BIHAR NEWS:कोसी, सीमांचल और पूर्व बिहार में ट्रेड यूनियनों और सेवा संघों के आह्वान पर देशव्यापी हड़ताल का दिखा असर - कोशी लाइव

BREAKING

HAPPY INDIPENDENCE DAY

HAPPY INDIPENDENCE DAY

विज्ञापन

विज्ञापन

Wednesday, January 8, 2020

BIHAR NEWS:कोसी, सीमांचल और पूर्व बिहार में ट्रेड यूनियनों और सेवा संघों के आह्वान पर देशव्यापी हड़ताल का दिखा असर

कोशी लाइव_नई सोच नई खबर।

विभिन्न ट्रेड यूनियनों और सेवा संघों के आह्वान पर बुधवार को कोसी, सीमांचल और पूर्व बिहार में देशव्यापी हड़ताल का व्यापक असर दिखाई दिया। बंद समर्थकों ने सुबह से ही घूम-घूमकर बाजारों को बंद करवाना शुरू कर दिया था। कई बैंकों में हड़ताल की वजह से ताले लटके रहे तो कई जगहों पर हड़ताल समर्थकों ने हाईवे को जाम रखा। हालांकि खबर लिखे जाने के दौरान कहीं भी झड़प या हिंसा की खबर नहीं है।
अररिया में सरकारी कर्मचारी हड़ताल पर, बैंकों में भी लटका रहा ताला
अररिया में बुधवार को विभिन्न ट्रेड यूनियनों और सेवा संघों के आह्वान पर जहां 12 सूत्री मांगों को लेकर सरकारी कर्मचारी हड़ताल पर रहे। वहीं बैंक ऑफ बड़ोदा, सेंट्रल बैंक, केनरा बैंक, पंजाब नेशनल बैंक आदि के अलावा एलआईसी में भी ताला लटका रहा। वहीं दूसरी तरफ जिला अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के बैनर तले महासंघ भवन में बैठक आयोजित कर हड़ताल को सफल बनाने का संकल्प लिया गया। महासंघ के नेता सुभाष झा व अनंत झा ने बताया कि उनकी प्रमुख मांगों में बेरोजगारी व मंहगाई पर लगाम लगाना, पुरानी पेंशन नीति को लागू करना, सार्वजनिक उद्योगों व उपक्रमों के निजीकरण, ठेका व संविदा की बहाली पर रोक आदि शामिल हैं। वहीं महासंघ के अध्यक्ष व ट्रेड यूनियन कॉर्डिनेशन कमेटी के संयोजक जटा शंकर सिंह ने बताया कि देश के वर्तमान माहौल से लोग परेशान हैं। हिन्दू व मुस्लिम सभी की स्थिति एक जैसी है। ट्रेड यूनियन सीएए व एनआरसी का भी विरोध करता है। धर्म के बुनियाद पर नागरिकता देना संविधान के मूल भावना के विरुद्ध है। भारत का संविधान देश के हर नागरिक को समान अधिकार देता है। लिहाजा केंद्र सरकार ऐसे कानून को वापस ले।
सुपौल में बंद रहे बैंक, सड़कों पर कम रही आवाजाही
सुपौल में बुधवार को बंद का असर सुबह से ही दिखा। एसबीआई और प्राइवेट बैंक को छोड़कर सभी बैंकों में ताले लटके रहे। बैंककर्मी सुबह से सड़क पर उतर आए और घूम-घूमकर बैंको को बंद कराया। हड़ताल में शामिल बैंककर्मी केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर नारे भी लगा रहे थे। उधर, नए मजदूर विरोधी श्रम कानून, बेरोजगारी, महंगाई और निजीकरण के खिलाफ ट्रेड यूनियन से सड़क पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया। कई जगहों पर विभिन्न संगठनो से जुड़े नेताओं ने सड़क जाम कर प्रदर्शन किया। वहीं कलेक्ट्रेट गेट पर गोपगुट के बैनर तले कर्मियों ने धरना दिया और मांगों के समर्थन में जमकर नारेबाजी की। बंद के कारण सड़कों पर वाहनों की आवाजाही कम रही तो बैंक और डाकघरों में हड़ताल से आमलोगों को परेशनी हुई।
 खगड़िया में वाम दल सहित विभिन्न संगठनों के लोग राजेन्द्र चौक और एनएच 107 और 31 को किया जाम
ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ ट्रेड यूनियन सहित दस ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर बुधवार को देशव्यापी आम हड़ताल के तहत खगड़िया बंद किया गया। वाम दल सहित विभिन्न संगठनों के लोग बंद में शामिल हुए। बंद समर्थकों ने शहर के राजेन्द्र चौक को करीब एक घंटे तक जाम रखा। वही शहर के बलुआही बस स्टैंड के निकट एनएच 31 को भी जाम कर दिया। इसके बाद शहर का भ्रमण कर बाजार बंद कराया। फिर कलेक्ट्रेट के पास प्रदर्शन किया। सभा कर कर्मचारियों को स्थाई करने और सम्मानजनक मानदेय देने की बंद समर्थकों ने मांग की। गरीब और मजदूरों को न्यूनतम मजदूरी देने की मांग करते हुए नारे लगाए। वही दूसरी ओर बेलदौर प्रखंड के उसराहा बीपी मंडल पुल तथा महेशखूंट में भी एनएच 107 व 31 को बंद समर्थकों द्वारा जाम किया गया। जाम से सड़क पर गाड़ियों की लंबी लाइन लग गई। जिससे लोग खासा परेशान रहे।
कटिहार में ट्रेड यूनियन के हड़ताल का रहा मिला जुला असर 
कटिहार जिले के विभिन्न हिस्सों में केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के हड़ताल  का असर सड़क मार्ग और बैंकों पर पड़ा । शहर के शहीद चौक को तीन घन्टे से जाम कर यातायात को बाधित कर दिया गया।  हड़ताल में विभिन्न बैंकों ,डाकघरों , रेल यूनियन के कर्मियों ने हिस्सा लिया ।  ट्रेड यूनियनों का आंदोलन के कारण कई बैंकों के शटर नहीं खुले । जगह -जगह सड़क को जाम किया  गया । सरकारी कार्यालय में भी  हड़ताल का असर रहा ।सेविका, सहायिकाओं ने भी किया प्रदर्शन में भाग लिया। लोगों को रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, कोर्ट कचहरी और अन्य जगहों पर आने जाने में काफी परेशानी हुई। पैदल चलकर आम लोग स्टेशन और अन्य जगहों पर आने जाने को विवश थे । व्यवसायी कारोबार पर भी रहा।
लखीसराय जिले में भारत बंद का कुछ खास असर नहीं
लखीसराय। जिले में भारत बंद का कुछ खास असर नहीं देखने को मिल रहा है। अलग-अलग पार्टी व संघ कार्यकर्ताओं ने शहर में एक साथ जुलूस निकालकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। सभी कार्यकर्ताओं ने शहीद द्वार के पास धरना  दिया है। नया बाजार से कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकाला। शहीद द्वार के पास करीब पांच मिनट तक जाम भी किया गया। हालांकि पुलिस के समझाने के बाद जाम समाप्त कर दिया गया। विरोध के दौरान सीपीआई, एआईवाईएफ, रसोइया पार्टी व संगठन कार्यकर्ता शामिल हुए।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews