सहरसा:इलेक्ट्रॉनिक शवदाह गृह की योजना अब तक अधूरी - कोशी लाइव

 कोशी लाइव

नई सोच नई खबर

KOSHI%2BLIVE2

Breaking

Translate

Monday, 11 February 2019

सहरसा:इलेक्ट्रॉनिक शवदाह गृह की योजना अब तक अधूरी

कोशी लाइव:@बंश राज


लाखों की आबादी के लिए शहर स्थित कोरलाही के समीप बने शवदाह गृह में सुविधाओं का अभाव है। पांच वर्ष पूर्व पीएचईडी ने इसे इलेक्ट्रॉनिक शवदाह गृह बनाने की योजना बनायी थी। लगभग 44 लाख की लागत से इसका निर्माण कार्य भी शुरू हुआ लेकिन पूर्ण रूप से तैयार किये बिना ही इसे आधा अधूरा छोड़ दिया गया। इस कारण अब लोगों को शव जलाने में परेशानी हो रही है।
पीएचईडी विभाग द्वारा कराये गये अधूरे कार्य का हैंड ओवर नगर परिषद को भी करा दिया गया है। लाखों की लागत से शवदाह गृह निर्माण सहित शव को जलाने के लिए छह सीट, कीर्तन भवन, तीन दुकान, शौचालय घर, चापाकल आदि की योजना बनाई गई थी। कार्य शुरू तो किया गया लेकिन प्राक्कलन के मुताबिक कार्य नहीं कर अधूरे कार्य को ही नगर परिषद को हैंडओवर कर दिया गया। इस तरह लाखों की योजना मुक्ति धाम के नाम पर मुक्त हो गयी। पीएचईडी विभाग के अभियंता ने बताया कि नगर परिषद द्वारा शवदाह गृह बनाने के लिए जमीन उपलब्ध करवाई गई थी। काम समाप्त होते ही इसे नगर परिषद को सौंप दिया गया है।
शव जलाने के लिए बनाये गये छह सीट बेकार : शव को जलाने के लिए लोहे का छह सीट बनाया गया है लेकिन प्राक्कलन के मुताबिक कार्य नहीं किये जाने से बेकार पड़ा हुआ है। स्थानीय ग्रामीण सहित रोहिन दास ने बताया कि लोहे की चौड़ाई सवा फीट दी गयी है जबकि चौड़ाई अधिक होनी चाहिए थी। पार्किंग की व्यवस्था तक नहीं की गई है।
एस्बेस्टस की जगह टिन : शवदाह गृह में बनाये एक शेड पर एस्बेस्टस की जगह टिन दे दिया गया है। वही रोशनी की व्यवस्था के लिए पोल तो गाड़ा गया लेकिन सोलर लाइट नहीं लगाई गयी।
मुक्तिधाम जाने वाली सड़क पर जलजमाव: सर्वदान से मुक्तिधाम के लिए बनायी गयी सड़क पर बारिश के दौरान जलजमाव हो जाता है। विभाग ने कई बार इस सड़क के निर्माण कार्य की योजना बनायी लेकिन आजतक कार्य शुरू नहीं हुआ है। बरसात के मौसम में मुक्तिधाम सड़क पर तीन से चार फीट पानी रहने से लोगों को आने जाने में कठिनाई होती है।
मुक्तिधाम में लगभग 26 कट्टा है जमीन : शहर स्थित मुक्तिधाम में लगभग 26 कट्ठा जमीन है जो बिहार सरकार के नाम से है। जानकार बताते हैं कि अभी लगभग आठ कट्ठा में मुक्तिधाम बना हुआ है शेष जमीन पार्किंग आदि के लिए है।
चापाकल सहित अन्य सुविधाओं का अभाव: मुक्तिधाम में बोर्ड लगाने की योजना थी लेकिन बोर्ड नहीं लगाया गया है। वही चापाकल नहीं लगाये जाने से पानी की किल्लत है। इसकी देखरेख कर रहे लोगों ने बताया कि मुक्तिधाम में एक अदद चापाकल तक नहीं लगाया गया है। लोगों को दूर स्थित भगवती स्थान से पानी लाना पड़ता है या फिर यहां आने वाले खुद पानी लेकर आते हैं।

Total Pageviews

Follow ME

SAFETY ZONE

SAFETY ZONE

कोशी लाइव

यहाँ आप कोशी क्षेत्र के आसपास सभी जिलों मधेपुरा, सहरसा,सुपौल।तथा अपने प्रखंड ओर पंचायत की सटीक खबरें पढ़ सकते हैं। अगर किसी भी प्रकार की न्यूज़ आपके पास है।तो आप हमें दिए गए नम्बर 9570452002 पर whatsapp द्वारा भेज सकते हैं। -----------संपादक:-स्टॉलिन अमर अक्की www.koshilive.com

Pages