BIHAR:आज वट सावित्री की पूजा कर सुहागिनी अपने पति की दीर्घ जीवन और परिवार में सुख शांति,,,,,,,, - कोशी लाइव

 कोशी लाइव

नई सोच नई खबर

KOSHI%2BLIVE2

Breaking

Translate

Monday, 3 June 2019

BIHAR:आज वट सावित्री की पूजा कर सुहागिनी अपने पति की दीर्घ जीवन और परिवार में सुख शांति,,,,,,,,

कोशी लाइव:@
अनिष कुमार संवाददाता


बिहार के कई जिले ही नही गाँव से गली तक मधेपुरा जिला के ग्वालपाड़ा प्रखंड के अंतर्गत विशनपुर  अरार कालीस्थान के निकट बङी ही धूमधाम से
सोमवती अमावस्या बैसाख आमावस्या आज वट सावित्री की पूजा कर सुहागिनी अपने पति की दीर्घ जीवन और परिवार में सुख शांति और धनलक्ष्मी के लिए की।वट सावित्री में वट और साबित्री  दोनों का खास महत्व है।वट या वरगद का पेड़ जिसके सम्बन्ध में पुराणों में कहा गया है कि इसमें ब्रम्हा बिष्णु और महेश का वास होता है और साबित्री इसी वट बृक्ष के नीचे पूजा कर अपने पातिब्रत के बल पर अपने मृत पति सत्यवान को नया जीवन दिलवा दिया।इस पूजा के सम्बंध में एक अन्य कहानिया है कि मारकनडेय ऋषि भगवान शिव के आशीर्वाद से बरगद के पते पर पैर का अंगूठा चूसते हुए बाल मुकुंद का दर्शन किये तभी से वट सावित्री की पूजा शुरू हुई।वट सावित्री बरत में सुहागिनी दो टोकड़ी एक मे सात तरह के अनाज लेकर उसे तो कपड़े से ढंक कर तथा दूसरे टोकड़ी में देबी साबित्री की प्रतिमा लेकर बरगद के पेड़ के नीचे बैठकर बरगद को पूजती है पूजा के तहत बरगद पर जल कूमकूम था सभी प्रकार के अनाज चढ़ाकर सूत के धागे से वरगद को बांधती है फिर सात परिक्रमा करने के पश्चात एक दूसरे को सिंदूर लगाकर पूजा सम्पन्न करती है।वट बृक्ष की पूजा से घर मे सुख शांति और धनलक्ष्मी भी आती है।वट बृक्ष को रोगनाशक भी कहा जाता है।बरगद का दूध के गम्भीर बीमारियों से रक्षा करता है।वट सावित्री की पूजा को बर्षाति पूजा भी  कहा जाता है।कहा जाता है कि आज के पूजा से बर्षात के आगमन का संकेत मिल जाता है।प्रकृति में आद्रता आ जाती है।

Total Pageviews

Follow ME

SAFETY ZONE

SAFETY ZONE

कोशी लाइव

यहाँ आप कोशी क्षेत्र के आसपास सभी जिलों मधेपुरा, सहरसा,सुपौल।तथा अपने प्रखंड ओर पंचायत की सटीक खबरें पढ़ सकते हैं। अगर किसी भी प्रकार की न्यूज़ आपके पास है।तो आप हमें दिए गए नम्बर 9570452002 पर whatsapp द्वारा भेज सकते हैं। -----------संपादक:-स्टॉलिन अमर अक्की www.koshilive.com

Pages