सहरसा:जर्जर एनएच पर लड़खड़ाएगी नेताओं की गाड़ी - कोशी लाइव

BREAKING

विज्ञापन

विज्ञापन

Wednesday, April 3, 2019

सहरसा:जर्जर एनएच पर लड़खड़ाएगी नेताओं की गाड़ी

कोशी लाइव:@विकास तांती

सहरसा। सहरसा से मधेपुरा की दूरी महज 22 किलोमीटर है। लेकिन वाहनों से इन दूरी को तय करने में करीब डेढ़ घंटे का समय जाया होता है। यह सड़क राष्ट्रीय राजमार्ग 107 कहलाता है। परंतु इस सड़क की जर्जरता विकास की हर कहानी को बयां करती है। यह हाल मधेपुरा-पूर्णिया एनएच का भी है। वैसे, इस सड़क के निर्माण की स्वीकृति वर्ष 2017 में दी जा चुकी है। कार्य का आवंटन भी एक कंपनी को कर दिया गया है। बावजूद इन दो वर्षों में कुछ काम नहीं हो सका।
कोसी का इलाका वैसे तो राजनीतिक रूप से काफी उर्वर है। कई कद्?दावर नेता इस इलाके में हैं। इस चुनाव में भी कई मैदान में उतरे हैं। लेकिन इन नेताओं को जर्जर एनएच की याद तक नहीं आती है। कोई सदन में उठाने तो कोई पत्र लिखने की बात कहते हैं। लेकिन इस सड़क मार्ग से चलने वाले लोग सरकार से लेकर नेता तक को कोस रहे हैं।

----
88 किमी सड़क की मिली है स्वीकृति
----
महेशखूंट-सोनवर्षा, सहरसा-मधेपुरा-पूर्णिया तक 88 किमी सड़क का निर्माण कराया जाना है। इस सड़क के निर्माण पर 736 करोड़ की राशि खर्च होगी। कार्य का आवंटन भी कर दिया गया है। कार्य एजेंसी कार्य शुरू करने का दावा भी करती है। लेकिन अबतक कार्य नहीं हो पाया है। वैसे भूमि अधिग्रहण सड़क के निर्माण में रोड़ा अटका रही है।

----
पूरी तरह से जर्जर हो चुकी है सड़क
----
शहर के एनएच की जर्जरता को तो लोग झेल लेते हैं। लेकिन जैसे ही तिवारी चौक से उनकी गाड़ी पटुआहा की ओर निकलती है लोगों को रोना आ जाता है। बैजनाथपुर चौक पहुंचते ही लोग नेताओं को कोसने लगते हैं। उनकी हिम्मत टूटने लगती है। मधेपुरा, मुरलीगंज तक के पूरे सफर में वो नेताओं व सरकार को कोसते रहते हैं। इस सड़क मार्ग पर कार से यात्रा कर रहे दीपक कुमार ने बताया कि वो मधेपुरा गये थे। लेकिन इस सड़क मार्ग से लौटने की हिम्मत नहीं हुई तो पतरघट, सौरबाजार के रास्ते सहरसा पहुंचे। संतोष कुमार ने बताया कि सरकार की कार्य एजेंसी की लापरवाही के कारण सड़क का निर्माण नहीं हो रहा है। सड़क में बने गड्ढ़े जानलेवा हो गए हैं। रोज दुर्घटनाएं हो रही है। इस चुनाव में ऐसे नेताओं से हिसाब भी लिया जाएगा। विकास कुमार ने कहा कि इस सड़क मार्ग की जर्जरता का कारण एक नहीं सभी नेता हैं। जिसका जवाब जनता देगी।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews