GOOD NEWS:SAHARSA:आठ माह पहले ही तैयार हो जाएगा कोसी का पहला पावर ग्रिड - कोशी लाइव

BREAKING

HAPPY INDIPENDENCE DAY

HAPPY INDIPENDENCE DAY

विज्ञापन

विज्ञापन

Sunday, November 24, 2019

GOOD NEWS:SAHARSA:आठ माह पहले ही तैयार हो जाएगा कोसी का पहला पावर ग्रिड

कोशी लाइव_नई सोच नई खबर।

कोसी क्षेत्र का पहला पावरफुल ग्रिड आठ माह पहले बनकर तैयार हो जाएगा। इसके लिए पावरग्रिड ने कार्य योजना तैयार कर ली है। पावरग्रिड के महाप्रबंधक एमक्यू होदा ने कहा कि सहरसा जिले के सिहौल गांव में बन रहे 400/220/132 केवी के पहला पावरग्रिड निर्माण का लक्ष्य मार्च 2021 निर्धारित किया गया था। जिसे जून 2020 में ही पूरा करने की योजना बनाई गई है। 
ग्रिड निर्माण से जुड़े काम हर रोज कितना हो इसका लक्ष्य निर्धारित किया गया है। कार्य प्रगति की रोज की रिपोर्ट तलब की जाती है। उन्होंने कहा कि ग्रिड से सहरसा, सुपौल, मधेपुरा के अलावा खगड़िया, बेगूसराय और मधबुनी जिले को बिजली आपूर्ति की जाएगी। पर्याप्त मात्रा में आपूर्ति के कारण इन छह जिले में 24 घंटे निर्बाध बिजली रहेगी। तकनीकी कारण को छोड़कर पावरकट की समस्या नहीं रहेगी।
जरूरत पर राज्य भर को बिजली आपूर्ति की जाएगी
400 केवी(चार लाख वोल्ट) वाले सहरसा के सिहौल गांव स्थित ग्रिड से बिहार राज्य के लिए 440/220 केवी से एक हजार एमवीए और 220/132 केवी से 400 एमवीए की बिजली क्षमता का विकास किया जाएगा। यहां की क्षमता मुताबिक जरूरत की बिजली राज्य भर को भी दी जाएगी। इस पावर ग्रिड ट्रांसमिशन के बन जाने पर छह जिले में जहां पावर कट की समस्या नहीं रहेगी। वहीं इलाके के किसानों के लिए भी यह वरदान साबित होगी। बिजली के बिना डीजल से सिंचाई करने में अक्षम किसानों के चेहरे पर यह खुशहाली लौटाएगी। लाखों आबादी को फायदा मिलेगा।

35 एकड़ में रहेगा ग्रिड
करीब 350 करोड़ की लागत राशि से 35 एकड़ जमीन में सिहौल में ग्रिड निर्माण किया जा रहा है। पावरग्रिड के महाप्रबंधक ने कहा कि ग्रिड में 1400 एमवीए के चार ट्रांसफार्मर लगाए जाएंगे।

पायल फाउंडेशन का अभी चल रहा काम
ग्रिड निर्माण के लिए अभी पायल फाउंडेशन का काम चल रहा है। पावरग्रिड के महाप्रबंधक ने कहा कि हर रोज 25 पायल का कास्ट किया जा रहा है। पायल फाउंडेशन के लिए 9 से 10 की संख्या में रोटरी रेड बड़ी मशीन और काफी संख्या में मजदूर लगाए गए हैं। पावरग्रिड के इंजीनियर कैम्प कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बारिश के मौसम में काम बाधित होने के कारण काम की गति प्रभावित हुई थी। 
सहरसा जिले के सिहौल गांव में बन रहा ग्रिड।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews