BIHAR:तेजप्रताप यादव ने लिया तेजस्वी को CM बनाने का संकल्प, 2020 के रण में बनेंगे 'सारथी' - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Wednesday, February 12, 2020

BIHAR:तेजप्रताप यादव ने लिया तेजस्वी को CM बनाने का संकल्प, 2020 के रण में बनेंगे 'सारथी'

कोशी लाइव_नई सोच नई खबर।

तेजप्रताप यादव ने लिया तेजस्वी को CM बनाने का संकल्प, 2020 के रण में बनेंगे 'सारथी'

नए नारे के जरिये तेजप्रताप यादव (Tejpratap Yadav) ने यह संकल्प ले लिया है कि 2020 के रण में वो अपने छोटे भाई तेजस्वी (Tejasvi Yadav) को बिहार की राजगद्दी पर बिठाकर ही दम लेंगे.


पटना. 2019 के लोकसभा चुनाव (2019 Loksabha Election) में तेजप्रताप यादव (Tejpratap Yadav) की बगावत से राजद (RJD) को नुकसान हुआ था. उसके डैमेज कंट्रोल के लिए तेजप्रताप यादव इस बार पश्चाताप कर रहे हैं. तेजप्रताप ने इस बार संकल्प लिया है कि तेजस्वी को हर हाल में बिहार का मुख्यमंत्री बनाकर रहेंगे. इसके लिए उन्होंने खास रणनीति बनाई है.
तेज़ रफ्तार, तेजस्वी सरकार
तेजप्रताप का नया नारा है तेज़ रफ़्तार, तेजस्वी सरकार. इस नारे के जरिये तेजप्रताप यादव ने यह संकल्प ले लिया है कि 2020 के रण में वो अपने छोटे भाई तेजस्वी को बिहार की राजगद्दी पर बिठाकर ही दम लेंगे और इसके लिए वो तेज़ रफ़्तार से हर जिले, हर गांव और हर टोलों में धुआंधार अभियान भी चलाएंगे. तेजप्रताप के इस नए मिशन की शुरुआत मसौढ़ी से शुरू भी हो चुकी है. रविदास जयंती के मौके पर तेजप्रताप ने अभी दो दिन पहले ही दलितों की बस्ती में जाकर उनके साथ समय भी बिताया था. कुछ इसी तरह तेजप्रताप हर जिले में जाकर आरजेडी और लालू यादव की विचाराधारा को जन जन तक पहुंचाएंगें तेजप्रताप ने ये ठान लिया है कि उनको चाहे कितना भी मेहनत करनी पड़े वो तेजस्वी को मुख्यमंत्री बनाकर ही सांस लेंगे.
तेजप्रताप करेंगे पश्चाताप
तेजप्रताप के इस नारे के पीछे एक कहानी भी है. दरअसल तेजप्रताप इस नए नारे के जरिये तेजस्वी और उनके चाहने वालों के बीच एक मैसेज देने की कोशिश में हैं कि वो तेजस्वी से बहुत प्यार करते हैं और फिर जो कुछ उनसे पिछले लोकसभा चुनाव में जाने-अनजाने में भूल हो गई थी उसे सुधारने के लिए वो इस बार पश्चाताप कर रहे हैं.
तेजप्रताप की बगावत ने 2019 में लुटाई थी पार्टी की लुटिया
2019 के लोकसभा चुनाव में तेजप्रताप की बगावत ने तेजस्वी और पार्टी का बड़ा नुकसान किया था. तेजप्रताप ने आरजेडी के उम्मीदवारों के खिलाफ जहानाबाद, शिवहर और हाजीपुर से अपना प्रत्याशी भी उतारा था जिसके चलते पार्टी को फ़जीहत भी झेलनी पड़ी थी वहीं जहानाबाद सीट तेजप्रताप के चलते ही आरजेडी बड़े कम अंतरों से हार गई थी. लोकसभा चुनाव में तेजप्रताप के इसी बगावत के चलते पार्टी के भीतर उनके खिलाफ एक बड़ी गोलबंदी भी शुरू हो गई है तेजप्रताप अब इसी डैमेज को कंट्रोल करने की कवायद में जुट गए हैं.

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

Total Pageviews