बिहार: सावन के सोमवार को देखकर मुस्लिम समुदाय के लोगों ने टाली कुर्बानी - कोशी लाइव

 कोशी लाइव

नई सोच नई खबर

Breaking

तिवारी एजेंसी(सहरसा)

तिवारी एजेंसी(सहरसा)
छड़,सीमेंट,गिट्टी,बालू एवं हार्डवेयर की सामान के लिए संपर्क करें।

THE JABED HABIB

THE JABED HABIB
BEST HAIR AND MAKEUP SLOON

Translate

Monday, 12 August 2019

बिहार: सावन के सोमवार को देखकर मुस्लिम समुदाय के लोगों ने टाली कुर्बानी

कोशी लाइव:अक्की

हाइलाइट्स:

  • बिहार के मुजफ्फरपुर में मुस्लिम परिवारों ने सांप्रदायिक सद्भाव की मिसाल पेश की
  • मुस्लिम परिवारों ने बकरीद की कुर्बानी को एक दिन के लिए टालने का फैसला किया
  • सावन का अंतिम सोमवार और बकरीद एक ही दिन पड़ने के कारण लिया फैसला
मुजफ्फरपुर 
एक ओर जहां ईद-उल-अजहा (बकरीद) और सावन महीने के अंतिम सोमवार को देखते हुए बिहार में सुरक्षा प्रबंध की मुकम्मल व्यवस्था की गई है। इस बीच राज्‍य के मुजफ्फरपुर जिले के छाता बाजार के मुस्लिम परिवारों ने सांप्रदायिक सद्भाव की अनूठी मिसाल पेश करते हुए समाज में शांति का संदेश दिया है। जिले के मुस्लिम परिवारों ने बकरीद और सावन का अंतिम सोमवार एक ही दिन पड़ने के कारण कुर्बानी को एक दिन के लिए टालने का फैसला लिया है। मुस्लिम समुदाय के लोगों ने 13 अगस्त (मंगलवार) को कुर्बानी देने का सामूहिक फैसला लिया है। छाता बाजार स्थित गरीबनाथ मंदिर में सावन के सोमवार को बड़ी संख्या में श्रद्धालु भगवान भोलेनाथ की पूजा करने पहुंचते हैं। इसी जगह पर एक मस्जिद भी है। 

'कुबार्नी सोमवार की जगह मंगलवार को' 
मस्जिद से भी सार्वजनिक रूप से इस निर्णय की घोषणा की गई है। छाता बाजार मस्जिद के इमाम मौलाना सईदुज्जमां ने कहा कि यहां आसपास करीब 25 से 30 मुस्लिम परिवारों के लोग रहते हैं। इनमें से अधिकांश परिवारों ने यहां कुर्बानी के लिए बकरा पहले से खरीद रखा है, लेकिन अब बकरीद की कुबार्नी सोमवार की जगह मंगलवार को की जाएगी। 

इमाम ने कहा, ‘मुस्लिम परिवारों के कुर्बानी देने के बाद मंदिर में आने-जाने वाले श्रद्धालुओं को परेशानी का सामना करना पड़ता, इस कारण यह फैसला लिया गया। यह फैसला भाईचारा और सामाजिक सौहार्द के लिए सबकी रजामंदी से लिया गया है।’ उन्होंने कहा कि बकरीद के मौके पर 3 दिनों तक कुर्बानी दी जा सकती है, इसलिए किसी को कहीं कोई परेशानी नहीं हुई। 

'फैसले से समाज में अमन चैन का संदेश गया' 
मस्जिद कमेटी के अध्यक्ष दिलशाद अहमद भी मानते हैं कि इस फैसले से समाज में अमन चैन का संदेश गया है। उन्होंने यह भी कहा कि सोमवार को बकरीद की नमाज अपने पूर्व निर्धारित समय पर अदा की गई। उल्लेखनीय है कि सावन में प्रतिदिन बड़ी संख्या में श्रद्धालु गरीबनाथ मंदिर पंहुचते हैं और भगवान की पूजा-अर्चना करते हैं। 

सावन के सोमवार को मंदिर में दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या एक लाख तक पहुंच जाती है। यहां बड़ी संख्या में कांवड़िए भी पहुंचते हैं और भगवान शंकर का जलाभिषेक करते हैं। माना जा रहा है कि यह पहला मौका है कि बकरीद और सावन महीने का सोमवार एक ही दिन पड़ा हो। बहरहाल, मुस्लिम परिवारों के इस निर्णय की हर तरफ प्रशंसा हो रही है। 

Total Pageviews

Follow ME

SAFETY ZONE

SAFETY ZONE

कोशी लाइव

यहाँ आप कोशी क्षेत्र के आसपास सभी जिलों मधेपुरा, सहरसा,सुपौल।तथा अपने प्रखंड ओर पंचायत की सटीक खबरें पढ़ सकते हैं। अगर किसी भी प्रकार की न्यूज़ आपके पास है।तो आप हमें दिए गए नम्बर 9570452002 पर whatsapp द्वारा भेज सकते हैं। -----------संपादक:-स्टॉलिन अमर अक्की www.koshilive.com

Connect With us

Pages