Koshi Live-कोशी लाइव BIHAR NEWS:हार के बाद फेरबदल के मूड में कांग्रेस, सुरजेवाला बनाए जा सकते हैं बिहार के प्रभारी - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Saturday, December 12, 2020

BIHAR NEWS:हार के बाद फेरबदल के मूड में कांग्रेस, सुरजेवाला बनाए जा सकते हैं बिहार के प्रभारी


बिहार कांग्रेस के प्रभारी बदले जाएंगे, इस बात की चर्चा जोरों पर है. बिहार में संपन्न हुए वर्तमान विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन को देखते हुए बिहार के प्रभारी के तौर पर रणदीप सुरजेवाला (Randeep singh surjewala) को पदस्थापित करने की तैयारी जोरों पर है. रणदीप सुरजेवाला फिलहाल कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं और कांग्रेस नेता राहुल गांधी से खास नजदीकी रखते हैं.

गोहिल को बदलने की चर्चा जोरों पर क्यों है?

बिहार कांग्रेस का सांगठनिक चुनाव होना है और इस क्रम में नए और युवा नेता की तलाश है जो पार्टी में जान फूंकने में कारगर हो.

साल 2018 में सीपी जोशी की जगह शक्ति सिंह गोहिल (Shakti sinh gohil) को प्रभारी (bihar congress incharge) बनाए जाने के पीछे पार्टी को भरोसा था कि शक्ति सिंह गोहिल कांग्रेस पार्टी को बिहार में मजबूत करा पाने में कामयाब रहेंगे. बिहार विधानसभा चुनाव से ठीक पहले टिकट वितरण के दौरान भी शक्ति सिंह गोहिल पर पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा टिकट बेचने के गंभीर आरोप लगाए गए थे. उस दौरान भी पार्टी के शीर्ष स्तर पर टिकट वितरण को लेकर विचार विमर्श हुआ था.

इसे देखते हुए कांग्रेस पार्टी का शीर्ष नेतृत्व खराब चुनाव परिणाम को देखते हुए पार्टी का प्रभार बदलने का मन बना चुका है. कांग्रेस के एक राज्य स्तर के नेता ने नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा कि शक्ति सिंह गोहिल अहमद पटेल के खेमे से आते हैं. अहमद पटेल के स्वर्गवास के बाद बिहार की राजनीति पर प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से तारीक अनवर की पकड़ मजबूत होगी. तारिक अनवर बिहार के रहने वाले भी हैं और राहुल गांघी के पसंदीदा नेता भी.

अहमद पटेल की खल रही कमी

कांग्रेस में चाणक्य की हैसियत रखने वाले अहमद पटेल के निधन के बाद उनके खेमे के कई लोगों को उनकी कमी खल रही होगी. वैसे बिहार कांग्रेस के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद से ही बिहार के प्रभारी बदले जाएंगे इसकी चर्चा पुरजोर चलती रही है. बिहार कांग्रेस को इस बार गठबंधन ने 70 सीटें दी थीं लेकिन महज 19 सीटों पर कांग्रेस की जीत से टिकट बंटवारे को लेकर सवाल उठ खड़े हुए थे. वैसे साल 2015 के चुनाव में कांग्रेस को 27 सीटें मिली थीं और उसने मजह 57 सीटों पर चुनाव लड़ा था.

सुरजेवाला के नाम पर चर्जा तेज

रणदीप सुरजेवाला कांग्रेस के युवा राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं जिन्हें राहुल गांधी का वरदहस्त प्राप्त है. साल 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव (bihar assembly election) के दौरान रणदीप सिंह सुरजेवाला बिहार के सीमांचल इलाके में 15 दिनों से ज्यादा डेरा डाले हुए थे. वे बिहार में चल रही तमाम राजनीतिक गतिविधियों पर कांग्रेस की तरफ से बयान भी दे रहे थे. कहा जा रहा है राहुल गांधी से नजदीकी रखने के कारण उनके नाम पर मुहर लगना तय है.

दुष्यंत चौटाला को पसंद है किसान नेता कहलाना, MSP की शर्त पर बची रहेगी खट्टर सरकार

बिहार कांग्रेस के अध्यक्ष मदन मोहन झा ने रणदीप सिंह सुरजेवाला के नाम पर कुछ न बोलते हुए कहा कि पार्टी का प्रभारी कौन होगा, ये आलाकमान तय करता है. आलाकमान की तरफ से औपचारिक या अनौपचारिक तौर पर ऐसा कोई संवाद उनसे नहीं किया गया है. वैसे मदनमोहन झा ने ये कहा कि शक्ति सिंह गोहिल बीमार चल रहे हैं, इसलिए पार्टी आलाकमान के पर निर्भर करता है कि वो इस संदर्भ में क्या फैसला लेता है.

Followers

MGID

Koshi Live News