मधेपुरा।बारिश से किसानों में मायूसी, गेहूं व तेलहन फसल को लेकर बढ़ी चिता - कोशी लाइव

Breaking

Home Top Ad

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

कार किंग [मधेपुरा]

कार किंग [मधेपुरा]
पंचमुखी चौक,मधेपुरा

Translate

Saturday, March 14, 2020

मधेपुरा।बारिश से किसानों में मायूसी, गेहूं व तेलहन फसल को लेकर बढ़ी चिता

कोशी लाइव_नई सोच नई खबर।

मधेपुरा। जिले में शुक्रवार की रात से हो रही बारिश से रबी फसलों को क्षति पहुंचने की संभावना बढ़ गई है। खासकर गेहूं की तैयार हो चुकी फसल को अधिक नुकसान पहुंचने की संभावना है। इसके अलावा, तेलहन, दहलन व आम की फसल को भी क्षति पहुंच सकती है। कृषि विशेषज्ञों की मानें तो अभी तक की हुई बारिश से कोई खास क्षति नहीं हुई है। लेकिन यही बारिश लगातार जारी रही तो फसल अत्यधिक प्रभावित हो सकती है।
मालूम हो कि जिले में करीब 48 हजार हेक्टेयर में गेहूं की खेती हुई है। इसके अलावा 3200 हेक्टेयर में तेलहन फसल लगाई गई है। कृषि विभाग के मुताबिक यहां तेलहन की खेती काफी कम होती है। तेलहन में भी किसान मुख्य रूप से मूंग की खेती करते हैं। मूंग की फसल गेहूं के कटने के बाद लगाई जाएगी। कृषि विभाग के अधिकारी ने बताया कि बारिश से फसलों पर पड़े प्रभाव का आकलन करने का निर्देश कृषि समन्वयक व किसान सलाहकार को दिया गया है। रुक-रुककर हो रही बारिश जिले के विभिन्न हिस्सों में शुक्रवार की रात से रुक-रुककर हो रही बारिश से किसानों की चिता बढ़ गई है। किसान गेहूं के फसल को लेकर खासे चितित नजर आ रहे हैं। लेकिन कम मात्रा में हुई बारिश से किसानों के लिए अभी राहत है। कृषि विभाग के मुताबिक अभी तक तीन एमएम बारिश हुई है। विभाग का कहना है कि इससे कोई खास चितित होने की जरूरत नहीं है। कृषि विभाग की ओर प्रखंड क्षेत्र में आकलन का निर्देश जारी किया गया है। प्रारंभिक रिपोर्ट कोई खास क्षति नहीं पहुंचने की बात कृषि विभाग की ओर कही गई है।
अधिक बारिश होने पर होगा काफी नुकसान
कृषि वैज्ञानिकों के मुताबिक अभी तक हुई बारिश से कोई खास क्षति नही हुई है। लेकिन लगातार बारिश होने से क्षति की संभावना बढ़ सकती है। गेहूं दलहन के साथ आम के मंजर में मघुआ कीट लगने की संभावना बढ़ सकती है। आम के मंजर में महुआ कीट लगने पर काफी क्षति हो सकती है। इससे मंजर में आम का दाना आने की संभावना कम रहेगी। इसी वजह से किसानों की चिता बढ़ गई है।
जिले में रबी फसलों की खेती गेहूं - 48 हजार हेक्टेयर तेलहन - 3200 हेक्टेयर
कोट बारिश से फसलों कोई खास क्षति नहीं हुई है। प्रखंड क्षेत्रों में कृषि विभाग के किसान सलाहकार और कृषि समन्वयक को आकलन का निर्देश दिया गया है। अभी तक हुई बारिश से फसलों के क्षति होने की संभावना कम नजर आ रही है। -राजन बालन, जिला कृषि पदाधिकारी,
मधेपुरा
अधिक बारिश होने की स्थिति में किसानों का काफी नुकसान हो सकता है। अभी हुई बारिश से कोई खास क्षति नहीं हुई है। अधिक बारिश होने पर गेहूं, तेलहन फसलों के साथ-साथ आम को भी काफी क्षति होगी। -डॉ. मिथिलेश कुमार राय, कृषि वैज्ञानिक, कृषि विज्ञान केंद्र, मधेपुरा

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

Total Pageviews

Pages