मधेपुरा: बाढ़ का पानी फैलने से दर्जनों गांव बने टापू, जलस्तर बनी मुसीबत - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Tuesday, October 1, 2019

मधेपुरा: बाढ़ का पानी फैलने से दर्जनों गांव बने टापू, जलस्तर बनी मुसीबत

कोशी लाइव_नई सोच नई खबर:
अक्की:
मधेपुरा। बारिश के बाद अब नदियों का बढ़ा जल स्तर लोगों के लिए मुसीबत बन गया है। नदियों के उफनाने से जिले के विभिन्न प्रखंडों के ग्रामीण इलाकों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। बाढ़ से सबसे अधिक आलनगर व चौसा प्रखंड लोग प्रभावित है। आलनगर के करीब आठ व चौसा के चार पंचायत बाढ़ के पानी से घिर चुका है। हालांकि कोसी के सहायक नदियों के जलस्तर में वृद्धि होने की वजह से जिले के अधिकांश हिस्सों में बाढ़ का पानी फैल गया है। हालांकि मंगलवार को बारिश थमने और दोपहर बाद घूप निकलने से लोगों ने राहत की सांस ली।
-----------------------------
आठ पंचायतों में फैला बाढ़ का पानी :
संवाद सूत्र,आलमनगर(मधेपुरा): बारिश के बाद कोसी बैराज से पानी छोड़े जाने के बाद प्रखंड क्षेत्र के दर्जनों गांव में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। इससे प्रखंड के आठ पंचायत के दर्जनों गांव पूरी तरह से प्रभावित हो चुके है। जानकारी के अनुसार रतवारा एवं खापुर गंगापुर पंचायत के दर्जनों गांव टापू में तब्दील हो चुकी है। आवागमन बाधित होने के बाद अब प्रभवित लोगों के बीच नाव ही आवागमन के लिए सहारा बचा है। आलमनगर प्रखंड के रतवारा,खापुर,बरगांव,इटहरी,गंगापुर  कुंजोड़ी,आलमनगर दक्षिणी एवं आलमनगर पूर्वी पंचायतों में बाढ़ का पानी फैलने से लोगों के समक्ष भारी संकट उत्पन्न हो गया है। कोसी नदी से बाढ़ प्रभावित  पंचायत रतवारा पंचायत के मुरौत के विस्थापित परिवार जो सोनामुखी के पास शिव मंदिर टोला एवं छतौना वासा में में रह रहे हैं। बाढ़ पीड़ित छतौना वासा निवासी सुरेंद्र शर्मा ,उमेश पासवान ,पीतम ऋषि देव ,संजय ऋषि देव शिव मंदिर टोला मुरोत के विलो सिंह ,जामुन ऋषि देव, अशोक ऋषि देव ,अरुण सिंह, राजेंद्र सिंह,दासो मल्लिक,उमेश राम,मुसन राम ने बताया कि कई दिनों से हम लोगों के घर में बाढ़ का पानी प्रवेश होने की वजह से भारी समस्या उत्पन्न हो गई है। प्रखंड के कांग्रेस के नेता  सर्वेश्वर प्रसाद सिंह,प्रखंड राजद अध्यक्ष वीरेंद्र कुमार सिंह, जाप नेता सुनील कुमार सिंह,हम प्रखंड अध्यक्ष नवीन कुमार भारती, कम्युनिस्ट नेता कमलेश्वरी साह, जगत नारायण शर्मा, सागर चौधरी  ने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों को जल्द से जल्द सहायता पहुंचाया जाए।
----------------------
जल जमाव से त्रस्त हुए लोग :
संवाद सूत्र,चौसा(मधेपुरा): लगातार हुई बारिश से सरकारी कार्यालय परिसर सहित मुख्य मार्ग में जलजमाव की गंभीर समस्या उत्पन्न हो गई। जल-जमाव की समस्या को निदान करने के लिए पम्प सेट लगाकर पानी खाली कराया जा रहा है। खासकर चौसा बाजार मुरलीचोक रोड, चौसा-उदाकिशुनगंज मुख्य मार्ग,चौसा -फुलौत मुख्य मार्ग धनेशपुर विषहरी स्थान के नजदीक सड़क पर कही कमर भर तो घुटने भर पानी जमा हो गया है। खासकर घोषई से आगे कलासन चौक के बीच बारिश का पानी जमा होने कारण टेंपू,ट्रक,व अन्य वाहनों की परिचालन में सड़क हादसा की आशंका तेज हो गयी।
--------------------
कई पंचायतों में घुसा बाढ़ का पानी :
संवाद सूत्र,शंकरपुर(मधेपुरा): प्रखंड क्षेत्र के कई पंचायत बाढ़ की चपेट में आ चुका है। सैकड़ों लोगों के घरों में पानी प्रवेश कर गया है। वहीं पानी के दबाव के कारण कई फूस एवं कच्चा दीवार का घर भी गिर गया हैं। ग्राम पंचायत गिद्धा के पीड़ित भवानी पंडित, लक्ष्मी पंडित, बेचन पंडित, गणेश पंडित, शिवकुमार पंडित, सत्यनारायण पंडित, मनोज सरदार, पवन सरदार, संजय पासवान, फेकू सरदार आदि ने प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचलाधिकारी शंकरपुर को आवेदन देकर घर में पानी घुसने से जान माल के सुरक्षा का गुहार लगाया है। वही राहत सामग्री देने की मांग की है। इस बाबत बीडीओ आशा कुमारी ने बताया कि पानी का निकासी जगह जगह करवाया जा रहा है और शेष जगह मनरेगा योजना से मरम्मत का कार्य करवाया जाएगा।
-------------------
ग्रामीण इलाकों में आवागमन की समस्या हुई उत्पन्न :
संवाद सूत्र घैलाढ़(मधेपुरा): बारिश के बाद जल-जमाव से ग्रामीणों इलाकों में आवागमन की समस्या उत्पन्न हो गई है। अधिकांश गांव की सड़कों पर आवागमन बाधित है। सड़क के ऊपर से पानी का धारा बह रही है। वही निचले हिस्से में बसे गांव में लोगों के आशियाने में पानी घुस गया है। जल जमाव की वजह पशुपालकों को मवेशियों के चारा के लिए काफी परेशानियों का समाना करना पड़ रहा है। भतरंधा परमानपुर पंचायत में तिलबे नदी का जल स्तर में बढ़ने से दर्जनों लोगों घर में पानी घुस गया है। ग्रामीण चंद्रकिशोर यादव, बिनोद कुमार, रमन कुमार सुमन, उपेंद्र यादव, मनीष कुमार, रोशन यादव, श्याम सुंदर यादव, दोरिक यादव, नारायण यादव, सूर्यनारायण यादव आदि ने बताया कि दो दिन से घर में पानी जमा हुआ है।
--------------------
अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों ने लिया जायजा :
संवाद सूत्र,पुरैनी(मधेपुरा): लगातार हुई बारिश से प्रखंड मुख्यालय सहित ग्रामीण क्षेत्रों के टोले व मुहल्ले में पानी का जमाव हो गया है। वही लोगों के घरों में तीन से चार फीट पानी जमा रहने से आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। मुहल्ले व घर में जल जमाव रहने से लोगो के बीच त्राहिमाम की स्थिति आ चुकी है। आमलोग निजी स्तर से पम्प सेट के सहारे अपने-अपने घरों के पानी निकालने को मजबूर है। सोमवार को प्रखंड प्रमुख सविता कुमारी,प्रखंड विकास पदाधिकारी विरेन्द्र कुमार, सीओ रामअवतार यादव,प्रखंड जदयू अध्यक्ष शैलेंद्र कुमार,प्रमुख प्रतिनिधि दीपक कुमार आदि ने प्रखंड क्षेत्र के कई गांवों का भ्रमण कर स्थिति का जायजा लिया।
----------------------------
ग्रामीण इलाकों में पानी से घिरे हैं लोग :
