सहरसा: भड़कीं महिलाओं ने एसडीपीओ को खदेड़ा - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Wednesday, August 14, 2019

सहरसा: भड़कीं महिलाओं ने एसडीपीओ को खदेड़ा

कोशी लाइव:विकास तांती

सहरसा। सिमरी बख्तियारपुर थाना के कनरिया ओपी अंतर्गत बेलवाड़ा गांव के जिला टोला में मंगलवार संध्या पहुंची सिमरी बख्तियारपुर एसडीपीओ मृदुला कुमारी को ग्रामीणों के आक्रोश का सामना करना पड़ा। उन्होंने हत्यारोपी रणवीर कुमार के पक्ष में कुछ बातें कही थीं।
इसपर महिलाओं में इतना आक्रोश बढ़ गया कि एसडीपीओ की गाड़ी को घेर लिया। इसके बाद झाडू व चप्पल-जूते से उन्हें मारने की कोशिश की। आक्रोशित महिलाओं ने एसडीपीओ को गाड़ी से खींचने की कोशिश की, लेकिन कुछ ग्रामीणों व बॉडीगार्ड की सूझबूझ से एसडीपीओ बाल-बाल बच गईं। ग्रामीणों ने बताया कि एसडीपीओ आठ अगस्त को मुकेश सिंह की हत्या की जांच को पहुंचीं। पंचायत समिति सदस्य के पुत्र रणवीर कुमार पर भाड़े के अपराधियों द्वारा हत्या कराने का आरोप है। ग्रामीण घनश्याम सिंह, जसवीर सिंह, जयजयराम सिंह, मृतक की मां रीना देवी इत्यादि ने बताया कि एसडीपीओ रणवीर एवं घटना में शामिल बदमाशों के पक्ष में बात करने लगीं। इसपर ग्रामीण आक्रोशित हो उठे। यही नहीं, पीड़ित परिवार के पक्ष में सैकड़ों महिलाएं झाड़ू, चप्पल लेकर मारपीट करने पर उतारू हो गई। महिलाएं पुलिस वापस जाओ आदि के नारे लगा रही थीं। ग्रामीणों ने बताया कि गांजा तस्कर राजा सिंह व रणवीर ने भाड़े के अपराधियों से गांव में फायरिग करवाई। बदमाशों द्वारा की गई अंधाधुंध फायरिग से मुकेश सिंह की मौत हो गई। ग्रामीणों का कहना था कि अनुसंधानकर्ता कनरिया ओपी अध्यक्ष कमल हुसैन को बनाया गया, तो क्यों दो दिन के बाद ही उनका तबादला कर दिया गया। घटना के पांच दिन बीत जाने के बाद भी आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई। ग्रामीणों ने डीआइजी-एसपी से आरोपियों की गिरफ्तारी व सिमरी बख्तियारपुर एसडीपीओ को इस जांच से हटाने की मांग की है। इस घटना की बाबत जब सिमरी एसडीपीओ मृदुला कुमारी ने बात करने से इन्कार कर दिया। पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार ने बताया कि किसी भी अपराधी के पक्ष में पुलिस पदाधिकारी को नहीं जाना चाहिए। मामले में जो भी दोषी होगा, उसे सजा मिलेगी।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews