सहरसा/राखी बांधने ससुराल से पहुंची थी बहन, डूबने से भाई की मौत - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Tuesday, July 28, 2020

सहरसा/राखी बांधने ससुराल से पहुंची थी बहन, डूबने से भाई की मौत

अपने छोटे भाई माणिक चंद को राखी बांधने ससुराल महिषी के बघवा से बीते रविवार को ही मैके लौटी बड़ी बहन अपने भाई की लाश देख कलेजा पीट कर विधाता को मनहुश दिन पर कोश रही हैं।

चीत्कार मार छोटे भाई के शव से लिपट कर विलखती बहन बारंबार अपने भाई के कलाई को निहार रही हैं। दूसरी ओर छोटी बहन भी अपने बड़े भाई के सीने से चिपट कर शव उठाने नहीं दे रही थी। प्रथम श्रेणी से दसवीं में उत्तीर्ण होने के बाद माणिकचंद सुपौल में रहकर पढ़ाई कर रहा था। लॉकडाउन के दौरान बेटा गांव आया था जिस दौरान नदी में नहाने के दौरान डूबकर मौत हो गई। परदेश में खुद मजदूरी कर पिता जयनारायण यादव ने अपने बेटे को अफसर बनाने का सपना पाल रखा था। इंटर में नामांकन का गांव में रहकर इंतजार कर रहे बेटा का अंत यह होगा इसे देखकर समूचा गांव मर्माहत है।

मालूम हो कि नवहट्टा प्रखंड के हाटी पंचायत के मुरली मेंथाही गांव में कोसी नदी में माणिक चंद की मौत हो गई है। पांच बहन का इकलौता भाई माणिकचंद सोमवार दोपहर नहाने के लिए बगल के फौड़ी में गया था। गहरे पानी में चले जाने के कारण साथ में नहा रहे सहपाठी द्वारा बचाया नहीं जा सका। सहपाठी द्वारा परिजनों को दी गई सूचना पर तत्काल नदी से किशोर को निकाला गया लेकिन तब तक पानी अधिक मात्रा में पी लेने के कारण मौत हो चुकी थी। इकलौते बेटे की दर्दनाक मौत को देखकर माता बिंदी देवी की उठती चीत्कार से समुचा गांव गमगीन हो गया। पिता जयनारायण यादव सहित सभी बहनों का रो रोकर बुरा हाल है। डरहार ओपी अध्यक्ष विनोद कुमार ने बताया शव को नदी से निकाल कर पोस्टमार्टम करवाया गया।

वहं दूसरे बालक शिवम का भी शव नदी से बरामद हो गया। परिजनों ने बताया कि रविवार को शंभू साह का 14 वर्षीय पुत्र शिवम कुमार एवं सुनील साह का 15 वर्षीय पुत्र दिलखुश कुमार गांव से पश्चिम धबौली कपसिया ड्राइनेज स्थित असुआ बांध समीप नहाने गया था। जिस दौरान दोनों उसी नदी में डूब गया था। डूबने की खबर बस्ती में फैलते ही सैकड़ों लोग जुटकर स्थानीय पुलिस प्रशासन को सूचना देते कई ग्रामीण तैराक पानी में दोनों डूबे लड़के को निकालने की प्रयास म़े जदोजहद करते रहे। मौके पर मौजूद सीआई अनिल मिश्र ने कपसिया से गोताखोर चतुरी पासवान को बुलाया। लगभग डूबने के 6 घंटा बाद दिलखुश कुमार को चतुरी पासवान ने 10 फीट के नीचे से निकाला। शाम होने के कारण दुसरा शव नहीं निकाल सका । लेकिन काई ग्रामीण सहित परिजन नदी किनारे जाल लगाकर कैम्प कर रहे थे। सोमवार की सुबह शिवम का पानी के उपर निकलकर जाल में फंसने से ग्रामीणों ने शव को कब्जा में लेते पुलिस के माध्यम से पोस्टमार्टम में भेजवाया।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews