मधेपुरा:अब सोशल मीडिया पर उठ रही है आवाज, बैन कप सिरप की बिक्री पर जल्द लगे रोक - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Wednesday, May 22, 2019

मधेपुरा:अब सोशल मीडिया पर उठ रही है आवाज, बैन कप सिरप की बिक्री पर जल्द लगे रोक

कोशी लाइव: स्टालिन अमर अक्की

कोशी क्षेत्र के युवाओं का भविष्य खतरे में पड़ सकता है, अगर समय रहते रोका नहीं गया तो....

अब कुछ युवा पीढ़ी ने खुल कर बैन नशीली दवाएं के बिक्री का  विरोध सोशल मीडिया पर कर रहे हैं,साथ ही अपने भटके युवा साथियों को सही राह पर लाने की कोशिश कर रहे हैं।साथ ही प्रशासन से इस विषय पर जल्द कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहे।

मधेपुरा : बड़े पैमाने पर युवक नशीली दवाई का सेवन करने लगे हैं. यह नशीली दवाई मेडिकल स्टोर पर आसानी से उपलब्ध हो जाती है. मुख्यालय में नवयुवकों में फाइल शब्द का प्रचलन बढ़ गया है. कोरेक्स सहित कई अन्य सिरप प्रिंट रेट से कई गुना अधिक दामो पर बेचा जा रहा है.    नवयुवक नशीली दवाई का सेवन कर भविष्य गर्क में डाल रहे हैं. फाइल शब्द कोई अंजान शब्द नहीं है. यह एक दवा कोरेक्स सीरप का नाम है. जो खांसी जैसी बीमारी में काम आता है. जिसे पीने के आदी मुख्यालय क्षेत्र के युवक हो गये हैं. दवा दुकानदार बिना किसी डॉक्टर के पर्ची देखे आसानी से दवाई दे देते हैं......

नशीली दवाओं पर बेन के बाद भी बिक रही है यह दवा : 

दवाई दुकानदार इतना भी पूछने की जहमत नहीं उठाते हैं कि आप किस डॉक्टर से पूर्जा लिखवाएं हैं. क्षेत्र को रेलवे स्टेशन, भिरखी के कई मुल्ले, बस स्टैड, बायपास, भिरखी चौक, कॉलेज के गलियों में समेत दर्जनों ऐसे जगह है जहां बिखरे कोरेक्स की बोतलें इसका गवाह हैं. लोगों का कहना है कि कोरेक्स पीने से नशा आता है. कोरेक्स पीने से उसका साइड इफेक्ट इन पीने वालों को पता नहीं है और युवा पीढ़ी इस दलदल में फंसते चले जा रहे हैं. मुख्यालय क्षेत्र के नई पीढ़ी के युवक इसका एडिक्ट होते जा रहे हैं.    उन्हें खाने से अधिक चिंता कोरेक्स की बोतलें जुटाने की रहती है. बिना रोकथाम के कोरेक्स शहर में बिकता रहा तो अधिकतर युवक इसके एडिक्ट हो जायेंगे. कोरेक्स सिरप, अल्ट्रेक्स सीडी, डाइलेक्स डीसी सहित कई नशीली दवाओं पर बेन लगाया जा चुका है. इन दवाओं में कोडीन फ़ॉस्फ़ेट जैसे नशीली केमिकल का उपयोग किया जाता है. जिसे सरकार ने प्रतिबंधित कर दिया है.    इन दवाओं का दाम 90 रूपये से लेकर 115 रुपये तक है. जिसे बाजार में धड़ल्ले से 200 सौ से 250 सौ रुपये तक मे बेचा जाता है. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी इन मामलों से कन्नी काटते नजर आते हैं. न
रोजाना सैकड़ों के संख्या में नशा युक्त दवा का सेवन करते हैं. लेकिन विभाग के अधिकारियों के कणों पर जूं तक नहीं रेंगती.     इस संबंध में जानकारी चिकित्सकों का कहना है कि किसी भी चीज का एडिक्ट होने पर उसका साइड इफेक्ट है. इस दवा के अधिक सेवन से लीवर पर असर पड़ता है. अल्ट्रेक्स सीडी दवा को नशा के लिए उपयोग करते हैं तो हार्ट व लीवर पर भी इसका असर पड़ सकता है. उन्होंने कहा कि ऐसे दवाई पर बेन लगा दी गयी है.

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews