बिहार:नेताओं को मुंह चिढ़ा रहा है सहरसा का एनएच - कोशी लाइव

BREAKING

रितिका CCTV

रितिका CCTV
सेल एंड सर्विस

विज्ञापन

विज्ञापन

Wednesday, April 17, 2019

बिहार:नेताओं को मुंह चिढ़ा रहा है सहरसा का एनएच

कोशी लाइव:अक्की

सहरसा। चुनाव का दिन करीब आ रहा है। नेताओं की गाड़ियां हर गली में पहुंच रही है। अधिक-से-अधिक लोगों से मिलने के लिए प्रत्याशी और समर्थक दिन- रात एक किए हुए हैं, परंतु सबों की कोशिश है कि एनएच से गुजरने की जरूरत कम पड़े। एनएच न सिर्फ उनकी रफ्तार रोकती है बल्कि झूठे वादों-आश्वासनों, विकास के लिए हम- हम की रट लगाने वालों को नंगा भी करता है। मंगलवार की रात हुई बारिश के कारण सहरसा शहर में राष्ट्रीय उच्च पथ चलने के काबिल नहीं है। कहरा से कुटी से महावीर चौक और सहरसा कॉलेज गेट से दिल्ली हाट कर सफर पूरा करने के बाद वाहन चालकों के सांस में सांस आती है। कोई मोटरसाइकिल से महिला और बच्चों को उतारकर गड्ढे को पार करने की जुगत कर रहा है, तो कोई साइकिल से उतरकर पैदल पार करना ही श्रेयस्कर समझता है। कोई दिन नहीं जब दर्जन भर लोग गिरकर चोटिल न होते हैं। लेकिन इसकी सुधि लेनेवाला कोई नहीं है।
सहरसा कचहरी के बैजनाथ भगत एनएच का हाल बताते भावुक हो जाते हैं। कहते हैं कि वे बाल- बाल बच गए। जिस तरह एनएच के गड्ढे में गिरे तो उनकी मौत भी हो सकती थी। ऐसे में उनके बच्चों की परवरिश कौन करता है। नेताओं की पोल खोल दीजिए सर। इसी प्रकार सहरसा बस्ती के सौकत अली का कहना है कि लोगों को रोज गिरते देखने के लिए वे अभ्यस्त हो चुके हैं। पहले तो लोग गिरनेवाले को दौड़कर उठाते भी थे अब तंग आकर लोगों ने वह भी छोड़ दिया। हटियागाछी के उदाहरण भगत का कहना है कि जो जनप्रतिनिधि जीतकर जाते हैं, वे जनता की पीड़ा को भूल जाते हैं। ऐसे में अब लोग भगवान भरोसे हो गए हैं। नेताओं से कोई उम्मीद ही नहीं है। अनुज कुमार कहते हैं कि जब एनएच स्वीकृत हुआ था, तो लगा था कि हमलोग विकास कर रहे हैं,लेकिन ऐसा लगता है एनएच के नाम पर नेताओं ने हमें सिरदर्द ही दे दिया है। आशीष कुमार, रामोतार महतो, मोहन कुमार समेत अन्य लोगों में एनएच को लेकर आक्रोश व्याप्त है।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews