बिहार:बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए समस्तीपुर से पटना पहुंची नौ साल की बच्ची सौम्या सिद्धि,अपनी गुल्लक फोड़ 11हजार रुपये बाढ़ पीड़ित के मदद के लिए दी। - कोशी लाइव

Breaking

CAR KING[MADHEPURA]

CAR KING[MADHEPURA]
बाईपास रोड, पंचमुखी चौक(मधेपुरा)बिहार

तिवारी एजेंसी(सहरसा)

तिवारी एजेंसी(सहरसा)
छड़,सीमेंट,गिट्टी,बालू एवं हार्डवेयर की सामान के लिए संपर्क करें।

THE JABED HABIB

THE JABED HABIB
BEST HAIR AND MAKEUP SLOON

Translate

Friday, 4 October 2019

बिहार:बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए समस्तीपुर से पटना पहुंची नौ साल की बच्ची सौम्या सिद्धि,अपनी गुल्लक फोड़ 11हजार रुपये बाढ़ पीड़ित के मदद के लिए दी।

कोशी लाइव_नई सोच नई खबर।
अक्की।
पटना : बिहार की राजधानी पटना के राजेंद्र नगर एवं पाटलिपुत्रा कॉलोनी के कई इलाकों में अब भी जलजमाव की स्थिति बनी है. वहीं, पटना सिटी में लोगों ने जलजमाव के खिलाफ सड़क जाम कर विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान लोगों द्वारा करमलीचक के पास फोर लेन पर आगजनी कर आपत्ति दर्ज कराया है. उधर, बिहार के पटना समेत कई अन्य जिलों में आयी इस विपदा में लोग पीड़ित परिवारों की अपने हिसाब से मदद कर रहे हैं. इसी कड़ी में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए समस्तीपुर से पटना पहुंची नौ साल की बच्ची सौम्या सिद्धि ने समाज के लिए एक नजीर पेश की है. इस बच्ची ने पटना में जलमग्न इलाकों में फंसे लोगों की मदद के लिए अपनी गुल्लक को फोड़ दिया और उसमें जमा पैसे को लेकर पटना आ पहुंची.

इस बच्ची ने बाढ़ से घिरे लोगों की मदद के लिए 11 हजार रुपये दिये हैं. सिद्धि समस्तीपुर से चल कर पटना के लोगों की मदद करने के लिए पूर्व सांसद पप्पू यादव के पास पहुंची और उनको पैसे सौंपे. पप्पू यादव ने खुद इस बच्ची की फोटो को अपने ट्विटर हैंडल पर भी शेयर किया है और आभार जताया है. सौम्या सिद्धि समस्तीपुर की कुबौली राम गांव की रहने वाली है.

बिहार में बारिश से मरने वालों की संख्या बढ़कर 73 हुई


आपदा प्रबंधन विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक वर्षा से जुड़ी घटनाओं के कारण एवं बाढ़ में डूबने से 73 लोगों की मौत हो गयी. 27 सितम्बर से 30 सितम्बर तक राज्य में अप्रत्याशित वर्षा होने एवं नदियों के जल स्तर में वृद्धि से पटना, भोजपुर, भागलपुर, नवादा, नालन्दा सहित प्रदेश के 14 जिलों में 85 प्रखण्ड के 477 पंचायतों के 1179 गांव में 18.70 लाख आबादी प्रभावित हुई है.
बाढ़ पीड़ितों के लिए 56 राहत शिविर एवं 366 सामुदायिक रसोई का संचालन किया जा रहा है. लोगों की मदद के लिए कुल 979 सरकारी एवं निजी नावों का संचालन किया जा रहा है. इन जिलों में बाढ़ से प्रभावित व्यक्तियों के राहत एवं बचाव कार्यों में एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की कुल 21 टीमों को लगाया गया है. इनमें गुवाहाटी से बुलायी गयी एनडीआरएफ की अतिरिक्त चार टीमें शामिल हैं.
पटना शहर के जल-जमाव वाले क्षत्रों में जिला प्रशासन द्वारा पेयजल, भोजन के पैकेट एवं दूध का वितरण भी किया जा रहा है तथा दो स्थानों पर निःशुल्क सामुदायिक रसोई का संचालन किया जा रहा है. पटना जिला प्रशासन द्वारा अबतक 171298 पानी की बोतलें, 56000 पानी पाउच, 21500 दूध पैकेट एवं 33631 भोजन पैकेट का वितरण किया जा चुका है.
पटना के जल-जमाव वाले क्षेत्रों में से राजेन्द्र नगर एवं पाटलीपुत्र कॉलोनी के कुछ क्षेत्रों से कल तक जल निकासी की संभावना है. पटना के जल-जमाव क्षेत्रों में साफ-सफाई, फॉगिंग एवं ब्लीचिंग पाउडर के छिड़काव तथा हैलोजन टैबलेट के वितरण के लिए पटना नगर निगम एवं स्वास्थ्य विभाग की 75-75 टीमें कार्य कर रही हैं.
भारी बारिश के कारण पटना शहर में जल-जमाव की स्थिति उत्पन्न होने के कारण कुछ क्षेत्रों में बिजली सबस्टेशनों में पानी घुसने से विद्युत आपूर्ति अवरूद्ध हो गयी थी, जिसे चालू कर दिया गया है. सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्रों कंकडबाग, राजेंद्रनगर और पाटलिपुत्र में बैंक, दुकानें, निजी अस्पताल और कोचिंग संस्थान एक हफ्ते से बंद हैं.
पाटलिपुत्र संसदीय क्षेत्र से भाजपा सांसद रामकृपाल यादव बुधवार की रात जलजमाव क्षेत्र के भ्रमण के दौरान पुनपुन नदी में गिर गए थे. उन्होंने गुरुवार को जिला प्रशासन पर अपने निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले इलाकों की उपेक्षा करने का आरोप लगाया.
गुरुवार को को शाम में पुनपुन-परसा बाजार के मध्य ब्रिज संख्या 21 पर बाढ़ का पानी आ जाने के कारण गाड़ियों का परिचालन तत्काल प्रभाव से रोक दिया गया है. वेना-बिहारशरीफ रेलखंड में बाढ़ का पानी आ जाने से रेल परिचालन बाधित हुआ है. पूर्व मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि पुनपुन-परसा बाजार तथा वेना-बिहारशरीफ रेलखंड में बाढ़ का पानी आ जाने से छह ट्रेनों को निरस्त किया गया है.
पटना के जिलाधिकारी कुमार रवि ने बताया कि पुनपुन नदी से प्रभावित क्षेत्रों में टीम भेजी गयी है. इस बीच समस्तीपुर से पटना आयी छोटी बच्ची सौम्या सिद्धि ने अपना गुल्लक फोड़ कर 11, 000 रुपये पटना के जलजमाव पीड़ितों की मदद के लिए दिया है.
मधेपुरा से सांसद रहे जनअधिकार पार्टी के प्रमुख राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने सिद्धि के बारे में ट्वीट कर कहा कि इस बेटी ने सिद्ध कर दिया कि सिर्फ श्रेय लूटने वाले पटना-दिल्ली के हुक्मरान तुम्हारे सामने बौने हैं.

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर प्रहार करते हुए पप्पू यादव ने ट्वीट किया, इतने बेहरम कैसे हो गए डिप्टी सीएम सुशील मोदी जी? आपके पड़ोसियों का भी उतना ही शासन-प्रशासन, राज्य के संसाधन पर हक है, जितना आपका. आपने उन सबको मरने के लिए क्यों छोड़ दिया?.



पटना में एनडीआरएफ की 6 व एसडीआरएफ की 2 टीमें तैनात
पटना शहर के जल-जमाव वाले क्षत्रों में स्थिति से निपटने के लिये एनडीआरएफ की 6 टीमों एवं एसडीआरएफ की 2 टीमों को 60 मोटरबोट के साथ लगाया गया है. जल-जमाव के कारण अपने घरों में फंसे हुए लागों को एनडीआरएफ और एसडीआरएफ टीमों के सहयोग से सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है. अबतक कुल 69,752 आबादी को निष्क्रमित किया गया है. 361 मरीजों एवं 31 गर्भवती महिलाओं को सुरक्षित निकालकर अस्पताल पहुंचाया गया है. पटना शहर के जल-जमाव वालं क्षेत्रों में प्रभावितों के बीच वायुसेना के दो हेलिकॉप्टर से फूड पैकेट्स गिराये जाने का सिलसिला आज भी जारी रहा. फूड पैकेट में चुड़ा, गुड़, मोमबत्ती, दीया-सलाई, पानी का बोतल एवं आलू शामिल हैं. लगभग 7,500 फूड पैकेट गिराया गया है.

पटना जिला प्रशासन के द्वारा पेयजल, फूड पैकेट एवं दुग्ध का वितरण भी कराया जा रहा है तथा 02 स्थानों पर निःशुल्क सामुदायिक रसोई का संचालन किया जा रहा है. पटना जिला प्रशासन द्वारा अबतक 13,450 पानी का बोतल, 15,000 दूध का पैकेट एवं 13,520 फूड पैकेट का वितरण किया जा चुका है. स्वास्थ्य विभाग द्वारा जल-जमाव वाले क्षेत्रों में चिकित्सा व्यवस्था के लिए 20 चिकित्सा दलों को एम्बुलेंस एवं जीवन रक्षक दवाओं के साथ प्रतिनियुक्त किया गया है.

नीतीश ने जलजमाव को लेकर सवाल पूछने पर पत्रकारों की भाषा पर सवाल उठाया
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जलजमाव को लेकर मंगलवार की रात पत्रकारों द्वारा पूछे गए प्रश्नों की भाषा पर बुधवार को सवाल उठाते हुए कहा, ‘आप समाज को कहां ले जाना चाहते हैं.' पटना के ज्ञानभवन में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर आयोजित "गांधी विचार समागम" को संबोधित करते हुए नीतीश पत्रकारों की भाषा को लेकर व्यंग्य किया और कहा, ‘‘गजब का हिसाब हो गया है, हमारे मीडिया वाले, हम सबको प्रणाम करते हैं. क्या क्या लैंगवेज (भाषा) है भाई.

इससे पहले मंगलवार रात पटना शहर के जलमग्न इलाकों में पैदल चलकर पानी निकासी का निरीक्षण करने का जिक्र करते हुए नीतीश ने कहा 'एक कार्यक्रम में पहुंचे तो वहां देखा कि भारी संख्या में (पत्रकार) पहुंचे हुए हैं. हम तो सबको पहचानते भी नहीं हैं. कहां कहां से भेज देता है. चिल्ला चिल्ला कर. इसका क्या लाभ होने वाला है. कहां ले जाना चाहते हैं समाज को. किस तरह की भाषा का प्रयोग करते हैं. आपको कोई भ्रम है क्या? आपकी भाषा के प्रयोग करने से कुछ होता है क्या? कुछ नहीं होता है.'

उन्होंने कहा कि जनहित में और जनता के हित में जो काम किया जाता है हम उसके लिए पूरी तरह से समर्पित हैं. हम कोई प्रचार के लिए समर्पित नहीं हैं. जितनी मेरी आलोचना करनी हो, खूब मन से करिए लेकिन जरा भाई समाज का भी ख्याल रखिए. मंगलवार की रात जलजमाव को लेकर पत्रकारों के सवाल पर नीतीश ने कहा, ' पूरी बात को समझिए और बिना समझे बिना मतलब की बात नहीं करनी चाहिए. प्रकृति के कारण ऐसी स्थिति आयी है.

Total Pageviews

Follow ME

SAFETY ZONE

SAFETY ZONE

KOSHILIVE

Only news Complete news. मधेपुरा,सहरसा,सुपौल एवं बिहार की अन्य जिलों की खबरों का संग्रह। अगर किसी भी प्रकार की न्यूज़ आपके पास है।तो आप हमें दिए गए नम्बर 9570452002 पर whatsapp द्वारा भेज सकते हैं। -----------संपादक:-स्टॉलिन अमर अक्की www.koshilive.com

Connect With us

Pages