बिहार में कोरोना संकट में परिवार की भूख मिटाने को जिंदा रिक्शाचालक़ कफ़न ओढ़ बना मुर्दा - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Friday, July 24, 2020

बिहार में कोरोना संकट में परिवार की भूख मिटाने को जिंदा रिक्शाचालक़ कफ़न ओढ़ बना मुर्दा

बिहार में कोरोना संकट में जब भूख मिटाने को जिंदा रिक्शाचालक़ कफ़न ओढ़ बना मुर्दा! जी हां, चौंकिए नहीं। यह रिक्शा चालक मरा नहीं है, बल्कि जिंदा है। लेकिन, पेट की भूख और जिंदगी का सवाल है। ऐसे में भूख मिटाने के लिए उसे जिंदा ही कफ़न ओढ़कर शरीर पर फूलों की माला रखनी पड़ रही है।

दरअसल कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बिहार में फिर से किये गये लॉक डाउन में रिक्शे की सवारी नहीं मिलने के कारण उसके सामने भूखमरी की स्थिति आ गई है। इसलिए पटना जिले के बिहटा निवासी रिक्शा चालक रामदेव को आरा में भूख मिटाने को यह तरकीब अपनानी पड़ रही है। वह आरा में ही रिक्शा चलाकर परिवार का भरण पोषण करता है, लेकिन पैसेंजर नहीं मिलने के कारण कभी-कभी खाना भी जुटाना मुश्किल हो रहा है।

मजबूरी में उसने यह तरकीब अपनाई है। स्थिति यह हो गई  तो उसने शरीर पर कफन ओढ़ कर माला रखी और अगरबत्ती जलाई। फिर डिस टैंक रोड के किनारे लेट गया। जो भी राहगीर आते- जाते थे, उस पर रूप में पैसे रख देते थे। इस तरह उसे कुछ पैसे मिल गये। उसने बताया कि पहले लॉक डाउन में कुछ वितरण में मदद भी मिली पर अब तो मदद भी नहीं मिल रही। लिहाजा मजबूरी में जिंदा रहते हुए भी मुर्दा बनना पड़ रहा है।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews