मधेपुरा।लूट के 24 घंटे बाद जांच के लिए पहुंची पुलिस - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Friday, June 19, 2020

मधेपुरा।लूट के 24 घंटे बाद जांच के लिए पहुंची पुलिस


मधेपुरा। बढ़ते अपराध व पुलिस की उदासीन कार्यशैली से लोग परेशान हैं। खासकर उदाकिशुनगंज पुलिस की कार्यशैली पर लगातार सवाल उठ रहा है। ताजा मामला घर में तोड़ फोड़ और लूटपाट को लेकर सामने आया है। इस मामले में पुलिस को स्थलीय जांच में 24 घंटे का वक्त लग गया। जबकि थाना से घटना स्थल की दूरी महज दो किलोमीटर होगी। घरों को तोड़ने और लूटपाट के संगीन मामलों में जहां तत्काल कार्रवाई होनी चाहिए। वहां पुलिस को पहुंचने में दो दिन यानि 24 घंटे का वक्त लग गया। यद्यपि पुलिस कार्रवाई के मामले में ठोस नतीजे पर नहीं पहुंच पाया। स्थल पर पहुंची पुलिस ने बारिकी से पड़ताल की। पीड़ित घर वालों से पूरी जानकारी ली। घर वालों ने घटित घटनाओं के बारे में विस्तार से बताया। वहीं पुलिस ने पीड़ित के सामने आरोपित के मोबाइल पर बात की। आरोपित को घटना स्थल पर पहुंचने को कहा। पुलिस ने पीड़ित पक्ष के बयान भी दर्ज किए। पीड़ित से कहा गया कि आरोपित के आने पर मामले का समाधान हो जाएगा। वैसे पुलिस जांच में वास्तविक मामला क्या सामने आया है। इसका खुलासा नहीं हो पाया है। सूत्र बताते हैं कि पुलिस ने घर पर तोड़ फोड़ करने के मामले को सही पाया। जबकि लूट की वारदात को पुलिस गलत मान रही है। जबकि पीड़ित घर वालों का आरोप है कि लोगों ने नकदी, गहने और समान लूट लिया गया है। पीड़ित पक्ष ने करीब पांच लाख की लूट को लेकर थाना में आवेदन दिया है। खैर पुलिस जांच की वास्तविकता किस हद तक सही है। यह लोगों को पता नहीं। लेकिन जांच के लिए पुलिस को पहुंचने में लगे 24 घंटे वक्त पर लोग सवाल उठा रहे हैं। इस मामले में एक मामला यह भी सामने आ रहा है कि जिस रहुआ गांव के जयकांत यादव को आरोपित किया गया है। उस आरोपित पक्ष का कहना है कि उसकी बगल में जमीन है। उस पर अवैध रूप से घर बना लिया गया है। वहीं पीएचईडी विभाग ने जबरन नल जल योजना के तहत बोरिग गला दिया है। जबकि पीड़ित पक्ष का कहना है कि वह वर्षों से नहर के बांध पर घर बना कर रह रहे हैं। पीड़ित का घर नहर पर है। जबकि घर के आगे सड़क है। ऐसे में आरोपित पक्ष के जमीन होने की बात कहा तक जायज दिखता है। खैर पुलिस जांच में दोनों पक्षों के आरोपों का खुलासा हो पाएगा। बहरहाल पुलिस कार्रवाई का पता लोगों को नहीं है। लोगों के बीच चर्चा है कि इस मामले में पुलिस आरोपित पक्ष से मिले हुए हैं। तभी तो कार्रवाई के मामले में बहानेबाजी हो रही है। मालूम हो कि उदाकिशुनगंज थाना मुख्यालय के किशुनगंज पंचायत अंतर्गत बिरंची टोला वार्ड संख्या पांच में हथियार बंद बदमाशो ने गुरुवार को दिन दहाड़े घर में तोड़ फोड़ की थी। वहीं पीड़ित पक्ष ने नकदी सहित करीब पांच लाख मूल्य के समान लूट लिए जाने का आरोप लगाया। बताया गया कि लूट की वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश भाग निकले। इस मामले में गृहस्वामी चलित्तर यादव ने उदाकिशुनगंज प्रखंड क्षेत्र के बिहारीगंज थाना क्षेत्र के रहुआ गांव के जयकांत यादव को आरोपित करते हुए थाना में लिखित आवेदन दिया है। इस मामले में पीड़ित पक्ष के द्वारा थाना में दिए गए आवेदन में गुरुवार को दिन के करीब 12 बजे की वारदात होने का जिक्र किया गया है। जबकि पुलिस घटना के दूसरे दिन शुक्रवार को दिन के 12 बजे जांच करने पहुंची। इसी बात से लोग पुलिस कार्यशैली पर सवाल उठा रहे हैं।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews