BIHAR:लड़की से मिलने पहुंचे आशिक मिजाज दारोगा को ग्रामीणों ने पहले बनाया बंधक और उसके बाद... - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Sunday, November 24, 2019

BIHAR:लड़की से मिलने पहुंचे आशिक मिजाज दारोगा को ग्रामीणों ने पहले बनाया बंधक और उसके बाद...

कोशी लाइव_नई सोच नई खबर।

गोपालगंज : बिहार में गोपालगंज के थावे थाने में पदस्थापित आशिक मिजाज के दारोगा निशिकांत उपाध्याय को पुलिस ने आधी रात को बल प्रयोग कर ग्रामीणों के कब्जे से मुक्त कराया. ग्रामीणों ने घर में ही दारोगा को बंधक बनाकर जमकर पिटाई की थी. उधर, घटना के बाद पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार तिवारी ने तत्काल कार्रवाई करते हुए दारोगा निशिकांत को जिले से विरमित कर दिया है. एसपी का कहना है कि इस मामले में किसी तरह की लिखित शिकायत थाने में नहीं की गयी. उचकागांव और थावे थाने की पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद दारोगा को घर से मुक्त कराकर थाने लायी.

पुलिस अधिकारियों की माने तो दारोगा का तबादला सीवान जिले में हो गया था. बावजूद थावे थाने में डेरा डाल रखा था. उधर, दारोगा पर आशिक मिजाज होने का आरोप लगाकर ग्रामीणों ने पिटाई की, बाद में वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर दी. ग्रामीणों का आरोप था कि दरोगा निशिकांत उपाध्याय अंधेरे का लाभ उठाकर आये दिन गांव में एक लड़की मिलने आता था. शुक्रवार की देर शाम में दारोगा जैसे ही उचकागांव थाने के वृंदावन मौजे गांव में पहुंचा, ग्रामीणों ने उसे देख लिया और घर में ही बंधक बना ली. बंधक बनाने के बाद दारोगा की जमकर पिटाई की गयी. गांव में सैकड़ों की संख्या में जुटे लोग पुलिस अधीक्षक को मौके पर बुलाने की मांग कर रहे थे.

मामला संज्ञान में आने के बाद पुलिस अधीक्षक ने पुलिस पदाधिकारियों को भेज दिया. रात के 10.30 बजे के आसपास दारोगा को मुक्त कराया गया. पुलिस ने दारोगा को मुक्त कराने के बाद वरीय अधिकारियों को इसकी सूचना दी. शनिवार को मामले की जांच शुरू की गयी तो पता चला कि दारोगा का तबादला सीवान में कुछ दिन पहले ही हो गया था. फिलहाल विरमित होने के बाद अन्य पुलिस पदाधिकारियों को ऐसे करतूत से बचने की हिदायत दी गयी है.

16 महीने बची है दारोगा की नौकरी
जिस दारोगा को लोगों ने बंधक बनाकर पिटाई की, उसकी नौकरी महज 16 माह की बची है. रिटायरमेंट के कगार पर पहुंचे दारोगा की इस करतूत से गांव के लोग परेशान थे. पुलिस डिपार्टमेंट भी घटना को लेकर हतप्रभ है. दारोगा से जब संपर्क किया गया, तो उसने कुछ भी बोलने से इन्कार किया. वहीं स्थानीय थाने की पुलिस भी मामले में कुछ बोलने से परहेज करती रही.




बिहार न्यूज़।

मोबाइल पर युवक से बात करने से परिजनों ने रोका, तो किशोरी ने उठाया ये खौफनाक कदम

गोपालगंज : बिहार के गोपालगंज में आवेश में आकर एक किशोरी ने जहर खा लिया. घटना के बाद परिजनों ने किशोरी को सदर अस्पताल लाये जहां इलाज चल रहा है. किशोरी की स्थिति नाजुक बनी हुई है. हथुआ थाना क्षेत्र की रहनेवाली किशोरी को परिजनों ने शनिवार की सुबह किसी से मोबाइल पर बात करते हुए देख लिया तो परिजनों ने विरोध किया. किशोरी ने बताया कि वह जिस युवक से बात कर रही थी. उसी से शादी करना चाहती है, तो परिजनों ने मना कर दिया.

शनिवार को ही किशोरी इंटर का रजिस्ट्रेशन कराने के नाम पर कॉलेज आने की बात कही, तो किशोरी की मां ने उसे लेकर कॉलेज आयी. कॉलेज आने के बाद किशोरी कुछ बहाना कर के अपनी मां को छोड़कर किसी दुकान से जहर खरीद लायी और अकेले में जाकर जहर खा ली. काफी देर तक नहीं लौटी तो मां खोजते हुए वहां पहुंची तो देखी की वह गिरी पड़ी है. उसे उठाकर अस्पताल लाया गया है. जहां उसका इलाज चल रहा है.

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

Total Pageviews