BSEB/कोरोना काल में बिहार के मैट्रिक-इंटर में फेल छात्रों को बड़ी राहत... जानिए सरकार ने कैसे बचाया परीक्षार्थियों का पूरा साल - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Thursday, August 6, 2020

BSEB/कोरोना काल में बिहार के मैट्रिक-इंटर में फेल छात्रों को बड़ी राहत... जानिए सरकार ने कैसे बचाया परीक्षार्थियों का पूरा साल

पटना:
बिहार में 2020 का मैट्रिक और इंटर के रिजल्ट आने के बाद तीन लाख से ज्यादा परीक्षार्थी फेल हो गए थे। लेकिन कोरोना महामारी के बीच इनकी कंपार्टमेंटल परीक्षा होने की संभावना न के बराबर थी। असंभव परिस्थितियों के चलते बिहार के शिक्षा विभाग ने ऐतिहासिक फैसला लिया और कंपार्टमेंल परीक्षा में शामिल होने की योग्यता रखने वाले छात्र-छात्रों को बड़ी राहत दे दी।

मैट्रिक और इंटर के 2 लाख से ज्यादा फेल परीक्षार्थी किए गए पासमैट्रिक और इंटर परीक्षा में फेल हुए छात्रों के लिए शिक्षा विभाग का नियम है। इसके मुताबिक ऐसे छात्रों को कम्पार्टमेंटल परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाती है जो एक या दो विषयों में फेल हों। कोरोना संकट के कारण बिहार में मैट्रिक और इंटर की कम्पार्टमेंटल परीक्षा कराना नामुमकिन था। लिहाजा बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने राज्य सरकार से दिशा निर्देश मांगा था। सरकार ने कहा कि कोरोना के कारण कम्पार्टमेंटल परीक्षा संभव नहीं है और अगर दो-तीन महीने बाद ये परीक्षाएं ली भी जाएं तो नतीजे घोषित करने में नवंबर-दिसंबर तक का समय लग जायेगा। ऐसे में छात्रों को कम्पार्टमेंटल परीक्षा का कोई फायदा ही नहीं मिल पाएगा।

हरी झंडी मिलते ही बिहार विद्याल परीक्षा समिति ने इस बाबत गुरुवार की शाम बड़ा ऐलान कर दिया। समिति की ओर से जारी प्रेस रिलीज के मुताबिक मैट्रिक और इंटर के 2,14,287 परीक्षार्थियों को बगैर कंपार्टमेंटल परीक्षा लिए पास कर दिया गया है। मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में उन फेल छात्रों को पास किया गया है जो सिर्फ एक या दो सब्जेक्ट में फेल हुए थे।

देखिए बिहार विद्यालय की ये प्रेस रिलीज
BSEB PRESS RELEASE 06 AUGUST 2020


मैट्रिक के 1 लाख 32 हजार 486परीक्षार्थियों कोमिली राहत
बिहार में इस साल मैट्रिक की परीक्षा में 2,08, 147 छात्र-छात्राएं फेल हुए थे। लेकिन उनमें से 1,32, 486 ऐसे थे जो सिर्फ एक या दो सब्जेक्ट्स में फेल हुए थे।
बिहार सरकार के इस फैसले से मैट्रिक के इन छात्र-छात्राओं को बड़ी राहत मिल गई है। इन सभी 1,32, 486 परीक्षार्थियों को पास कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें... Sushant Singh Rajput case: IPS विनय तिवारी अब भी है क्वारंटीन, DGP गुप्तेश्वर पांडे बोले- 'हम लीगल एक्शन लेंगे'

इंटर के 70 हजार से ज्यादा परीक्षार्थियों को फायदा
वहीं अगर इंटर की बात करें तो इसमें 1,32,486 परीक्षार्थी फेल हुए थे। लेकिन इनमें से 72,610 परीक्षार्थी ऐसे थे जो नियमों के मुताबिक कंपार्टमेंटल परीक्षा में बैठ सकते थे। लिहाजा शिक्षा विभाग ने इन्हें भी पास कर दिया।

ये भी देखें... Bihar Assembly Election 2020: वर्चुअल रैली में बोले राहुल गांधी- आगे बड़ा तूफान आने वाला है

पास करने के लिए क्या करेगी सरकार
ऐसे छात्रों को पास करने के लिए बिहार के शिक्षा विभाग ने तय किया है कि ऐसे छात्र जिस विषय में फेल हैं उसमें उनका नंबर बढ़ा कर उन्हें पास घोषित कर दिया जायेगा। हालांकि शिक्षा विभाग ने साफ किया है कि ये फैसला कोरोना से पैदा हुए ऐतिहासिक संकट के चलते लिया गया है और ये सिर्फ एक बार के लिए ही है।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

Total Pageviews