Koshi Live-कोशी लाइव खुलासा/बिहार में गरीबों के राशन कार्ड बनाने में भारी खामियां उजागर, 14 जिलों में 1.17 लाख मामलों की दोबारा जांच - Koshi Live-कोशी लाइव

BREAKING

ADS

Translate

Tuesday, December 8, 2020

खुलासा/बिहार में गरीबों के राशन कार्ड बनाने में भारी खामियां उजागर, 14 जिलों में 1.17 लाख मामलों की दोबारा जांच


पटना, राज्य ब्यूरो। बिहार में 1.17 लाख राशन कार्ड का इलेक्ट्रॉनिक डाटा बेस (Electronic Data Base) तैयार करने में खामियां उजागर हुई हैं। उसे आधार नंबर से लिंक करने का काम पूरा करने को कहा गया था, लेकिन डाटाबेस बनाने और आधार नंबर से जोड़ने के क्रम में लाभुकों के नाम

कहीं छूट गए हैं तो कहीं गलत नाम-पता लिंक हो गए हैं। यह चूक जिलास्तर पर डाटाबेस तैयार करने में हुई है। खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव ने राशन कार्ड का डाटाबेस तैयार करने का काम तेजी से पूरा करने का निर्देश दिया है। विभाग का दावा है कि 14 जिलों में राशन कार्डों में हुई गड़बड़ी को 31 दिसंबर से पहले ठीक करा लिया जाएगा खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि सर्वर आदि समस्याओं को देखते हुए सभी जिलों के अनुमंडल अधिकारियों से लेकर पीडीएस दुकानदारों को नये सिरे से आदेश दिया गया है कि यदि पॉस मशीन काम नहीं कर रही है या मशीन फिंगर रीड नहीं कर रही है तो दुकानदार राशनकार्ड धारकों को राशन देने से मना नहीं करेंगे। मशीन के काम नहीं करने की दशा में हर दुकानदार उपभोक्ताओं को मैनुअल प्रणाली से राशन वितरित करेगा। ई-पॉस मशीन के काम न करने की स्थिति में आधार कार्ड दिखाने पर राशन दे दिया जाएगा।

राशन वितरण में गड़बड़ी हो तो करें शिकायत

विभाग की ओर से सभी एसडीओ को एडवाइजरी जारी कर कहा गया है कि यदि निर्धारित समय पर डीलर दुकान पर उपस्थित न मिले तो उसपर कार्रवाई करें। यही निर्देश पर्यवेक्षणीय अधिकारियों को भी देते हुए सचेत किया गया है। लाभुकों से भी विभाग ने अपील किया है कि यदि राशन वितरण में गड़बड़ी हो तो तत्काल एसडीओ कंट्रोल रूम को सूचित करें।

Followers

MGID

Koshi Live News