सहरसा। नहीं हुई सुनवाई तो खुद ग्रामीणों ने शुरू किया सड़क का निर्माण - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Wednesday, December 4, 2019

सहरसा। नहीं हुई सुनवाई तो खुद ग्रामीणों ने शुरू किया सड़क का निर्माण

कोशी लाइव_नई सोच नई खबर।

सहरसा। जनप्रतिनिधि से लेकर पदाधिकारियों तक लगातार गुहार लगाने के बाद भी जब सड़क नहीं बनी तो आवाजाही में परेशानी से तंग आकर ग्रामीणों ने अपने प्रयास से सड़क निर्माण करने की ठान ली है। सहुरिया पंचायत के मनिया गांव के ग्रामीणों ने खुद सड़क निर्माण शुरू कर दिया है। वर्षों से सरकार के स्तर से सड़क निर्माण कार्य शुरू होने का इंतजार कर रहे लोगों ने यह फैसला लिया है।
प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत पड़रिया पंचायत के मैना गांव निवासी अशोक यादव ने मनिया गांव के लोगों के मजबूत इरादे को देखकर एनएच 107 से सटे अपनी निजी उपजाऊ भूमि पर सड़क निर्माण की मंजूरी दे दी। सड़क निर्माण कार्य कर रहे ग्रामीणों ने बताया कि आजादी के 72 साल बाद भी हमलोग सड़क की सुविधा से वंचित थे। सड़क नहीं रहने का दर्द यहां के लोगों को सालों से परेशान कर रहा था। चारों ओर से नदियों से घिरे मनिया गांव के सैकड़ों परिवार को पगडंडियों एवं नदी से होकर गुजरना पड़ता है। खासकर बरसात के दिनों में पानी से घिर जाने के बाद भीषण परेशानी उठानी पड़ती है। लोगों के उत्साह व काम को देख सहुरिया पंचायत के मुखिया मंजूर दल हुसैन ने हरसंभव आर्थिक सहायता दिए जाने का आश्वासन दिया। उन्होंने 50 हजार की रकम देकर निर्माण कार्य प्रारंभ करवाया। सड़क निर्माण कार्य में करीब एक एकड़ जमीन देने वालों में अशोक यादव, सनोज यादव, मनोज यादव, विजेंद्र यादव, गजेंद्र यादव व राजेन्द्र यादव ने अपना निजी उपजाऊ जमीन पर सड़क निर्माण की अनुमति दी। जबकि अजय कुमार, सुदीन यादव, राजेन्द्र यादव पैकार, राजेन्द्र यादव, सत्यनारायण यादव, उमेश यादव, ब्रह्मदेव यादव, मायाराम यादव, कपिलेश्वर यादव, शत्रुघ्न यादव, संजीव यादव, मनोहर यादव, बेचन यादव, राणा यादव, मिथलेश महंथ, सुशील यादव, रतन यादव निर्माण स्थल पर सहयोग में जुड़े थे। बताते चलें कि बीते वर्ष 2016 में पूर्व सांसद रंजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने सहुरिया पंचायत को गोद लिया था। जिसके बाद आवागमन सुविधा की दंश झेल रहे मनिया बासा गांव के लोगों को सड़क निर्माण की उम्मीद जगी थी। इतना ही नहीं ग्रामीणों ने बीते समय मे पूर्व सांसद मौखिक रूप से भी इस समस्या से अवगत कराया था। जिसके बाद इस समस्या के जल्द निदान का आश्वासन भी मिला था। लेकिन वक्त बीतता चला गया और समस्या का समाधान नहीं हो सका।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews