मधेपुरा: सांसद फ्री में खाएं तो ठीक, JNU जैसे संस्थान में सस्ती शिक्षा पर दिक्कत क्यों?:ओम शिव यादव - कोशी लाइव

BREAKING

HAPPY INDIPENDENCE DAY

HAPPY INDIPENDENCE DAY

विज्ञापन

विज्ञापन

Friday, November 22, 2019

मधेपुरा: सांसद फ्री में खाएं तो ठीक, JNU जैसे संस्थान में सस्ती शिक्षा पर दिक्कत क्यों?:ओम शिव यादव

कोशी लाइव_नई सोच नई खबर।
 ओम शिव यादव :

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में हॉस्टल की फीस बढ़ोतरी पर मचा बवाल केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री के आश्वासन के बाद खत्म हो गया है। छात्रों का प्रतिनिधिमंडल मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ से मिला। उन्होंने फीस बढ़ोतरी वापस लेने का आश्वासन दिया। वहीं इस मुद्दे पर अब छात्र राष्ट्रीय जनता दल मधेपुरा के नगर अध्यक्ष ओम शिव यादव   ने अपना बयान दिया है।

ओम शिव यादव ने ‘ कोशी लाइव’ से बात की। जिसमें उन्होंने सरकार के रवैये पर सवाल उठाते हुए कहा, जेएनयू में गरीब छात्र पढ़ते हैं इसलिए फीस नहीं बढ़ाई जानी चाहिए। नगर अध्यक्ष ओम शिव यादव ने कहा कि जेएनयू को लेकर एक माहौल बनाया जा रहा है कि इसके छात्र बिना वजह विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, राजनीति कर रहे हैं जो कि सरासर झूठ है।

ओम शिव यादव ने कहा कि जेएनयू में जिस तरह से फीस वृद्धि की गई है उससे 100 में से 40 फीसदी छात्र पढ़ाई नहीं कर पाएंगे। यह 40 फीसदी छात्र ऐसे हैं जिनके परिवार की मासिक आमदनी 12 हजार रुपये है। फीस वृद्धि अगर लागू की जाती है तो जेएनयू देश की सबसे महंगी सेंट्रल यूनिवर्सिटी हो जाएगी। फिर जो छात्र गरीब-किसान परिवार से आते हैं, वह पढ़ाई नहीं कर पाएंगे। इसीलिए जेएनयू के विद्यार्थी यह आंदोलन कर रहे हैं।

ओम शिव यादव ने ‘ कोसी लाइव’ से कहा, जब हमारे प्रधानमंत्री कहते हैं कि हम पांच ट्रिलियन की इकोनॉमी बनाने जा रहे हैं, तो क्या देश में 5 हजार छात्रों को अच्छी शिक्षा नहीं दी जा सकती? जेएनयू की जहां तक बात है तो किसी भी छात्र को खैरात में कुछ नहीं दिया जा रहा है। ऑल इंडिया लेवल पर परीक्षा पास कर लोग जेएनयू में एडमिशन लेते हैं। देश की स्थिति ये है कि मात्र 3 परसेंट लोग हायर एजुकेशन में आते हैं, 1 परसेंट से भी कम लोग रिसर्च प्रोग्राम में शामिल हो पाते हैं।

ओम शिव यादव ने कहा कि यह बोलना कि रिसर्च में पैसा बरबाद किया जा रहा है, यह अपने आप में बहुत हास्यास्पद है। किसी भी देश को बेहतर बनाने के लिए अच्छे रिसर्च की जरूरत होती है। जेएनयू एकमात्र यूनिवर्सिटी है जो सोशल साइंस में अच्छे रिसर्च प्रोड्यूस करती है।

बता दें कि सोमवार को जेएनयू के सैकड़ों छात्र दिल्ली की सड़कों पर उतरे थे। हजारों की संख्या में छात्रों का प्रदर्शन देख पुलिस को लाठीचार्ज करनी पड़ी थी। इस दौरान सैकड़ों छात्रों को हिरासत में भी लिया गया था। प्रदर्शन में कई छात्र घायल भी हुए थे। ये सभी छात्र संसद की ओर जाने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन दिल्ली पुलिस ने बीच में ही उन्हें रोक दिया था।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews