सहरसा।अपहृत युवक की हत्या, दोस्तों ने ही शव को नमक डालकर दफनाया, गिरफ्तार - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Sunday, December 1, 2019

सहरसा।अपहृत युवक की हत्या, दोस्तों ने ही शव को नमक डालकर दफनाया, गिरफ्तार

कोशी लाइव_नई सोच नई खबर।

सहरसा से आई पुलिस ने आरोपी युवक को सिंहेश्वर से किया गिरफ्तार

गिरफ्तारी के बाद शाहपुर गांव के कब्रिस्तान के बगल से निकाला गया शव

 | ग्वालपाड़ा

सहरसा के पंचवटी चौक से नौ नवंबर को अपहृत एक युवक की हत्या कर शव को दफना दिया गया। पुलिस ने अपहृत युवक

अभिषेक की लाश ग्वालपाड़ा थाना क्षेत्र के शाहपुर गांव से सड़े-गले हालत में बरामद की। मामले में आरोपी दोस्त अभिषेक कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया, जबकि उसकी मां को भी हिरासत में लिया है। गिरफ्तारी के बाद शाहपुर निवासी अभिषेक ने अपने मित्र अभिषेक की हत्या कर अपने ही गांव शाहपुर में कब्रिस्तान के पास दफनाने की बात स्वीकार की है।

शुक्रवार को सहरसा से आई पुलिस ने ग्वालपाड़ा थाने के जमादार निजामुद्दीन और अन्य पुलिस कर्मियों के सहयोग से शाहपुर गांव के कब्रिस्तान से यह कार्रवाई की। लाश को सहरसा पुलिस अपने साथ ले गई।

सहरसा के पंचवटी चौक से युवक का नौ नवंबर को किया था अपहरण, परिजन ने सहरसा में दर्ज कराया था केस, आरोपी की मां को भी पुलिस ने लिया हिरासत में
शुक्रवार को कब्रिस्तान के समीप जुटी लोगों की भीड़

इंटर में पढ़ता था, दोस्त के खिलाफ दर्ज कराया गया था अपहरण का केस
सहरसा के रोतागांव निवासी अभिषेक कुमार सिंह सहरसा में रहकर इंटर की पढ़ाई करता था। यहीं पर उसकी दोस्ती ग्वालपाड़ा थाना क्षेत्र के शाहपुर निवासी मुकेश सिंह के पुत्र अभिषेक से हो गई। नौ नवंबर को अभिषेक का अपहरण कर लिया गया। काफी खोजबीन के बाद भी नहीं मिलने के बाद 14 नवंबर को अभिषेक के अपहरण का मामला सदर थाने सहरसा में दर्ज करवाया गया। इसमें उसके दोस्त अभिषेक पर भी आरोप लगाया गया था। बताया गया कि सहरसा में जिस जगह पर रौता गांव निवासी अभिषेक रहता था, उसके बगल वाले लॉज संचालक से अभिषेक के पिता को जमीन संबंधित विवाद चल रहा था। अपहरण के केस में उन पर भी संदेह जताया गया था, लेकिन जांच के क्रम में सहरसा पुलिस को शाहपुर के अभिषेक के खिलाफ कई क्लू मिले। इसी आधार पर 27 नवंबर को सहरसा पुलिस के द्वारा पूछताछ के लिए अभिषेक की मां को हिरासत में लिया गया। बाद में सिंहेश्वर से अपहर्ता अभिषेक को भी गिरफ्तार कर लिया गया।

सात हजार रुपए से शुरू हुआ विवाद | गिरफ्तार अभिषेक ने बताया कि उसके दोस्त अभिषेक ने उससे पांच महीने पूर्व सात हजार रुपए लिए थे, जिसे वह नहीं लौटा रहा था। इसे लेकर विवाद भी हो गया। कुछ दिन उससे रुपए को लेकर अनबन भी रही। लेकिन बाद में उसने हत्या की साजिश रची। अभिषेक ने बताया कि अपने साजिश को अंजाम देने के लिए उसने बाद में अभिषेक से दोस्ती कर ली। इसी क्रम में नौ नवंबर को वह अभिषेक को लेकर अपने गांव शाहपुर आ गया। यहां उसे नशा करा कर सुनसान बगीचे में उसकी हत्या कर दी और लाश को झाड़ी में छिपा दिया। फिर वह वापस सहरसा चला गया, ताकि किसी को उस पर शक न हो।

सहरसा के दो लड़कों की भी थी भूमिका
आरोपी का यह भी कहना था कि सहरसा के बंफर चौक निवासी मंजीत यादव और सोनू यादव संदिग्ध आचरण का लड़का है। उनदोनों को भी अभिषेक से किसी बात की खुन्नस थी। उनदोनों ने ही इसे अभिषेक को बहला कर अपने गांव लाने के लिए कहा था। इसके बदले उसे वे लोग 50 हजार रुपए देते। अभिषेक को जब वह सहरसा से लेकर आया तो पीछे से वे दोनों भी आए और घटना को मिलकर अंजाम दिया।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews