सहरसा :एक साथ जलीं चार चिताएं, मातम - कोशी लाइव

 कोशी लाइव

Madhepura,Saharsa,Supaul Local Web News Media

Breaking

Translate

Monday, 2 July 2018

सहरसा :एक साथ जलीं चार चिताएं, मातम

@स्टालिन_अमर_अक्की

जुलाई माह का प्रथम दिन और पहला रविवार सोनवर्षाराज के लिए काला दिन साबित हुआ। सोनवर्षा हटिया रोड में रविवार की सुबह हुई एक साथ चार मजदूर की दर्दनाक मौत के बाद पूरे बाजार में मातमी सन्नाटा छा गया। संध्याकाल पोस्टमार्टम के बाद आए चारों मजदूरों के शव का एक साथ दाह संस्कार किया गया।इससे पूर्व सुबह घटना की खबर सुन देखने वाले की भीड़ घटनास्थल से लेकर अस्पताल में जुटने लगी। एक साथ हुई चार की मौत की घटना ने लोगों को झकझोर कर रख दिया। मृतक के परिजनों के विलाप से हर आने जाने वाले लोगों की आंखे नम हो जाती थी। सोनवर्षाराज में पहली बार घटी इतनी बड़ी घटना का दृश्य लोग भूल नहीं पा रहे हैं। मृतक मनोज विश्वास को एक डेढ़ साल की लड़की व एक दुधमुंहा पुत्र है। मनोज की पत्नी रीना देवी रोते-रोते बार बार बेहोश हो जा रही है। परिजनों के द्वारा पानी का छींटा मार उसे होश में लाने का प्रयास किया जाता है। दूसरे मृतक रूपेश विश्वास की शादी मात्र दो वर्ष पहले हुई थी। पति की मौत से बदहवास पत्नी कंचन देवी बार-बार यह कह कर बेहोश हो जाती थी कि आब केकरा लाय के रहबय हौ। हमर सुहाग छीन लेलहो हौ भगवान। वहीं मृतक सुजीत की माता रंजू देवी के चीत्कार से लोगों की आंख भी नम हो जा रही है। अपने कमाऊ पुत्र की मौत से आहत मां एक ही बात कहती है कि आब केकरा बेटा कहबय। मुकेश शर्मा दिहाड़ी मजदूरी के साथ आइसक्रीम बेचने का भी काम करता था। चार भाईयों में एक मुकेश की मौत की खबर सुनते ही माता डोमनी देवी व पिता मणि शर्मा की हालत चिंताजनक हो गई है। सभी मृतक के परिजनों को ढ़ाढ़स दिलाने में गांव की महिलाएं जुटी हुई थी। इस घटना से स्थानीय लोग मर्माहत हैं।


रविवार की सुबह सोनवर्षा में नव निर्मित सेप्टिक टैंक में दम घुटने से हुई चार मजदूर की मौत की घटना के बाद स्थानीय पीएचसी परिसर में घंटों अफरातफरी की स्थिति बनी रही। वरीय अधिकारी के बार बार आदेश के बावजूद प्रखंड मुख्यालय मे एक भी पदाधिकारी नही रहते हैं। इस दर्दनाक हादसे के बाद भी लोगों को बीडीओ, सीओ के प्रखंड मुख्यालय स्थित घटनास्थल पर पहुंचने का घंटों इंतजार करना पड़ा। मृतकों के शव को देखने अस्पताल परिसर में एक साथरखें को देखने वालों की अप्रत्याशित भीड़ जुट गई थी। लोगों में प्रशासन के प्रति भी आक्रोश दिख रहा था। हालांकि सोनवर्षाराज पीएचसी को एहतियात के तौर पर पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया। आसपास के थाने से भी पुलिस बलों को सोनवर्षा बुला लिया गया था।सोनवर्षाराज थानाध्यक्ष मो. इजहार आलम, सौरबाजार थानाध्यक्ष मनीष कुमार रजक , बसनही थानाध्यक्ष उमेश प्रसाद ने दल बल के साथ पहुंच कर पीएचसी परिसर में मची अफरातफरी पर काबू पाया। बाद में पहुंचे बीडीओ सुधीर कुमार, सीओ रामवतार यादव, बीएसओ ब्रजकिशोर सदा, इंसपेक्टर सत्य नारायण राय भी अस्पताल परिसर में कैंप कर रहे हैं। सोनवर्षाराज में फिलहाल स्थिति शांत हो गई है।

Follow ME

कोशी लाइव

यहाँ आप कोशी क्षेत्र के आसपास सभी जिलों मधेपुरा, सहरसा,सुपौल।तथा अपने प्रखंड ओर पंचायत की सटीक खबरें पढ़ सकते हैं। अगर किसी भी प्रकार की न्यूज़ आपके पास है।तो आप हमें दिए गए नम्बर 9570452002 पर whatsapp द्वारा भेज सकते हैं। -----------संपादक:-स्टॉलिन अमर अक्की www.koshilive.com

Google+ Followers

Total Pageviews

SAFETY ZONE

SAFETY ZONE

Pages