सुपौल:साइबर क्राइम:::::सीओ बन जालसाज ने किया फोन, खाते से निकल गई राशि - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Friday, October 18, 2019

सुपौल:साइबर क्राइम:::::सीओ बन जालसाज ने किया फोन, खाते से निकल गई राशि

कोशी लाइव_नई सोच नई खबर।
अक्की।
राघोपुर(सुपौल): फोन पर एटीएम कार्ड का नंबर पूछना, खाते से रुपए गायब होने का मामला हर दिन सामने आ रहा है। ऐसा भी नहीं है कि इस तरह की घटनाओं के लिये प्रशासनिक स्तर पर लोगों में जागरूकता नहीं लाई गई हो। बावजूद हर दिन कोई न कोई झांसे में आकर अपने खून-पसीने की गाढ़ी कमाई गंवा बैठते हैं। थाना क्षेत्र के देवीपुर पंचायत में सोमवार को इसी तरह का एक जालसाजी का मामला सामने आया। जिसमें प्राथमिक विद्यालय गम्हरिया के शिक्षक निरंजन पासवान ने फोन पर अपना एटीएम नम्बर एवं पिन कोड बताकर अपने खाते से 48 हजार रुपया गंवा बैठे। इस मामले को लेकर पुलिस एवं बैंक को दिए आवेदन में पीड़ित शिक्षक ने कहा है कि शिक्षक के साथ-साथ वे बूथ संख्या 278 पर बीएलओ के रूप में कार्यरत हैं। सोमवार यानी 14 अक्टूबर की संध्या उनके मोबाइल पर अनजान नम्बर से राघोपुर सीओ का हवाला देकर कहा कि आपके द्वारा उपलब्ध कराए गए खाते में लिक की गड़बड़ी के चलते बीएलओ कार्य की राशि का भुगतान नहीं हो पा रहा है। जिसे लेकर उनसे एटीएम नम्बर एवं पिन कोड की मांग की। पीड़ित शिक्षक ने कहा कि उनकी बातों में आकर वह एटीएम नम्बर एवं उनका पिन कोड इसलिए बता दिया कि फोन पर उन्हें उनके अन्य कई बीएलओ साथी का भी नाम बताया गया। इतना ही नहीं हैरत की बात तो ये थी कि पिछले बैठक में उपस्थित सभी बीएलओ का नाम लेकर कहा कि इन सब को भी बोल दीजिये कि वे सभी लोग अपना-अपना एटीएम साथ रखें। ताकि फोन आने पर बता सकें। इन्हीं विश्वास पर शिक्षक उनके झांसे में आकर अपने बैंक खाते की गुप्त जानकारी उन्हें बता दिया और पलक झपकते ही उनके खाते से रुपया गायब हो गया और तो और जब इस घटना की लिखित जानकारी राघोपुर थाना को देने गया तो आवेदन लेने से भी पुलिस इनकार कर गई। इस घटना के बाद कई तरह के सवाल लोगों के मन में आना लाजमी है। आखिर साइबर क्रिमिनल को प्रखंड में बैठक होने की अद्यतन जानकारी कैसे प्राप्त हुई। अन्य बीएलओ का नाम पता की जानकारी क्रिमनल को कैसे हो गई। इन सब बातों से स्पष्ट होता है कि क्रिमिनल जो भी हो इसी इलाके का है जो ऑफिसियल जानकारी लेकर जालसाजी के घटना को अंजाम देता है और ऐसे में पुलिस द्वारा आवेदन तक लेने से इनकार करना उनके गलत कार्यशैली को दर्शाता है। इस संदर्भ में राघोपुर बीडीओ सुभाष कुमार ने कहा कि पीड़ित शिक्षक द्वारा उन्हें फोन पर बात किये गए ऑडियो के साथ लिखित आवेदन प्राप्त हुआ है। जिसकी जानकारी अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी को देकर उछ्वेदन का आग्रह किया गया है।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews