मधेपुरा:राम जानकी ठाकुरबाड़ी झलाड़ी से अष्टधातु की तीन बेशकीमती मूर्तियां चोरी - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Tuesday, September 24, 2019

मधेपुरा:राम जानकी ठाकुरबाड़ी झलाड़ी से अष्टधातु की तीन बेशकीमती मूर्तियां चोरी

कोशी लाइव_नई सोच नई खबर।
अक्की।
मधेपुरा के ग्वालपाड़ा से राम जानकी ठाकुरबाड़ी झलाड़ी से अष्टधातु की तीन बेशकीमती मूर्तियों के चोरी होने का मामला सामने आया है। चोरी गयी तीनों मूर्तियां 17 वीं सदी की बतायी जा रही है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत करोड़ों में होने की बात कही जा रही है। घटना पिछले सोमवार के रात की ही बतायी गयी है। हालांकि ग्रामीणों ने छह दिन बाद थाना में इसकी लिखित जानकारी दी है।
 बताया गया कि ठाकुरबाड़ी के महंथ उपेन्द्र दास अक्सर बीमार रहते हैं। ठाकुरबाड़ी का भंडारी चंद्रकिशोर दास ही लगभग एक साल से भगवान को भोग लगाता था। घटना के दिन महंथ जी बिहारीगंज से इलाज कराकर देर शाम वापस लौटे थे। शाम में पूजा-अर्चना के बाद मंदिर का पट बंद कर दिया गया था।
 सुबह में दरवाजा खुला देख भंडारी के होश उड़ गए। मंदिर के अंदर झांकने पर सिंहासन से राम, जानकी और लक्ष्मण की मूर्ति गायब थी। उसके बाद भंडारी ने अगल- बगल के लोगों को घटना की जानकारी दी। ग्रामीणों की सलाह पर आवेदन बनकर तैयार हो गया। लेकिन आवेदन में कुछ लोगों पर संदेह जाहिर करने की बात सामने आते ही भंडारी पर दबाव बनाया जाने लगा। लोगों के दबाव पर बाद में भंडारी भी पुलिस के पास जाने से कतराने लगे। कुछ लोग यह उम्मीद लगाए बैठे थे कि खुद चोर मूर्तियों को वापस मंदिर में रख देगा। इसी ऊहापोह में कई दिन गुजर गये। जब मूर्तियों का कोई पता नहीं चला, तब लोगों ने खुद पुलिस को लिखित जानकारी देने का निर्णय लिया।
 लगभग 75 लोगों का संयुक्त आवेदन थाना को सौंपा गया। ग्रामीणों ने बताया कि कुछ लोग ठाकुरबाड़ी पर अपना आधिपत्य कायम करना चाहते हैं। लगभग डेढ़ दशक पूर्व ठाकुरबाड़ी के एक सेवादार की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। आज तक हत्यारे का पता नहीं चल पाया।

17 वीं सदी की बतायी जा रही मूर्तियां 
ठाकुरवाड़ी से चोरी गयी अष्टधातु की मूर्तियों को सदियों पुराना बताया जा रहा है। कुछ लोग यह दावा करते हैं कि चढ़ावे का सिक्का मूर्तियों की तरफ खींचा चला जाता है। भगवान के इन मूर्तियों के प्रति लोगों में गहरी आस्था रही है। दूरदराज से लोग यहां पूजा-अर्चना के लिए आते थे। मूर्ति चोरी की घटना के बाद से लोग काफी मर्माहत नजर आ रहे हैं।  

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews