब नहीं दिखेगी पैंथर मोबाइल पुलिस


पूíणया। पुलिस अधीक्षक विशाल शर्मा ने क्राइम कंट्रोल के लिए पुलिस के कार्य प्रणाली में कई स्तरों पर बदलाव किया है। बीट प्रणाली (पैदल गश्ती) को सुचारू ढंग से संचालित करने के लिए बड़ी संख्या में पुलिसकíमयों का स्थानातरण किया गया है।

शहरी क्षेत्र में प्रतिनियुक्त पेंथर मोबाईल (मोटर साईकिल गश्ती) व्यवस्था को बंद कर दिया गया है। अब शहरी क्षेत्र में मोटर साइकिल से घूमने वाले पैंथर टाइगर मोबाइल पुलिस नहीं दिखेंगे। वहीं जिले के सभी थाना, ओपी एवं अन्य प्रतिष्ठान के गार्ड एवं चालकों की बदली की गई है।

एसपी ने बताया कि बीट प्रणाली को सुचारू ढ़ंग से संचालित के उद्देश्य से सभी संबंधित थाना एवं ओपी में पर्याप्त संख्या में पुलिस बल एवं अन्य संसाधन उपलब्ध कराया जा रहा है। इसी कड़ी में शहरी क्षेत्र में संचालित पेंथर मोबाईल (मोटर साइकिल गश्ती) व्यवस्था को तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया गया है। साथ ही छह माह से अधिक समय से एक ही थाना, ओपी में प्रतिनियुक्त 49 हवलदार, 90 महिला सिपाही, 216 पुरूष सिपाही एवं 40 वाहन चालकों एक थाना से दुसरे थाने में बदली किया गया है। सभी पुलिसकíमयों को आदेश दिया गया है कि वे 48 घटे के अन्दर नये पदस्थापन स्थल में योगदान देना सुनिश्चित करें।

पेंथर मोबाईल के जवान एवं उनके मोटरसाईकिल को संबंधित थाना गार्ड में प्रतिनियुक्ति कर दिया गया है। अब इन जवानों को बीट व्यवस्था में लगाया जाएगा। इनका मुख्य दायित्व चोरी एवं गृहभेदन की घटना पर रोक लगाना होगा। बीट व्यवस्था के अंतर्गत थानावार चिह्नित व्यवसायिक प्रतिष्ठान, चिकित्सक, वरिष्ठ नागरिक, वरीय पदाधिकारी, बडे़-बड़े होटल, मंत्री, बैंक, वायु सेना हवाई अड्डा, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, ज्वेलर्स दुकान, पेट्रोल पंप, एटीएम, मॉल आदि क्षेत्रों को ध्यान में रखते हुए पैदल गश्ती करेंगे। बीट मार्ग में शामिल पुलिस पदाधिकारी एवं कíमयों को दायित्व दिया गया है कि वे आम नागरिकों से समन्वय स्थापित कर अपराध नियंत्रण के लिए कार्य करें। आम नागरिकों बीट बुक में अपनी शिकायत एवं बहुमूल्य सुझाव को अंकित कर सकेंगे।

एसपी ने बताया कि यदि कोई नागरिक अपना घर छोड़कर जाता है तो इसकी सूचना संबंधित थानाध्यक्ष एवं संबंधित बीट पदाधिकारी को भी देंगे, ताकि संबंधित थानाध्यक्ष एवं बीट पदाधिकारी के द्वारा घर की निगरानी कर सके।

Followers

MGID

Koshi Live News