BIHAR/बिहार में क्वारंटाइन सेंटर बंद होने के बाद कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ा - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Monday, June 22, 2020

BIHAR/बिहार में क्वारंटाइन सेंटर बंद होने के बाद कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ा




बिहार में क्वारंटाइन सेंटर बंद होने के बाद कोरोना संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ने लगा है। रैंडम सैंपल की रिपोर्ट दो से तीन दिनों में आती है। इनमें कोई पॉजिटिव मिल जाता है तो उसे ढूंढ़ने में मशक्कत करनी पड़ रही है। सिविल सर्जन दफ्तर के वरीय अधिकारी ने ये जानकारी दी है।

स्वास्थ्य विभाग के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार क्वारंटाइन सेंटर के बंद होने के बाद समुदाय आधारित सर्वेक्षण शुरू किया गया है। भीड़ वाले स्थानों से भी रैंडम सैम्पल लिये जा रहे हैं। जिलों में जांच की सुविधा बढ़ने से भी संक्रमितों की पहचान में सुविधा हुई है।

स्वास्थ्य विभाग के सामने चुनौती उन लोगों को चिह्नित करना और उनकी जांच कराना है, जिनका संपर्क पहले मरीज के संबंधियों से रहा है। यदि उनमें से किसी की रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो आईसीएमआर के अनुसार उसे कम्युनिटी ट्रांसमिशन या सामुदायिक संक्रमण माना जाएगा।

शहर में संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में अगर लोग स्वयं सावधानी नहीं बरतेंगे तो यह सामुदायिक संक्रमण का भी रूप ले सकता है। जिस तेजी से संक्रमित मिल रहे हैं, इससे लोगों को सावधान हो जाना चाहिए।
- डॉ. विद्यापति चौधरी, प्राचार्य पीएमसीएच

पटना और राज्य के अन्य हिस्सों में लोग कोरोना को लेकर काफी लापरवाही बरत रहे हैं। उन्हें लगता ही नहीं कि कोई बीमारी है। जब लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं तो खामियाजा पूरे परिवार को भुगतना पड़ रहा है।
-डॉ. एमसी सिंह, राज्य में कोरोना के नोडल पदाधिकारी

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews