मानसून फुल तेवर में: बिहार में 13 जुलाई तक झमाझम बारिश, 14 तक धूप के आसार नहीं - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Tuesday, July 9, 2019

मानसून फुल तेवर में: बिहार में 13 जुलाई तक झमाझम बारिश, 14 तक धूप के आसार नहीं

कोशी लाइव:अक्की

पटना। बिहार में मानसून फुल तेवर में है। तीन दिनों से लगातार बारिश हो रही है। पटना समेत बिहार के अन्‍य जिलों में जलजमाव ने सरकारी व्‍यवस्‍था की पोल खोल दी है। लेकिन आज ताे नौ जुलाई ही है। मौसम विभाग की मानें तो 13 जुलाई को झमाझम बारिश होगी। खास कर 10 और 11 जुलाई को मूसलधार बारिश होगी। उधर सुपौल में कोसी नदी के जलस्‍तर में वृद्धि हुई है। पटना में फ्रंट रिवर से गंगा दर्शन कर सकते हैं। कहीं स्‍कूल तो कहीं अस्‍पताल में पानी घुस गया है। अररिया में तो डीएम ऑफिस में ही पानी घुस गया।   
कुछ जिलों में होगी भारी वर्षा

पिछले तीन दिनों से सक्रिय दक्षिण-पश्चिम मानसून बिहार में 13 जुलाई तक झमाझम बारिश कराएगा। कुछ जगहों पर भारी वर्षा होगी। फिलहाल 14 जुलाई तक धूप निकलने की संभावना नहीं है। मौसम विभाग के अनुसार पड़ोसी राज्य झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में मानसून धीरे-धीरे कमजोर पड़ रहा है, लेकिन बिहार से असम तक कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण 14 जुलाई तक वर्षा होने की संभावना है। 
संपूर्ण बिहार में बना हुआ है कम दबाव का क्षेत्र 
मौसम विभाग से जारी पूर्वानुमान के अनुसार संपूर्ण बिहार में इस समय कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इससे पटना, छपरा, मुजफ्फरपुर, मोतिहारी, मधुबनी, किशनगंज, पूर्णिया, फारबिसगंज और आसपास के क्षेत्र में 11 जुलाई तक भारी वर्षा होने के आसार हैं। कुछ क्षेत्रों में 12 जुलाई को भारी वर्षा होगी। 13 जुलाई से मानसून कमजोर पडऩे लगेगा, लेकिन 14 तक बादल छाए रहेंगे। कुछ जगहों पर छिटपुट वर्षा होती रहेगी। 
सात साल बाद जुलाई में सामान्य से 9 फीसद अधिक बारिश
सात वर्ष बाद पटना में जुलाई में मानसून की वर्षा सामान्य से अधिक हुई है। बीते आठ दिनों में औसत से करीब नौ फीसद अधिक बारिश का रिकॉर्ड बना है। इससे पूर्व जुलाई 2012 में सामान्य से 37 फीसद अधिक वर्षा हुई थी। एक दशक में दूसरी बार जुलाई में मानसून की अच्छी बारिश हो रही है। मौसम विभाग के रिकॉर्ड के अनुसार 1 से 8 जुलाई तक पटना में सामान्य बारिश 73.9 एमएम वर्षा होनी चाहिए। आठ दिनों के दौरान 80.3 एमएम वर्षा रिकॉर्ड किया गया है।
 इसके पहले 2012 में ऐसी ही बारिश हुई थी
सामान्य से अधिक बारिश का रिकॉर्ड एक दशक के दौरान सिर्फ जुलाई 2012 में बना था। मौसम विभाग के अनुसार जुलाई में 333.7 एमएम और जून में 125.4 एमएम सामान्य बारिश होनी चाहिए। जबकि जून में मात्र 42 एमएम बारिश हुई जो सामान्य से करीब 67 फीसद कम रही। जून से अब तक 200.9 एमएम सामान्य वर्षा की तुलना में 122 एमएम वर्षा रिकॉर्ड की गई है। अब तक 39 फीसद कम बारिश हुई है।
आंकड़ों में देखें बारिश
मौसम विभाग के अनुसार जुलाई 2009 में 51 फीसद कम वर्षा का रिकॉर्ड था। 2010 में 29 फीसद, 2011 में 52 फीसद कम वर्षा रिकॉर्ड की गई थी। एक दशक के दौरान 2012 में सर्वाधिक 403.1 एमएम वर्षा हुई थी जो सामान्य से 37 फीसद अधिक रिकॉर्ड की गई। 2003 में सामान्य से 59 फीसद कम, 2014 में 48, 2015 में 25 फीसद, 2016 में 13 फीसद कम बारिश हुई थी। 2017 में 10 फीसद और 2018 में 18 फीसद वर्षा में कमी दर्ज की गई थी। लेकिन, इस बार अब तक जुलाई में 9 फीसद अधिक बारिश का रिकॉर्ड बना है। 

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews