सहरसा:शहीद पिंटू की शहादत की जगह रैली को दी गई प्राथमिकता, पता चल गया सेना की कितनी मदद कर रही सरकार - रितेश : हन्नी - कोशी लाइव

BREAKING

रितिका CCTV

रितिका CCTV
सेल एंड सर्विस

विज्ञापन

विज्ञापन

Monday, March 4, 2019

सहरसा:शहीद पिंटू की शहादत की जगह रैली को दी गई प्राथमिकता, पता चल गया सेना की कितनी मदद कर रही सरकार - रितेश : हन्नी

कोशी लाइव:
शहीद पिंटू

सहरसा :- बिहार के बेगूसराय के रहने वाले सीआरपीएफ जवान पिंटू कुमार जम्मू-कश्मीर आतंकियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हो गए थे। रविवार (3 मार्च) को उनका पार्थिव शरीर पटना एयरपोर्ट लाया गया और यहां से उसे उनके पैतृक गांव भेजा गया। पटना एयरपोर्ट पर शहीद जवान को श्रद्धांजलि देने के लिए न तो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचे और न हीं उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी। यहां तक कि राज्य के किसी मंत्री ने एयरपोर्ट पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि नहीं दी। सिर्फ बिहार कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा एयरपोर्ट पहुंचे। इस घटना पर लोकतांत्रिक जनता दल के उपाध्यक्ष सह सोशल मीडिया प्रभारी रितेश हन्नी ने दुख जताया। उन्होंने कहा कि हमारा दुर्भाग्य है कि शहादत की जगह रैली को महत्व दिया गया। इससे पता चल गया कि सरकार सेना को कितना मदद कर रही है। आगे रितेश हन्नी ने कहा “रैली को महत्व दिया गया है। शहीद को तो बाद में भी देखा जा सकता है। मरने वाला तो मर गया। मंत्री जी को क्या लेना है ? वो तो अपनी कुर्सी बचाने में लगे रहते हैं। मंत्री और मुख्यमंत्री एयरपोर्ट पर नहीं आए, इसी से तो पता चलता है कि हमारी सरकार सेना को कितना मदद कर रही है।” बता दें कि रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजधानी पटना में एक रैली को संबोधित किया। इस रैली में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान सहित एनडीए के बड़े नेता मंच पर मौजूद रहे। रैली की शुरूआत में पीएम मोदी ने कहा, “बिहार के शहीदों को नमन करता हूं।”

रितेश हन्नी

लोजद उपाध्यक्ष रितेश हन्नी ने तंज कसते हुए कहा कि “पटना में बीजेपी और नीतीश कुमार द्वारा आज शहीद पिंटू सिंह को श्रद्धांजलि नहीं देकर इन फर्जी राष्ट्रवादियों ने शहादत का अपमान किया है। यही फर्जी लोग सेना और जवानों के नाम पर टेसू बहायेंगे। संकल्प रैली में शहीदों को अपमानित करने का संकल्प लेंगे क्या ?” आपको बता दें कि पिंटू मूल रूप से बिहार के बेगूसराय जिले के बखरी प्रखंड के बगरस ध्यानचक्की गांव के रहने वाले थे। वे शुक्रवार की शाम उत्तरी कश्मीर के बाबूगुंड हंदवाड़ा में शहीद हो गए थे। उनकी शादी वर्ष 2011 में हुई थी। वे अपने पीछे पत्नी और पांच साल की बेटी को छोड़ गए। इस दुःख की घड़ी में लोकतांत्रिक जनता दल शहीद के परिवार के साथ है।

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

SAFTY ZONE[मधेपुरा]

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल

सावित्रीनंदा पब्लिक स्कूल
बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूर सम्पर्क करें।

Total Pageviews