संवाद सूत्र,मुरलीगंज(मधेपुरा): प्रखंड क्षेत्र के दर्जनों गांव में बाढ़ पानी प्रवेश कर गया है। हालांकि मंगलवार को बारिश थमने और कुछ देर के लिए घूप निकलने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली। ग्रामीण क्षेत्र में गली मोहल्ले से लेकर मुख्य मार्ग पर पानी का तेज बहाव चल रहा है। जिस कारण से लोगों का आवागमन बाधित हो रहा है। घर में अधिक जल - जमाव के कारण गृह- स्वामियों को ऊंचे स्थानों पर शरण लेना पड़ा। जोरगामा पंचायत,हरिपुरकला,रजनी,गंगापुर,रामपुर, दीनापट्टी सखुआ,रघुनाथपुर के भी सैकड़ों घरों में पानी घुस गया हैं।
-------------------------
बीडीओ सीओ कक्ष से खाली कराया गया पानी :
संवाद सूत्र,कुमारखंड(मधेपुरा): बारिश के बाद बीडीओ व सीओ कार्यालय में जमा पानी को पंप सेट लगाकर कर खाली कराया गया। मालूम हो लगातार हुई बारिश की वजह से पूरे प्रखंड कार्यालय का परिसर पानी से घिर चुका था। प्रखंड कार्यालय में पानी प्रवेश कर जाने से ट्रंकों में रखा सरकारी बहुमूल्य दस्तावेज भी नष्ट हो गया। अंचलाधिकारी जयप्रकाश राय ने स्थानीय लोगों के सहयोग से पंप सेट मंगवाकर कार्यालय परिसर समेत कार्यालय कक्ष एवं पदाधिकारियों के वेश्म में जमे पानी को बाहर निकलवाया।
-------------------------------
बाढ़ पीड़ितों के बीच राहत सामग्री वितरित :
संवाद सूत्र,चौसा(मधेपुरा): बाढ़ प्रभावित इलाके में एसडीओ एसजेड हसन ने मंगलवार को राहत सामग्री व प्लास्टिक वितरण करने के लिये मुखिया व वार्ड सदस्य को किट सौंपा। प्रखंड के चार पंचायतों में अभी राहत सामग्री का वितरण किया जाना है। राहत सामग्री किट में सूखे राशन एवं प्लास्टिक शामिल है। मंगलवार को डाक बंगला मंदिर चौक पर एसडीओ एसजेड हसन ने बताया कि बाढ़ पीड़ित परिवारों के बीच राहत सामग्री किट का वितरण किया जाना है। पीड़ितों के बीच मुखिया वार्ड सदस्यों के द्वारा सामग्री का वितरण किया जाएगा। सीओ आशुतोष कुमार ने बताया कि बाढ़ प्रभावित इलाके के फुलौत पूर्वी,फुलौत पश्चिमी,मोरसंडा एवं चिरौरी पंचायत के निचले हिस्से में बाढ़ पीड़ितों के लिये प्रत्येक पंचायत में 250 किट यानी चारो पंचायत मिलाकर 1000 एक हजार राहत सामग्री किट दिया गया है।
--------------------
जल स्तर बढ़ने से केला की फसल प्रभावित :
संवाद सूत्र, सिंहेश्वर (मधेपुरा): लगातार चार दिनों से हो रही बारिश से प्रखंड क्षेत्र के लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। मुखिया प्रतिनिधि विभा सिंह ने वार्डों में लोगों की स्थिति का जायजा लेकर हर संभव मदद करने में जुटे हुए हैं। वहीं रुपौली पंचायत के सतोखर से गुजरने वाली परवाने नदी में पानी बढ़ जाने से लोगों को बाढ़ का भय सता रहा है। नदी के बढ़ते पानी से आसपास के क्षेत्रों में लगे सैकड़ों एकड़ धान की फसल डूब गई है। वहीं रामपट्टी से गुजरने वाली नदी का जलस्तर भी लगातार बढ़ता जा रहा है। इससे 50 एकड़ खेतों में लगे केला की फसल भी पानी के चपेट में आ गया है। केला किसानों ने बताया कि यह स्थिति रही तो इस वर्ष केले के फसल में भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। लगातार बढ़ते नदियों के जलस्तर एवं बारिश के कारण एक दर्जन गांवों से प्रखंड के लोगों का संपर्क भंग हो गया है।
-------------------------

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews