सहरसा:जिले में झमाझम बारिश, गर्मी से मिली राहत, लेकिन जगह-जगह बन गई नारकीय स्थिति - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Monday, July 8, 2019

सहरसा:जिले में झमाझम बारिश, गर्मी से मिली राहत, लेकिन जगह-जगह बन गई नारकीय स्थिति

कोशी लाइव: विकास तांती

झमाझम बारिश से रविवार को दिनभर मौसम सुहाना रहा। शनिवार की देर रात से शुरू हुई बारिश रुक-रुक होती रही है। मौसम वैज्ञानिक के अनुसार बारिश लगभग 15 एमएम ही हुई है। रविवार को दिनभर आकाश में बादल छाये रहे और दोपहर भी कुछ देर बारिश हुई। विगत एक सप्ताह से लगातार उमस भरी गर्मी के बाद रुक-रुककर दो घंटे तक हुई बारिश से एक तरफ मौसम सुहाना हुआ, तो दूसरी तरफ शहर में हर तरफ जलजमाव जैसा नजारा बन गया। इस बारिश ने नगर परिषद की पोल खोल कर रख दी है।
गली-मोहल्लों से लेकर मुख्य सड़क तक पानी ही पानी नजर आ रहा। कहीं-कहीं तो डेढ़ से दो फीट पानी जमा हो गया है। इस कारण लोगों का पैदल चलना मुश्किल हो गया है। लोगों को इस बात की चिंता सताने लगी है कि जब दो घंटे की बारिश में शहर का यह हाल है तो मानसून की लगातार बारिश में क्या हाल होगा?
जगह-जगह बन गई नारकीय स्थिति : शहर के गंगजला, गौतम नगर, बटराहा, नयाबाजार, पूरब बाजार, कायस्थ टोला, हटिया गाछी बस्ती सहित विभिन्न मुहल्लों में जलजमाव की समस्या बन गई है। खासकर मुख्य सड़क एनएचएआई 107 की छूटी हुई पटुआहा से मीरटोला की सड़क पर जगह-जगह पानी व कीचड़ से लोग परेशान हैं।
पॉलिटेक्निक ढाला सड़क पर जलजमाव : शहर के बायपास मुख्य सड़क पंचवटी से पॉलिटेक्निक ढाला में जगह-जगह पानी जमा हो गया है। लोगों ने बताया कि दो दिन पूर्व जर्जर सड़क को कुछ जगहों पर अलकतरा देकर सड़क पर चिप्पी लगाया गया था, लेकिन गड्ढे को ऊंचा नहीं कर गड्ढे में पीचिंग कर दी गई। बारिश होने पर फिर से उसी जगह पानी जमा है।
छूटी सड़क बना परेशानी का सबब : नगरपालिका गेट से गंगजला बस स्टैंड तक मात्र सौ मीटर सड़क का निर्माण नहीं हुआ है। इस सड़क पर जगह जगह गड्ढे में लबालब पानी से आवागमन में दिक्कतों हो रही है। स्थानीय लोगों ने बताया कि विभाग द्वारा सड़क के कुछ भाग को छोड़ दिये जाने से सड़क में खाई बन गयी है। जिसमें कीचड़ पानी से परेशानी है। बस स्टैंड जाने आने वाली मुख्य सड़क होने से वाहनों के आवाजाही से कीचड़ उछलकर पड़ता है।
बटराहा में नाले की गंदगी सड़क पर फैली : बटराहा वार्ड 22 में नाला उड़ाही कर कचरा को सड़क पर छोड़ दिये जाने से बारिश होने पर पूरा कचरा सड़क पर फैल गया है जो पक्की सड़क अभी गंदे कचरे के कीचड़ में तब्दील हो गया है। लोगों का इस सड़क से गुजरना मुश्किल हो रहा है।
धान के बिचड़ा को फायदा : बारिश होने से धान के बिचड़ा को फायदा हुआ है। हालांकि अत्यधिक बारिश नहीं हुई है। किसानों को अत्यधिक बारिश का इंतजार है। किसानों का कहना है कि धान रोपनी का समय शुरू हो चुका है। बारिश का इंतजार है। अच्छी बारिश होने पर हमलोग धान रोपनी करेंगे। मोटर पम्प से खेत पटवन कर धान की रोपनी संभव नहीं है।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews